भारत के खेल की कोलंबियाई कोच ने की तारीफ, कहा ला दिया था हम पर दबाव

PRABHANSHU RANJAN

Publish: Oct, 10 2017 09:22:49 (IST) | Updated: Oct, 10 2017 09:25:32 (IST)

Football
भारत के खेल की कोलंबियाई कोच ने की तारीफ, कहा ला दिया था हम पर दबाव

फीफा विश्व कप में पहली बार शामिल हो रहे भारतीय टीम को कोलंबिया के खिलाफ हार झेलनी पड़ी। लेकिन इसके बाद भी टीम इंडिया ने अपने खेल से सबको प्रभावित किया

नई दिल्ली। फीफा अंडर 17 विश्व कप 2017 के तीसरे दिन भारत का मुकाबला कोलंबिया से हुआ। मुकाबले में भारतीय टीम को 2-1 से हार झेलनी पड़ी। मैच में भारतीय टीम को बेशक हार स्वीकार करनी पड़ी हो, लेकिन भारतीय फुटबालरों ने अपने खेल से दर्शकों के साथ-साथ विपक्षी टीम के खिलाड़ियों का भी दिल जीत लिया। मुकाबले में शानदार बचाव करने के लिए भारतीय गोलकीपर धीरज सिंह और टीम के डिफेंस की काफी तारीफ की जा रही है। मुकाबले के बाद कोलंबिया के कोच ओरलांडो रेसट्रेपो ने भारतीय टीम की तारीफ करते हुए कहा कि भारत के खेल ने हमपर दबाव ला दिया था।

कोलंबियाई कोच ने दी बधाई
मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कोलंबियाई कोच रेसट्रेपो ने टीम इंडिया को बधाई दी। रेस्ट्रेपो ने कहा कि भारतीय टीम ने जब गोल किया तब हम पर दबाव आ गया था। मैं भारतीय टीम और उनके कोच को बेहतरीन खेल और जीतने की ललक के लिए बधाई देता हूं। कोलंबिया की अंडर-17 टीम के कोच के मुताबिक, "हमने शुरुआत में थोड़ा संघर्ष किया, लेकिन इसके बाद हमने कुछ बदलाव किए। अपने मौकों को भुनाने के लिए हमें धैर्य रखना था जो हमने किया और पेनालोजा ने दो बार गोल मारा।" रेस्ट्रेपो ने आगे कहा, "भारत के संगठित खेल से निपटने के लिए हमने पेनालोजा की चपलता का अच्छा इस्तेमाल किया, लेकिन भारत संतुलित टीम थी।"

fifs u 17 wc

माटोस ने जाहिर की खुशी
मैच में भारतीय खिलाड़ियों के प्रदर्शन से मुख्य कोच माटोस भी खुश दिखे। मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में माटोस ने कहा कि मुझे आज अपनी टीम पर गर्व है। यह शानदार मैच था। मैं हमेशा कहता हूं कि आपके पास जीतने का मौका होता है और मुझे लगता है कि हम यह आज कर सकते थे। हालांकि उन्होंने दोबारा गोल कर दिया और हम मैच हार गए। कोच ने कहा, "लेकिन हमने बताया कि हम कोलंबिया के स्तर की फुटबाल खेल सकते हैं।"

 

fifa u 17 wc

रोमांचक मुकाबलें में मिली मात
भारत और कोलंबिया के बीच खेला गया मैच काफी संघर्षपूर्ण मुकाबला साबित हुआ। मैच का अंतिम परिणाम भले ही 2-1 रहा हो, लेकिन दोनों टीमों ने एक-दूसरे को जमकर छकाया। मैच में कोलंबिया के लिए जुयान सेबस्टियन पेनालोजा ने 49वें और 83वें मिनट में किए। भारत के लिए विश्व कप का पहला गोल 82वें मिनट में जैक्सन सिंह थायुनाओजाम ने किया।

सुनील छेत्री ने की तारीफ

सीनियर भारतीय टीम के कप्तान और देश के लिए सबसे ज्यादा अंतरराष्ट्रीय गोल करने वाले सुनील छेत्री ने जैक्सन सिंह के ऐतिहासिक गोल को अपने लिए प्रेरक बताया। छेत्री ने ट्वीट करते हुए कहा कि मैं विश्वस्त नहीं कि किसी भारतीय टीम को गोल करते हुए देखकर मैं इतना खुश हुआ हूं। ये बहुत गर्व करने लायक और बहुत कुछ सीखने लायक है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned