script राहुल गांधी को असम में एक मंदिर में जाने से रोका | Rahul Gandhi stopped from visiting a temple in Assam | Patrika News

राहुल गांधी को असम में एक मंदिर में जाने से रोका

locationगुवाहाटीPublished: Jan 22, 2024 05:30:07 pm

Submitted by:

Krishna Das Parth

भारत जोड़ो न्याय यात्रा लेकर निकले राहुल गांधी को असम में एक मंदिर में एंट्री से रोक दिया गया। राहुल गांधी को असम के अधिकारियों ने नगांव के 15वीं सदी के असमिया संत श्रीमंत शंकरदेव की जन्मस्थली बताद्रवा सत्र मंदिर में जाने से रोक दिया।

राहुल गांधी को असम में एक मंदिर में जाने से रोका
राहुल गांधी को असम में एक मंदिर में जाने से रोका
धरने पर बैठे कांग्रेस नेता
-भारत जोड़ो न्याय यात्रा लेकर निकले हैं असम में

भारत जोड़ो न्याय यात्रा लेकर निकले राहुल गांधी को असम में एक मंदिर में एंट्री से रोक दिया गया। राहुल गांधी को असम के अधिकारियों ने नगांव के 15वीं सदी के असमिया संत श्रीमंत शंकरदेव की जन्मस्थली बताद्रवा सत्र मंदिर में जाने से रोक दिया। राहुल मंदिर में पूजा करने जाना चाहते थे। राहुल गांधी ने रोके जाने पर पूछा कि उनको मंदिर जाने से रोकने की वजह क्या है?
मैंने क्या अपराध किया है, बताएं

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हम मंदिर जाना चाहते हैं। मैंने क्या अपराध किया है कि मैं मंदिर नहीं जा सकता? हम कोई समस्या पैदा नहीं करना चाहते, हम बस मंदिर में प्रार्थना करना चाहते हैं। गांधी ने कहा कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तय करेंगे कि मंदिर में कौन जाएगा। क्या मंदिर में केवल एक ही व्यक्ति प्रवेश कर सकता है। घटना के बाद कांग्रेस नेताओं और श्री गांधी ने नगांव में धरना शुरू कर दिया।

17 किलोमीटर पहले ही हैबोरगांव में रोका गया राहुल को

दरअसल राहुल गांधी का सोमवार नगांव जिले के बटाद्रवा स्थित श्री श्री शंकर देव सत्र (मठ) मंदिर जाने का कार्यक्रम था लेकिन स्थानीय प्रशासन ने उन्हें करीब 17 किलोमीटर पहले ही हैबोरगांव में रोक लिया। असमिया समाज में प्रतिष्ठित वैष्णव संत श्रीमंत शंकर देव की जन्म स्थली बटाद्रवा सत्र मंदिर में जाने से रोकने से नाराज कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपने कार्यकर्ताओं के साथ हैबरगांव में ही धरने पर बैठ गए।
गांधी ने की अधिकारियों की आलोचना

इससे पहले एक वीडियो में राहुल गांधी गाड़ी से उतर कर पुलिसकर्मियों से रोकने की वजह पूछते देखे गए। धरने पर बैठने से पहले राहुल गांधी ने अधिकारियों की आलोचना करते हुए मीडिया के समक्ष कहा, "ऐसा लगता है जैसे आज केवल एक व्यक्ति को मंदिर में प्रवेश की अनुमति है। क्या पीएम मोदी तय करेंगे कि मंदिरों में कौन जाता है?'' उन्होंने आगे कहा, "11 जनवरी को शंकरदेव के जन्मस्थान का दौरा करने का निमंत्रण मिला था, लेकिन रविवार को हमें बताया गया कि कानून-व्यवस्था के संकट की स्थिति है। कानून और व्यवस्था संकट के दौरान गौरव गोगोई और सभी लोग वैष्णव संत श्रीमंत शंकरदेव के जन्मस्थान पर जा सकते हैं, लेकिन केवल राहुल गांधी नहीं जा सकते।'" राहुल गांधी जिस जगह धरने पर बैठे है वहां उनके समर्थक "रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम" भजन गाते दिख रहे थे।
वहीं कांग्रेस समर्थक शंकर देव के कीर्तन भी गाते दिखे

बाद में स्थानीय सांसद और कांग्रेस नेता गौरव गोगोई मंदिर में गए और प्रार्थना की। उन्होंने बाहर आकर बताया कि उन्हें राहुल गांधी की जगह श्रीमंत शंकरदेव के जन्मस्थान पर जाने का अवसर मिला। गौरव गोगोई ने एक तस्वीर साझा करते हुए बताया,"श्री श्री शंकर देव थान बिल्कुल खाली था। कोई भीड़ नहीं थी। झूठी अफवाह फैलाई गई कि कानून व्यवस्था की स्थिति पैदा हो सकती है। मुख्यमंत्री ने बटाद्रवा थाना और श्री शंकरदेव की विरासत के लिए एक काला दिन लाया है।"

ट्रेंडिंग वीडियो