Handwara Attack : पापा ने कहा था- साइकिल लाऊंगा इस बार...

- जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा जिले के काजियाबाद में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकियों ने किया हमला
- गाजीपुर का लाल अश्वनी कुमार यादव समेत तीन जवान हुए शहीद
- पत्नी ने कहा- बेटी को डॉक्टर बनाना चाहते थे अश्वनी
- भाई ने कहा- मौका मिला तो मैं भी देश सेवा में जाऊंगा
- सीएम योगी का ट्वीट- आप पर हम सभी को गर्व है

By: Hariom Dwivedi

Updated: 05 May 2020, 06:21 PM IST

गाजीपुर. आतंकियों के हमले में गाजीपुर का लाल शहीद हो गया। जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा जिले के काजियाबाद में सोमवार की शाम पेट्रोलिंग के दौरान घात लगाकर बैठे आतंकियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हमला बोल दिया, जिसमें अश्वनी कुमार यादव समेत तीन जवान शहीद हो गये। गाजीपुर जिले में नोनहरा थाना क्षेत्र के बभनौली गांव के निवासी अश्वनी कुमार यादव वर्ष 2005 में इलाहाबाद के फाफामऊ में सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे। जवान के शहादत की खबर मिलते ही परिवार समेत पूरे जिले में शोक की लहर दौड़ गई, पर लोग दुखी तो थे लेकिन उनका चेहरा गर्व से दमक रहा था। शहीद की पत्नी ने कहा कि वह बेटी को डॉक्टर बनाना चाहते थे वहीं, मासूम ने कहा कि पापा बोलकर गये थे कि जब वापस आएंगे तो साइकिल खरीदेंगे। शहीद के एक बेटी और एक बेटा है। दो भाई हैं जो खेती के साथ ही भर्ती और अन्य कम्पटीशन की तैयारी कर रहे हैं।

सीआरपीएफ के शहीद जवान अश्वनी कुमार यादव का शव देर शाम गाजीपुर स्थित उनके पैतृक घर में पहुंच सकता है। शहीद के भाई ने रोते हुए बताया कि सोमवार देर शाम उन्हें भाई के शहादत की खबर मिली थी। हम दुखी तो हैं लेकिन भैया पर गर्व है, जिन्होंने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिये। कहा कि अगर मौका मिला तो हम देश सेवा के लिए फौज में जाएंगे। पति के शहादत की खबर सुनते ही पत्नी बेसुध हो गई थी। होश में आने पर बताया कि घटना के दो घंटे पहले उनसे फोन पर बात हुई थी और उन्होंने ड्यूटी खत्म होने की बात कही थी। साथ ही वादा किया था कि इस बार जब छुट्टी पर आएंगे तो बेटी को साइकिल लाकर देंगे। बताया कि वह अपनी बेटी को डॉक्टर बनाना चाह रहे थे। उनकी ख्वाहिश थी कि बेटी के नाम के साथ उनका भी नाम जुड़े।

ग्रामीणों में जगाते थे देशभक्ति
अश्वनी के साथ फौज में भर्ती होने गये उनके मित्र बलवंत ने बताया कि हम दोनों साथ में ही भर्ती होने गए थे, लेकिन मेरिट में छंटनी की वजह से मेरा सिलेक्शन नहीं हो था। उन्होंने बताया कि अश्वनी बहुत ही बढ़िया स्वभाव के थे और गांव में आकर यहां के युवाओं को भर्ती के लिए प्रेरित करते थे। जिन युवाओं के पास पैसे की कमी होती थी, उन्हें अपने पास से पैसा देकर उन्हें भर्ती का फॉर्म भरवाते थे। शहादत पर परिजनों को सांत्वना बंधाने पहुंचे जिला पंचायत सदस्य कमलेश यादव ने कहा कि अश्वनी के शहीद होने से हमारे क्षेत्र को बहुत ही नुकसान हुआ है। हम चाहेंगे कि सरकार पाकिस्तान से इसका बदला जरूर ले।

हम सभी को आप पर गर्व है : सीएम योगी
राष्ट्र की रक्षा करते हुए जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान अश्विनी कुमार यादव, संतोष कुमार और चंद्रशेखर सी. के शौर्य और वीरता को नमन। राष्ट्र के प्रति आपका यह बलिदान अतुल्य है। हम सभी को आप पर गर्व है। जय हिंद!- योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री उप्र

Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned