अनोखा मिशाल: बहन ने किडनी देकर भाई को दिया नया जीवन

Chandu Nirmalkar

Publish: Dec, 07 2017 06:08:55 (IST)

Gariaband, Chhattisgarh, India
अनोखा मिशाल: बहन ने किडनी देकर भाई को दिया नया जीवन

राजापारा की सावित्री सिन्हा ने इसे सच कर दिखाया है। सावित्री ने अपनी एक किडनी देकर अपने बड़े भाई की जान बचाई।

गुरु नारायण तिवारी गरियाबंद/देवभोग. कहते हैं कि भाई और बहन का रिश्ता अटूट होता है। इस रिश्ते में इतनी ताकत होती है कि भाई और बहन हर मुश्किल वक्त में एक-दूसरे के लिए खड़े होते हैं। राजापारा की सावित्री सिन्हा ने इसे सच कर दिखाया है। सावित्री ने अपनी एक किडनी देकर अपने बड़े भाई की जान बचाई।

मिली जानकारी के अनुसार सावित्री के बड़े भाई श्यामलाल सिन्हा ओडि़शा के नवरंगपुर जिले के साल्हेभाठा के निवासी है। जब श्यामलाल की तबियत बिगड़ी तो उन्हें विशाखापट्नम के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया। इसके बाद डाक्टरों ने बताया कि श्यामलाल की दोनों किडनी खराब हो गई है। ऐसे में उन्हें बचाया जाना मुश्किल है। सभी ने श्याम के जीने की आस छोड़ दी थी।

जब श्यामलाल की छोटी बहन सावित्री को इसकी जानकारी मिली, तो वह अपने परिवार के साथ रातों-रात विशाखापट्नम के लिए निकल गई। इसके बाद वहां जाकर बिना सोचे समझे उसने निर्णय लिया कि वह अपनी किडनी देकर भाई की जान बचाएंगी। सावित्री बताती हैं कि आज उसे बहुत ज्यादा खुशी मिलती है कि वह अपने भाई के जीवन की रक्षा कर पाई।

जमा पैसा भाई के इलाज में किया खर्च
आशाराम बताते हैं कि जब सितंबर के माह में सावित्री के भाई की तबियत खराब होने की खबर आई। इसके बाद सावित्री ने अपने एक साल में पाई-पाई जोड़कर बचाए हुए पैसे अपने भाई के इलाज के लिए इक_ा किए गए सारे पैसे दे दिया।

हर रोज भाई के लंबी उम्र के लिए करती हैं प्रार्थना
भाई की जान बच गई इसके लिए वह बहुत ज्यादा खुश है। वह ईश्वर से और कुछ नहीं चाहती। वहीं, वे आज भी हर रोज पूजा के दौरान अपने भाई की लंबी उम्र की प्रार्थना करने से पीछे नहीं हटती।

दुनिया को दिया रिश्तों का संदेश
पेशे से किसान सावित्री के पति आशाराम सिन्हा भी पत्नी के निर्णय खुश हैं। आशाराम के मुताबिक जब डाक्टर किडनी को लेकर चर्चा कर ही रहे थे और परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। उसी दौरान सावित्री ने बिना किसी से चर्चा किए डाक्टरों के बीच ही कह दिया कि वह किडनी देकर अपने भाई की जान बचाएंगी। सावित्री ने इतना बड़ा कदम उठाया है। इसे देखने के बाद सावित्री की इज्जत उनके पति के नजर में और बढ़ गई है। वहीं सावित्री के दोनों बेटों का भी कहना है कि उनकी मां ने दुनिया को एक संदेश दिया है कि भाई-बहन का रिश्ता अटूट होता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned