scriptFertilizer crisis: Farmers jammed outside Nanakheda Agricultural Produ | खाद महासंकट : जिला मुख्यालय पर नानाखेड़ा कृषि उपज मंडी वितरण केंद्र के बाहर किसानों ने लगाया जाम | Patrika News

खाद महासंकट : जिला मुख्यालय पर नानाखेड़ा कृषि उपज मंडी वितरण केंद्र के बाहर किसानों ने लगाया जाम

- 4 घंटे से भी ज्यादा समय तक नानाखेड़ी रोड से नहीं गुजर सके आम जनता के वाहन

- ग्वालियर-शिवपुरी मार्ग हुआ अवरुद्ध , सूचना मिलने के बाद प्रशासनिक अधिकारी व पुलिस मौके पर पहुंची

-मंडी के बाहर 200 से अधिक किसान जमा -

रविवार को प्रशासन ने जिन वितरण केंद्रों के नाम सोमवार को खाद वितरण में दिए थे उनमें नानाखेड़ी मंडी नहीं थी

 

गुना

Updated: October 26, 2021 12:23:38 pm

गुना. प्रशासनिक अव्यवस्था और कुप्रबंधन का खामियाजा किसानों के साथ-साथ आम जनता को भी भुगतना पड़ रहा है। जिसका ताजा उदाहरण सोमवार को जिला मुख्यालय पर देखने को मिला। नानाखेड़ी कृषि उपज मंडी वितरण केंद्र पर खाद (डीएपी) न बंटने से नाराज सैकड़ों किसानों ने चक्काजाम कर दिया। मंडी गेट से लेकर रिलायंस पेट्रोल पंप तक पूरा एबी रोड जाम हो गया। जिससे ग्वालियर और शिवपुरी जाने वाले वाहन भी नहीं निकल पा रहे थे। यह चक्काजाम करीब 4 घंटे से भी अधिक समय तक चला। अधिकारी लगातार किसानों को समझाने का प्रयास करते रहे कि इस वितरण केंद्र पर वास्तव में खाद नहीं है इसलिए वितरण नहीं हो रहा है। लेकिन किसानों को विश्वास नहीं हो रहा था। जिसके कारण ही यह जाम 4 घंटे से ज्यादा समय तक चला।
इस दौरान कुछ किसानों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। साथ ही हमारी मांगें पूरी करो, हमें डीएपी खाद चाहिए, के नारे लगाए। यही नहीं अधिकारियों के सामने ही मुख्यमंत्री का पुतला तक फूंक दिया। किसानों का आक्रोश और बड़ी संख्या में मौजूदगी को देखते हुए पुलिस ने भी रोकने का प्रयास नहीं किया जाम लंबा खिंचते देख एसडीएम और सीएसपी ने किसानों से एक बार फिर बातचीत कर समझाने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि जब तक आप यहां बैठे रहोगे तब तक हम भी यहां बैठे रहेंगे, इससे कोई हल नहीं निकलेगा। इसलिए आप इस बात को समझें कि वास्तव में खाद स्टॉक में नहीं हैं। तुम चाहो तो गोदाम देख लो। जिस पर कुछ किसान अधिकारियों के साथ मंडी के अंदर विपणन संघ के वेयर हाउस में गए और देखने के बाद जाम हटाया और लौट गए।

खाद महासंकट : जिला मुख्यालय पर नानाखेड़ा कृषि उपज मंडी वितरण केंद्र के बाहर किसानों ने लगाया जाम
खाद महासंकट : जिला मुख्यालय पर नानाखेड़ा कृषि उपज मंडी वितरण केंद्र के बाहर किसानों ने लगाया जाम
किसानों को नहीं पता था आज यहां नहीं बंटेगा खाद
जानकारी के मुताबिक प्रशासन ने शनिवार की देर शाम मीडिया में प्रकाशन के लिए एक प्रेस नोट जारी कर 28 वितरण केंद्रों के नाम सार्वजनिक किए थे। जिनमें राज्य विपणन संघ का कोई भी वितरण केंद्र शामिल नहीं था। प्रशासन ने जिन 28 वितरण केंद्रों के नाम दिए थे उनमे प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियां थी। यह जानकारी एक दिन पहले यानि कि शुक्रवार को खाद लेने आए किसानों को वितरण केंद्र पर नहीं दी गई और न ही ब्लॉक व गांव में किसी माध्यम से जानकारी भेजी गई। यही कारण रहा कि किसानों को यही नहीं पता था कि शनिवार और रविवार के अवकाश के बाद भी सोमवार को नानाखेड़ी मंडी पर खाद वितरण नहीं होगा। आमतौर किसान मंडी में अपनी उपज बेचने आते हैं इसी दौरान वे खाद भी साथ ले जाते हैं। यही सोचकर एक सैकड़ा से अधिक किसान सोमवार अलसुबह अपने घर से निकल गए और 8 बजे तक नानाखेड़ी मंडी पहुंच गए। यहां आकर उन्हें पता चला कि आज यहां खाद नहीं बंटेगा। यह सुनते ही किसानों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। थोड़ी ही देर में 200 से अधिक किसान ट्रेक्टर ट्रॉली सहित इकट्ठे गए। विरोध स्वरूप चक्काजाम लगा दिया। यही नहीं पुतले का भी दहन किया।
-

मंडी गेट पर गाडिय़ां खड़ी कर लगाया जाम
जरुरत के समय खाद न मिलने से किसान काफी ज्यादा नाराज थे। उन्होंने मंडी गेट पर अपनी गाडिय़ां खड़ी कर रोड जाम कर दी और खुद सड़क पर ही बैठ गए। किसानों ने बताया कि उन्हें इस समय डीएपी की बहुत ज्यादा जरुरत है। रबी की बोवनी के लिए खेत तैयार हो चुके हैं।
इस समय उन्हें डीएपी की बहुत ज्यादा जरुरत है लेकिन 5 से 10 दिनों तक चक्कर लगाने के बाद भी खाद नहीं मिल पा रही है। किसानों ने अधिकारियों से पूछा कि उन्हें कब खाद मिलेगा तो वह सही जवाब नहीं दे पाए।
-
आमजन को यह आई परेशानी
किसानों द्वारा लगाए गए जाम से ग्वालियर और शिवपुरी की तरफ जाने वाला मार्ग बंद हो गया। जिससे स्थानीय नागरिकों को भी काफी चक्कर लगाकर दूसरे रास्तों से जाना पड़ा।
-
पुलिस तो तैनात कर दी लेकिन पेयजल के इंतजाम नहीं
जिले के रुठियाई कस्बे में सोमवार को एक निजी दुकान पर खाद विक्रय किया जा रहा था। जहां किसानों की काफी ज्यादा संख्या थी। जिससे आसपास के दुकानदारों को भी खासी परेशानी झेलनी पड़ी। वहीं किसानों की भीड़ देखते हुए पुलिस मौजूद थी लेकिन किसानों की सुविधा का कोई ख्याल नहीं रखा गया। सुबह से भूखे ही लाइन में लगे किसानों को पीने का पानी तक उपलब्ध नहीं था। कई बुजुर्गों की लाइन में खड़े होने की स्थिति तक नहीं थी।
-
निजी दुकानों पर ब्लैक में बिक रहा खाद
ग्रामीण क्षेत्र की सहकारी समितियों पर भी खाद नहीं मिल रहा है। इसलिए किसानों को निजी दुकानों से औने-पौने दामों पर खाद खरीदना पड़ रहा है। निर्धारित कीमत से 250 रुपए तक विक्रेता वसूल रहे हंै।
दीपक शर्मा, किसान
-
निजी दुकान संचालक पीओएस मशीन में 10 कट्टे चढ़ाकर 8 ही दे रहे हैं। वहीं खाद की पक्की रसीद भी नहीं दे रहे। वहीं वितरण भी काफी धीमी गति से हो रहा है, जिससे किसानों को लंबी लाइन में लगने में बहुत ज्यादा दिक्कत आ रही है।
प्रदीप यादव, किसान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: ITBP के जवानों ने -40 डिग्री टेम्प्रेचर में मनाया गणतंत्र दिवस, 15 हजार फीट की ऊंचाई पर लहराया तिरंगाRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदRepulic Day 2022: जानिए क्या है इस बार गणतंत्र दिवस की थीमस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर इस बार परंपराओं में बदलाव, जानिए परेड में आपको पहली बार कौन सी चीजें दिखेंगीपद्मश्री दुर्गाबाई ने खर्च चलाने घरों में किया झाड़ू-पोंछा, लॉकडाउन में लेना पड़ा कर्जआधार कार्ड: यूआईडीएआई से ऐसे ऑर्डर करें वैलिड पीवीसी आधार कार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.