scripteco green employee hartal in gwalior | कर्मचारियों ने डिपो पर ताला डाल नहीं निकलने दिए वाहन, आयुक्त बोले काम पर वापस लौटे, वरना हटाकर करेंगे नई भर्ती | Patrika News

कर्मचारियों ने डिपो पर ताला डाल नहीं निकलने दिए वाहन, आयुक्त बोले काम पर वापस लौटे, वरना हटाकर करेंगे नई भर्ती

locationग्वालियरPublished: Jan 15, 2024 10:52:46 pm

Submitted by:

monu sahu

224 डोर टू डोर वाहनों में से निकले सिर्फ 94, जगह-जगह लगे गंदगी के ढेर, निगम ने डिपो से वाहन निकले के लिए थाने में भी दी सूचना

कर्मचारियों ने डिपो पर ताला डाल नहीं निकलने दिए वाहन, बोले हड़ताल जारी, आयुक्त बोले काम पर वापस लौटे, वरना हटाकर करेंगे नई भर्ती
कर्मचारियों ने डिपो पर ताला डाल नहीं निकलने दिए वाहन, बोले हड़ताल जारी, आयुक्त बोले काम पर वापस लौटे, वरना हटाकर करेंगे नई भर्ती
ग्वालियर। ईकोग्रीन के कर्मचारियों ने दूसरे दिन भी मांगों को लेकर हड़ताल जारी रखते हुए दक्षिण डिपो पर ताला डालकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान डिपो से कोई भी वाहन नहीं निकलने दिया, वहीं निगम ने कुछ वाहनों को निकलने का प्रयास किया तो कर्मचारी वाहनों के आगे लेट गए। पूर्व-ग्रामीण व ग्वालियर डिपो सहित 224 डोर टू डोर में से सिर्फ 94 वाहन ही कचरा कलेक्शन के लिए निकले। इससे शहरभर के कई स्थानों पर गंदगी के ढेर लगे रहे। साथ ही रविवार-सोमवार को डिपो से वाहन निकलने में कोई परेशानी न हो उसके लिए निगम ने डिपो के पास के थानोंं में सूचना भेजी है।
दक्षिण डिपो पर विरोध प्रदर्शन व हंगामे की सूचना मिलते ही अपर आयुक्त विजय राज, उपायुक्त अमरसत्य गुप्ता, कार्यशाला प्रभारी श्रीकांत काटे, शैलेंद्र सक्सेना सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और ईकोग्रीन कर्मचारियों को समझाइश भी दी, लेकिन वह नहीं माने और दोपहर दो बजे सभी अधिकारी वापस लौट गए। शाम को निगम आयुक्त के साथ ईकोग्रीन कर्मचारियों की बैठक हुई, इसमें आयुक्त ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि आप काम पर वापस लौटें, जिन कर्मचारियों के दस्तावेज जमा नहीं है वह हमें कागज दें और जिन्हें कोर्ट जाना है वह कोर्ट जाए,लेकिन हम आउटसोर्स पर ही रखेंगे। यदि सोमवार तक हड़ताल समाप्त नहीं की गई तो हड़ताल में शामिल कर्मचारियों को हटाकर आउटसोर्स पर नई भर्ती की जाएगी। बता दें कि ईकोग्रीन के 485 कर्मचारी थे, इसमें से वर्तमान में करीब 400 कर्मचारी हैं। इनमें 211 ड्राइवर, 169 हेल्पर कर्मचारी शामिल है।
यह हंै कर्मचारियों की मांगे
ईकोग्रीन के कर्मचारियों की सात मांगे हैं, इसमें तीन महीने से वेतन दिया जाए, 2020 से ईपीएफ का पैसा खाते में डाला जाए, निगम के मद से ही वेतन दिया जाए, पूर्व के आदेश में कोई बदलाव नहीं किया जाए, प्रतिवर्ष बोनस दिया जाए, स्वास्थ्य सुरक्षा बीमा व राष्ट्रीय अवकाश सहित मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे हैं।
दक्षिण डिपो पर डाला ताला, वाहनों के आगे लेटे
सुबह ईकोग्रीन के सभी कर्मचारी तीन भागों में ग्वालियर, पूर्व व दक्षिण डिपो पर पहुंचे। इस दौरान पूर्व व ग्वालियर डिपो से अधिकतर वाहन फील्ड के लिए निकल चुके थे और दक्षिण से वाहन निकाले जा रहे थे। दक्षिण डिपो से वाहनों को निकलता देख कर्मचारियों ने गेट पर ताला डाल दिया और वाहनों के आगे लेटकर व जमीन पर बैठकर विरोध जताने लगे। जबकि पूर्व व ग्वालियर डिपो पर पुलिस के माध्यम से वाहनों को निकलवाया गया।
यह निकले डिपो से वाहन
-ग्वालियर डिपो से डोर टू डोर 78 में से 44 और सेकंडरी 30 में से 27 वाहन ही निकले।
-पूर्व व ग्रामीण डिपो से डोर टू डोर 83 में से 51 और सेकंडरी वाहनों में 31 में से 30 वाहन ही निकले।
-दक्षिण डिपो से कोई भी डोर टू डोर व सेकंडरी वाहन नहीं निकला।
हर साल 8 से 10 बार करते हैं हड़ताल
नगर निगम में हर साल 8 से 10 बार सफाई कर्मचारी हड़ताल करते हंै। इसका मुख्य कारण कहीं ने कहीं सफाई कर्मचारियों के नेता और कुछ अधिकारी-कर्मचारी द्वारा इन्हें हड़ताल करने के लिए बढ़ावा दिया जाता है। क्योंकि वह अपने किसी ने किसी कार्य के लिए आयुक्त पर दबाव बनाने के लिए इस तरह का प्रयास करते हैं। जानकारों का कहना है कि यदि आयुक्त व निगम के अफसर ऐसे नेताओं व सफाईकर्मी पर सख्ती दिखाए तो भविष्य में इस तरह की हड़ताल हमेशा के लिए पूरी तरह से खत्म हो जाएगी।
यहां लगे गंदगी के ढेर
जीवाजीगंज, सराफा बाजार, एबी रोड गोलपहाडिय़ा, सराफा बाजार, गैंडेवालीगली, रतनबाग कॉलोनी,बिरला नगर, फूलबाग, भैसमंडी, डीडी नगर, दर्पण कॉलोनी, सराफा बाजार, लक्ष्मीबाई कॉलोनी सहित अन्य स्थानों पर गंदगी के ढेर दिखाई दिए।
"ईकोग्रीन कर्मचारी 2020 से निगम में कार्य कर रहे हैं। उन्हें तीन महीने से वेतन नहीं मिला है और 2020 से ईपीएफ भी नहीं दिया। कर्मचारी के खाते में ईपीएफ की राशि डाली जाए व वेतन दिया जाए। हमारी हड़ताल जारी है और सोमवार को निगम मुख्यालय पर परिवार के साथ विरोध प्रदर्शन करेंगे।"
अरविंद्र कुमार मिश्रा, प्रदेश संयुक्त महामंत्री, भारतीय मजदूर संघ
"हम लगातर ईकोग्रीन कर्मचारियों को समझाइश दे रहे हैं और उनका ईपीएफ व वेतन देने के लिए भी तैयार है। सभी कर्मचारी सोमवार तक काम पर वापस लौटें, जिन कर्मचारियों के दस्तावेज कंपनी में जमा नहीं है वह दें। हम इन्हें आउटसोर्स पर ही रखेंगे। यदि हड़ताल समाप्त नहीं करेंगे तो हम आउटसोर्स पर नई भर्ती करेंगे।"
हर्ष सिंह आयुक्त नगर निगम

ट्रेंडिंग वीडियो