गोरखपुर पहुंचे सीएम योगी, महंत दिगविजय नाथ की मनाई 125वीं जयंती, कहा- गुरूजनों ने ज्ञान की परंपरा को आगे बढ़ाया

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने तीन दिवसीय दौरे पर गोरखपुर पहुंचे हैं।

 

गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को अपने तीन दिवसीय दौरे पर गोरखपुर पहुंचे। यहां उन्होंने ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की 51वीं पूण्यतिथि के आयोजन में शामिल हुए। यहां उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि महंत दिग्विजयनाथ ने अपने जीवन में सामाजिक समरसता का संदेश दिया। हमें उनके जीवन से प्रेरणा लेते हुए आदर्श स्थापित करने की कोशिश करनी चाहिये। उन्होंने कहा क गुरूजनों ने ज्ञान की परंपरा का आगे बढ़ाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि महंत दिग्विजयनाथ्ज्ञ ने अपने जीवन में सामाजिक समरसता का संदेश दिया है। हम सबको उनके जीवन से प्रेरणा लेते हुए औरों के लिये आदर्श स्थापित करने की कोशिश करनी चाहिये। सीएम योगी ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और ब्रह्मलीन अवैद्यनाथ की पूण्यतिथि में शामिल होने के अलावा कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निरिक्षण करेंगे।

 


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की 51 वीं पुण्‍यतिथि के मौके पर गोरखनाथ मंदिर में आयोजित कार्यक्रम को सम्‍बोधित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी का जिक्र भी किया। उन्होंने कहा कि कोरोना का मतलब सबकुछ बंद कर देना नहीं। चुनौतियों के आगे चलने से सफलता मिलती है, चुनौतियों से भागने से नहीं। कोरोना कालखंड ने हमें चुनौतियां दी हैं ताे अवसर भी दिये हैं। उन्होंने तकनीक से आम आदमी के जीवन को बेहतर बनाने की बात कही। कोविड-19 की चुनौतियों के बीस संस्थाओं के अच्छे प्रयासों का जिक्र करते हुए कहा कि इसमें सभी को रूची लेनी चाहिये।

 

 

नाॅन कोविड अस्पताल भी निभाएं अपनी भूमिका

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोरोना काल में कोविड-19 अस्पताल कोरोना के इलाज में जुटे हैं। उन्होंने नाॅन कोविड अस्पतालों को भी कोरोना से बचने के उपाय करने की बात कही। शिक्षण संस्थाओं में भी कोरोना काल में नियमित साफ-सफाई और प्रयोगशालाओं का रख रखाव व भवनों की मरम्मत करने की बात कही। कहा कि छह सात माह बाद जब बच्चे आएं तो उन्हें अपना स्कूल काॅलेज बदला-बदला सा लगे।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned