'स्लाटर हाउस को पहले सर्वसुविधायुक्त बनाएं फिर प्रशासन विक्रेताओं को करें शिफ्ट'

लंबे समय बाद प्रशासन मीट विक्रेताओं को स्लाटर हाउस में शिफ्ट करने की कर रहा है तैयारी...

By: Narendra Kushwah

Updated: 09 Dec 2019, 10:58 AM IST

गुना. निचला बाजार क्षेत्र के मीट विक्रेताओं को स्लाटर हाउस में एक बार फिर शिफ्ïट किए जाने की प्रशासन की पहल तो अच्छी है लेकिन पहले इसकी कमियों को दूर किया जाना बेहद जरूरी है। क्योंकि इसके बिना यह बदलाव पूरी तरह से संभव नहीं है।

वर्षों पहले बनाया गया स्लाटर हाउस वर्तमान में जीर्णशीर्ण हालत में है। मीट विक्रेताओं के अनुसार न तो स्लाटर हाउस की बनावट सही है और न ही यहां जरूरी सुविधाएं उपलब्ध हैं। यही कारण है कि स्लाटर हाउस में मीट विक्रेता ज्यादा दिन नहीं टिक पाए।

मीट विक्रेताओं ने बताया कि यदि प्रशासन स्लाटर हाउस को उनके अनुकूल तथा सर्वसुविधा युक्त तैयार कर देता है तो किसी भी दुकानदार को वहां जाने में कोई दिक्कत नहीं होगी।

जानकारी के मुताबिक स्वच्छता सर्वेक्षण अंतर्गत प्रदेश के टॉप टेन शहरों में गुना सिटी को शामिल कराने की जद्दोजहद में इन दिनों पूरा प्रशासन लगा हुआ है।

प्रथम चरण की कवायद पूरी होने के बाद अब प्रशासन रिहायशी इलाके में अतिक्रमण हटाने व स्वच्छता पर जोर दे रहा है। जिसे लेकर हाल ही प्रशासन ने एक बैठक आयोजित कर निचला बाजार क्षेत्र स्थित स्लाटर हाउस में मीट विक्रेताओं को शिफ्ट कराने की बात कही है।

हालांकि इस तरह के प्रयास पूर्व में भी प्रशासन कर चुका है लेकिन यह बदलाव ज्यादा दिन नहीं चल पाया। इस गंभीर समस्या को लेकर पत्रिका ने दुकानदार, खटीक समाज के पदाधिकारी व स्थानीय पार्षद से बात की। जिसमें सामने आया कि प्रशासन की यह पहल तो अच्छी है लेकिन इसका शत प्रतिशत पालन कराने के लिए प्रशासन को मीट विक्रेताओं की सुविधा का भी ख्याल रखना होगा।

क्योंकि निचला बाजार क्षेत्र में जो स्लाटर हाउस है वह काफी पुराना है। जहां बिजली, पानी व सफाई से लेकर कई तकनीकी खामियां दुकानदारों ने बताई हैं। जिन्हें प्रशासन को पहले दूर कराना होगा। इसके बाद ही दुकानदार यहां शिफ्ट हो सकेंगे। साथ ही इस बात का भी ख्याल रखना होगा कि कोई भी दुकानदार स्लाटर हाउस के बाहर से मीट विक्रय न करे।

ऐसी स्थिति पूर्व में निर्मित हो चुकी है जिसकी वजह से अन्य दुकानदारों ने भी बाहर मीट बेचना शुरू कर दिया था। धीरे धीरे सभी दुकानदार स्लाटर हाउस के बाहर आ गए। उधर स्लाटर हाउस कबाडख़ाने में तब्दील हो गया। वर्तमान में स्लाटर हाउस के आसपास काफी गंदगी है। जिसके कारण यहां रहने वाले लोगोंं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नगर पालिका द्वारा स्लाटर हाउस के आसपास नियमित रूप से सफाई नहीं करवाई जा रही है। यह पूरा क्षेत्र ट्रेचिंग ग्राउंड में तब्दील हो गया है। वर्तमान में यह स्थिति है कि इस मार्ग से लोगों ने निकलना तक बंद कर दिया है।

निर्माण कराने के बाद व्यवस्था को कायम नहीं रख सका प्रशासन
स्थानीय नागरिकों के अनुसार प्रशासन ने कई साल पहले निचला बाजार क्षेत्र में मीट विक्रेताओं के लिए लाखों रुपए खर्च कर स्लाटर हाउस बनावाया। जिसमें मीट विक्रेताओं को भी शिफ्ट कराया गया लेकिन यह व्यवस्था ज्यादा दिन नहीं चल सकी। कुछ दुकानदार धीरे धीरे अपने स्थान से हटकर बाहर मीट बेचने लगे। ऐसे में अन्य विक्रेताओं की ग्राहकी पर प्रतिकूल असर पड़ा तो वे भी स्लाटर हाउस से बाहर आ गए।

जरा इनकी भी सुनें
स्लाटर हाउस काफी पुराना है। जिसमें दुकानदारों के हिसाब से काफी कमियां हैं। जिन्हें पहले दूर किया जाना जरूरी है। सभी जरूरी सुविधाएं मिलने पर दुकानदारों को यहां शिफ्ट होने पर कोई दिक्कत नहीं है।
- पप्पू चौधरी, जिलाध्यक्ष,खटीक समाज गुना

स्लाटर हाउस में मीट विक्रेताओं को शिफ्ट करने की यह पहल तो प्रशासन की अच्छी है लेकिन पहले उसे दुकानदारों के अनुसार सर्वसुविधायुक्त बनाना जरूरी है।
- वीरू चौधरी, जिलाध्यक्ष , युवा खटीक समाज

प्रशासन चाहता है कि मीट विक्रेता स्लाटर हाउस में शिफ्ट हों। इस व्यवस्था परिवर्तन में किसी भी दुकानदार को आपत्ति नहीं है बस इसका पालन ठीक तरह से होना चाहिए ताकि कोई बाहर से मीट विक्रय न करे। ऐसा होने से क्षेत्र में साफ सफाई भी ठीक तरह से हो सकेगी।
- सरिता ग्वाल, पार्षद वार्ड-6

Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned