भक्त शिरोमणी कर्मा देवी जयंती पर निकला चल समारोह

भक्त शिरोमणी कर्मा देवी जयंती पर निकला चल समारोह

Yogendra Sen | Publish: Mar, 14 2018 11:16:14 AM (IST) Guna, Madhya Pradesh, India

भक्तशिरोमणी मां कर्मा देवी जयंती पर मंगलवार को साहू समाज ने शहर में चल समारोह निकाला गया। चल समारोह में बड़ी संख्या में समाज के महिला-पुरुष शामिल रहे।

गुना. भक्तशिरोमणी मां कर्मा देवी जयंती पर मंगलवार को साहू समाज ने शहर में चल समारोह निकाला गया। बैंड-बाजों के साथ निकले चल समारोह में बड़ी संख्या में समाज के महिला-पुरुष शामिल रहे। भजनों की धुन पर जगह-जगह युवाओं ने नृत्य किया। इससे पहले एबी रोड स्थित प्रीतम वाटिका से शुरु हुए चल समारोह का जगह-जगह स्वागत किया गया। चल समारोह अम्बेडकर भवन, हनुमान चौराहा, हाट रोड, सदर बाजार, जयस्तंभ चौराहा आदि स्थानों से होते हुए पुन: शुभारंभ स्थल पर पहुंचा। यहां भंडारे का आयोजन रखा गया। इस मौके पर समाज के अध्यक्ष रामेश्वर साहू, युवा संगठन अध्यक्ष पप्पू साहू, युवा संगठन के संरक्षक राजेश साहू, फूलसिंह साहू, दिनेश साहू सहित आसपास के गांवों से बड़ी संख्या में समाज पहुंचे।

कथा में सुनाई गोकुल वियोग और कंस वध की लीलाएं
इधर, शहर की हनुमान टेकरी सरकार पर चल रही संगीतमय श्रीमद भागवत कथा के दौरान मंगलवार को कथा प्रवक्ता पंडि़त संतोष महाराज ने भगवान श्री कृृष्ण की गोकुल वियोग एवं कंस वध की कथाओं का रोचक वर्णन किया। इस दौरान उन्होंने भगवान श्री कृृष्ण के विवाह का प्रसंगों के बीच वर्णन किया। हनुमान टेकरी पर पिछले 8 मार्च से शिवपुरी निवासी प्रकाशचन्द्र गुप्ता द्वारा श्रीमद् भागवत कथा ज्ञानयज्ञ का आयोजन कराया जा रहा है।

कथा प्रवक्ता पं. संतोष महाराज ने छटवें दिन भगवान श्री कृृष्ण के गोकुल से वियोग पर राधा, ग्वाल से बिछुडने की लीलाओं का रोचक प्रसंगों का वर्णन करते हुए कहा कि कान्हा तुम वापस कब आओगे...। कथा के दौरान महाराज ने भगवान के मथुरा पहुंचने पर लोगों के भाव विभोर हेाने के प्रसंगो का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि मथुरा का उद्धार और कंस वध करने की भगवान श्रीकृृष्ण की अद्भुद लीला है। कथा में उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृृष्ण ने गुरुकूल में 64 दिन मे 64 विधाएं ग्रहण की थी। कथा के दौरान प्रकाशचन्द्र गुप्ता के पुत्र न्यायाधीश रविन्द्र गुप्ता ने भी अपने परिजनों के साथ कथा का श्रवण किया।

Ad Block is Banned