कथा वाचक देवकीनंदन ठाकुर की बढ़ी परेशानी, दलित समाज ने उनके खिलाफ की ये बड़ी घोषणा

कथा वाचक देवकीनंदन ठाकुर की बढ़ी परेशानी, दलित समाज ने उनके खिलाफ की ये बड़ी घोषणा

Iftekhar Ahmed | Publish: Sep, 30 2018 07:31:49 PM (IST) | Updated: Sep, 30 2018 07:31:50 PM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

दलितों ने देवकीनंदन के पोस्टर पर कालिख पोतकर अपना विरोध जताया

मुरादाबाद. आरक्षण के खिलाफ विगुल बजाने वाले कथा वाचक देवकीनंदन ठाकुर के खिलाफ अब दलित संघठन ने भी मोर्चा खोल दिया है। भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज के लोगों ने देवकीनंदन के पोस्टर पर उनके मुंह पर कालिख पोतकर अपना विरोध जताया। प्रदर्शन कर रहे लोगों ने कहा कि देवकीनंदन ठाकुर समाज में बंटवारे की खाई खोद रहे हैं, जबकि देश में संविधान और कानून का राज है और यह उस को चैलेंज कर रहे हैं। इसलिए उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें- कांग्रेस पार्टी के इस अनोखे प्रदर्शन को देखकर लोग नहीं रोक पाए अपनी हंसी

भावाधस के राष्ट्रीय निदेशक लल्ला बाबू द्रविण ने कहा कि अगर सरकार देवकीनंदन ठाकुर पर कोई कार्रवाई नहीं करती है तो दलित संगठन उसे अपने हिसाब से संभालेंगे। गौरतलब है कि पिछले दिनों देवकीनंदन ठाकुर ने एससी-एसटी एक्ट के विरोध में मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था। इसके अलावा उन्होंने भारत बंद का भी आह्वान किया था, जिसका असर देश के कई शहरों में देखने को मिला था। वहीं, इस दौरान कई शहरों में काफी हिंसा भी देखने में आई थी।

यह भी पढ़ें- चुनाव से पहले मोदी सरकार को लगा बड़ा झटका, सरकारी जुमले से परेशान इस संगठन ने किया ये बड़ा ऐलान

आगरा में हुए थे गिरफ्तार
इस दौरान आगरा में प्रेस वार्ता करने जा रहे देवकीनंदन ठाकुर को आगरा पुलिस ने गिरफ्तार भी किया था और उन्हें बिना अनुमति के कार्यक्रम नहीं करने की चेतावनी देते हुए निजी मुचलके पर छोड़ दिया था।

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी के खिलाफ आजम खान ने दिया बड़ा बयान, वीडियो देखकर भाजपाइयों को लग सकता है झटका

दलित समाज एकजुट
अब देवकीनंदन ठाकुर के खिलाफ दलित समुदाय के लोग भी एकत्रित होने लगे हैं। जिसकी शुरुआत मुरादाबाद से भावाधस ने की है। इस दौरान भावाधस के नेताओं ने कहा कि देवकीनंदन ठाकुर जैसे कथा वाचक भारतीय कानून और संविधान को नहीं मानते हैं। यह समाज में भाईचारे को बिगाड़ना चाहते हैं और दलित और सवर्ण वर्ग में मनमुटाव कर अपना निजी लाभ लेना चाह रहे हैं। अब दलित समाज ऐसे लोगों को जवाब देगा। सरकार को चाहिए कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर उन्हें जेल भेजा जाए, ताकि भविष्य में ऐसा करने वाले सचेत रहें। यही नहीं उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि अब देवकीनंदन ठाकुर के खिलाफ सड़कों पर उतरे तो उन्हें अपनी तरीके से सबक सिखाएगा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned