पूर्णाक 900 और मार्कशीट में दे दिए 992 नम्बर, एक छात्र के पांच सब्जेक्ट में जीरो

-जीवाजी विश्वविद्यालय का परीक्षा परिणाम बना रही कंपनी का नया कारनामा

 

ग्वालियर। जीवाजी विश्वविद्यालय के छात्रों के परीक्षा परिणाम में लगातार खामियां करने वाली कंपनी का एक और कारनामा सामने आया है। कंपनी द्वारा बनाए गए रिजल्ट मेंं स्नातक और परास्नातक छात्र-छात्राओं को अच्छे नंबर होने के बाद भी विदहैल्ड,एटीकेटी और फेल की श्रेणी में डाल दिया है। जबकि एक छात्र को 900 पूर्णांक में से 992 नंबर देने के बाद भी फेल घोषित किया गया है। जबकि बीए के छात्र को फाउंडेशन सहित पांच पेपर में शून्य अंक दिए गए हैं। कंपनी की इस लापरवाही को छुपाने के लिए अब विश्वविद्यालय प्रबंधन भरसक प्रयत्न कर रहा है। पत्रिका के पास छात्र-छात्राओं की मार्कशीट की फॉटोकॉपी है, इनमें से एक विद्यार्थी के आवेदन देने पर उसको पास घोषित किया गया है।


कोई फेल तो किसी को पूर्णांक से ज्यादा नंबर

 

-बीए प्रथम वर्ष के छात्र प्रदीप जोशी ने रोल नंबर 181241026 के जरिए परीक्षा दी थी। परीक्षा परिणाम में फाउंडेशन-1 और हिंदी साहित्य-1 में छात्र को शून्य मिला है।


-पीजीडीसीए सैकंड सेमेस्टर के छात्र पूनम अस्पल ने रोल नंबर 181082258 के जरिए परीक्षा दी थी। परिणाम बनाने वाली कंपनी ने छात्र को 900 पूर्णांक में से 992 नंबर दे दिए हैं। इसके बाद भी फेल घोषित किया है।

 

-बीए प्रथम वर्ष की छात्रा रुचि श्रीवास ने रोल नंबर 181159852 के जरिए परीक्षा दी थी। परीक्षा परिणाम में फाउंडेशन कोर्स में 29, हिंदी साहित्य में 50, हिस्ट्री में 46 और मिलिटरी साइंस में 48 नंबर मिले हैं। इस छात्रा की मार्कशीट में अंकों का टोटल ही नहीं लगा है और विदहैल्ड घोषित किया गया है।


-एमए साइकोलॉजी सैकंड सेमेस्टर की छात्रा शिल्पा सिंह तोमर ने रोल नंबर 1810891-- के जरिए परीक्षा दी थी। छात्रा के सभी विषय में ठीक नंबर आए, पूर्णांक 500 में से छात्रा को 222 अंक मिले हैं। इसके बाद भी एटीकेटी में डाल दिया गया। छात्रा द्वारा ऑब्जेक्शन करने पर कंपनी की गलती पकड़ में आई और अब पास घोषित किया गया है।

-बीएससी कंप्यूटर साइंस सैकंड ईयर की छात्रा रीना अहिरवार ने रोल नंबर 181035696 के जरिए परीक्षा दी थी, छात्रा के सभी विषयों को मिलाकर पूर्णांक 500 में से 276 नंबर आए हैं। इसके बाद भी छात्रा को कंपनी ने फेल घोषित किया है।


अभी तक नहीं मिला पूरा डाटा

विश्वविद्यालय कार्यपरिषद ने 25 नवंबर को बैठक लेकर रिजल्ट बनाने वाली कंपनी माइक्रो प्रो को 15 दिन मेें सभी मार्कशीट और डाटा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। समय पर डाटा और मार्कशीट न देने पर कंपनी के खिलाफ एफआईआर कराने की अनुशंसा भी की थी। यह समय सीमा आज समाप्त हो रही है और जेयू के अधिकारी अभी तक कंपनी से पूरी जानकारी नहीं ले पाए हैं और न ही कोई कार्रवाई कर पाए हैं।

Dharmendra Trivedi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned