प्रेमिका संग होटल में आपत्तिजनक हालत में था कैदी, दूसरे कमरे में पुलिस उड़ा रही थी दावत

हरदोई से पेशी पर आया था हत्या का आरोपी, गोरखपुर के होटल में प्रेमिका संग पकड़ा गया।

गोरखपुर. यूपी के गोरखपुर जिले के कैंट थाने की पुलिस ने जब होटल पर छापेमारी की तो उस वक्त एक हत्यारोपी कैदी अपनी प्रेमिका के साथ एक कमरे में गुलछर्रे उड़ा रहा था। जब पुलिस पहुंची तो वो प्रेमिका के साथ था, जबकि आगे के कमरे में पुलिस के सिपाही दावत उड़ा रहे थे। प्रेमिका के साथ कमरे में मौजूद कैदी हरदोई जेल में बंद हत्यारोपी कामेश्वर सिंह था जिसे वहां की पुलिस देवरिया जिले की कोर्ट में पेशी पर लायी थी। लेकिन जिल पुलिसकर्मियों पर कैदी कामेश्वर को कड़ी सुरक्षा में कोर्ट में पेश कर वापस ले जाना था वही उसके साथ दावत उड़ाते और उसे मौज कराते मिले। होटल में हत्यारोपी, उसकी प्रेमिका, दो-तीन साथी और तीन पुलिस वाले पकड़े गए। पर लिखा पढ़ी के बाद छोड़ दिया गया। जानकारी के मुताबिक उधर इनके पकड़े जाने की सूचना जब हरदोई के पुलिस को दी गयी तो उसके बाद तीनों सिपाही सस्पेंड कर दिये गए।

कैंट थाने की पुलिस के अनुसार देवरिया के गौरीबाजार थानान्तर्गत पथरहट निवासी कामेश्वर सिंह गांव के अरुण सिंह और रमेश सिंह की हत्या का आरोपी है। हद तो यह कि जिस प्रेमिका के साथ वह होटल में था उसके पति विवेक सिंह की हत्या का आरोप भी कामेश्वर पर है। वह अरुण और विवेक की हत्या मामले में जमानत पर है, जबकि रमेश मर्डर केस में उसे जमानत नहीं मिली है। सोमवार को रमेश सिंह की हत्या के मामले में ही उसे पेशी के लिये हरदोई पुलिस देवरिया कोर्ट लेकर पहुंची थी।

बताया गया है कि जिस अरुण सिंह की हत्या का आरोप कामेश्वर पर है उसी के बेटे दीपक सिंह ने उसके होटल में मौज मस्ती की सूचना पुलिस को दे दी। इसके बाद कैंट पुलिस ने होटल पर छापा मारा तो वहां कामेश्वर आपत्तिजन हालत में मिला, जबकि सिपाही आनंद सिंह, अभय सिंह और अमन कुमार आगे के कमरे में दावत उ़ड़ाते मिले। तीनों को हिरासत में लेकर लिखापढ़ी की गयी और फिर सिपाहियों के साथ कामेश्वर को हरदोई जेल रवाना कर दिया गया।

आरोप है कि हत्यारोपी कामेश्वर सिंह ने पहले से ही सब तय कर रखा था। दो साथियों की मदद से प्रेमिका होटल पहुंच गयी थी। कामेश्वर प्रेमिका के साथ होटल के एक कमरे में था, जबकि दूसरे कमरे में सिपाही और उसके साथी दावत उड़ा रहे थे। पलिस ने प्रेमिका और उसके दो साथियों को छोड़ दिया।

By Correspondence

Show More
रफतउद्दीन फरीद Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned