गृहमंत्री ने गुरुग्राम से की देश भर में स्टूडेंट पुलिस कैडेट कार्यक्रम की शुरूआत

यह कार्यक्रम पुलिस व जनता के बीच सौहार्दपूर्ण संबंध की मजबूत नींव स्थापित करेगा...

By: Prateek

Published: 22 Jul 2018, 03:25 PM IST

(गुरुग्राम): केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुग्राम से देश भर में स्टूडेंट पुलिस कैडेट(एसपीसी) कार्यक्रम की शुरूआत की। उन्होंने विद्यार्थियों में नैतिक मूल्य विकसित कर उन्हे अनुशासित बनाने पर जोर दिया ताकि बच्चे आगे चलकर नए भारत के निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकें।

 

राजनाथ सिंह गुरुग्राम में एसपीसी कार्यक्रम के राष्ट्रीय लांच समारोह में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। इस एसपीसी कार्यक्रम को शुरूआती चरण में देश में सभी शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों के सरकारी स्कूलों में लागू किया जाएगा जिसके लिए प्रत्येक स्कूल को 50 हज़ार रूपये की राशि शैक्षणिक सहायता, प्रशिक्षण और आकस्मिक खर्च के लिए उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके बाद इस कार्यक्रम को देश के सभी स्कूलों में शुरू किए जाने की योजना है। इस कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए 67 करोड़ रूपये की राशि राज्यों को जारी की गई है। एसपीसी कार्यक्रम के माध्यम से समाज के हर व्यक्ति द्वारा कानून का पालन स्वैच्छा से करने पर बल देने के साथ साथ अपराध की रोकथाम और नियंत्रण सहित नैतिक मूल्यों पर ध्यान केन्द्रित किया गया है। इस साल यह कार्यक्रम देश के सभी राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों में पॉयलेट आधार पर चलाया जाएगा।

 

राजनाथ सिंह ने कार्यक्रम की लांचिंग को लेकर किए गए इंतजामों की सराहना करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को बधाई दी और कहा कि इसका उद्देश्य स्कूल जाने वाले विद्यार्थियों में नैतिक मूल्यों का समावेश कर उन्हें जिम्मेदार, अनुशासित, संस्कारवान और चरित्रवान नागरिक बनाना है। साथ ही इससे स्कूलों में विद्यार्थियों और पुलिस के बीच सामंजस्य की शुरूआत होगी ताकि समाज में शान्ति और जनसुरक्षा के लिए नागरिकों का सहयोग लिया जा सके। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम से युवाओं में सामाजिक प्रतिबद्धता की भावना उत्पन्न होगी और वे अनुशासित होकर असहिष्णुता, नशा, अपराध और अन्य सामाजिक बुराइयों से दूर रह सकेंगे। उन्होंने उपस्थित कैडेट्स का आह्वान करते हुए कहा कि सभी पूरी लगन के साथ इस कार्यक्रम का हिस्सा बने और भारत को एक नया समृद्ध और मजबूत राष्ट्र बनाने में अपनी अहम् भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम पुलिस व जनता के बीच सौहार्दपूर्ण संबंध की मजबूत नींव स्थापित करेगा। इससे पुलिस विभाग को भी यह जानने में मदद मिलेगी कि युवाओं की पुलिस से क्या अपेक्षाएं हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned