साबरमती आने से ठीक पहले टूटी पटरी, पायलेट और असिस्टेंट की सतर्कता से टला हादसा

-४५ मिनट साबरमती और एक घंटा खड़ी रही कोटा-बीना पैसेंजर

गुना. रेलवे स्टेशन गुना के प्लेट फार्म एक पर सोमवार को अचानक रेल लाइन टूट गई। जिस समय पटरी टूटी, उसी समय साबरमती आ रही थी। पायलेट और सहायक पायलेट की सूझबूझ से एक्सप्रेस को प्लेट फार्म पर आने से पहले रोका गया, थोड़ी भी देर हो जाती तो इंजन और बोगी बेपटरी हो सकते थे। साबरमती एक्सप्रेस और कोटा-बीना पैसेंजर को 45-45 मिनट रोककर निकाला।


दरअसल, सुबह करीब 11.35 बजे प्लेट फार्म एक पर साबरमती ट्रेन का सिग्नल हो चुका था। गाड़ी को गुना से बीना ले जाने के लिए पायलेट राजेंद्र कुमार, असिस्टेंट पायलेट एसपी निराला आगे पहुंचकर खड़े थे कि अचानक पटरी बे्रक हो गई। उन्होंने वायरलेस सेट से ट्रेन को बीच में रोकने की सूचना दी। इसके बाद ट्रेन प्लेट फार्म एक पर आती, इससे पहले ही उसे दिया। करीब 45 मिनट में पटरी पर क्लैंप लगाए और ट्रेन को दोपहर 12.34 मिनट पर रवाना किया।


पैसेंजर को भी रोका
कोटा-बीना पैसेंजर को भी गुना स्टेशन पर रोकना पड़ा। पैसेंजर को करीब एक घंटा तक प्लेट फार्म एक पर ही खड़े रखा। दरअसल, रिपेयरिंग में काफी वक्त लगा। पटरी को फिर से जोड़ा गया है। जोडऩे के बाद सावधानी से ट्रेनों को निकाला जा रहा है।
जहां पटरी टूटी, वहां स्लीपर में भी गड़बड़ी
9 दिसंबर को जहां पटरी टूटी है, वहां स्लीपरों में भी गड़बड़ी है। सूत्रों ने बताया, प्लेट फार्म एक पर सीमेंट का बेस बनाया है। यहां जल्दबाजी में काम किया गया। उसमें स्लीपर सेट करने में गड़बड़ी हुई। ट्रेन निकालने में स्लीपर बैठक ले जाते हैं। ट्रैक भी 52 केजी का है। जबकि रुठियाई से बीना के बीच 60 केजी का ट्रैक किया जा रहा है। गुना स्टेशन का ट्रैक अपडेट नहीं हो सका।

Show More
Mohar Singh Lodhi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned