पटरी पर आ रही जिंदगी...अस्थि वार्ड फुल, मेडिसिन और शिशु रोग के भी बारह से ज्यादा मरीज हुए भर्ती

कोरोना संक्रमण कम होते ही अब फिर से जिंदगी पटरी पर आने लगी है। मुरार जिला अस्पताल में जहां कोरोना के चलते पांच महीने से कोविड के लिए 78 पलंग कर दिए...

ग्वालियर . कोरोना संक्रमण कम होते ही अब फिर से जिंदगी पटरी पर आने लगी है। मुरार जिला अस्पताल में जहां कोरोना के चलते पांच महीने से कोविड के लिए 78 पलंग कर दिए गए थे। वहीं अब इन्हें घटाकर 26 तक सीमित कर दिया गया है। इसके चलते अब दूसरे विभाग के मरीजों के भर्ती होने की सुविधा शुरू हो गई है। इसमें हड्डी (अस्थि) के 26 मरीज भर्ती हैं। वहीं शिशु रोग के भी लगभग 12 बच्चे यहां पर भर्ती हुए हैं। इसके चलते अब एक बार फिर से मुरार जिला अस्पताल में दूसरे रोगों के मरीजों को भी इलाज मिलना शुरु हो गया है।
जिला अस्पताल में सबसे ज्यादा हड्डी के मरीज भर्ती रहते हैं। इसके चलते पिछले कुछ दिनों से मरीजों को गैलरी में पलंग बिछाकर इलाज कराना पड़ रहा था। सर्दी बढ़ते ही ऐसे मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। इसे देखते हुए अब मरीजों को वार्ड में पलंग मिल गया है। इससे मरीजों की समस्या का समाधान भी हो गया है।

दूसरे रोगों के मरीजों को नहीं कर रहे थे भर्ती
कोरोना काल में लगभग पांच महीने से शिशु रोग के साथ मेडिसिन और अन्य विभाग के मरीजों को अस्पताल में भर्ती नहीं किया जा रहा था। ऐसे मरीजों को केवल ओपीडी में दिखाकर घर भेज दिया जाता था, लेकिन अब यह नई सुविधा मिलने से मरीजों को फायदा मिलेगा।

78 में से अब 52 पलंग पर हड्डी के साथ शिशु रोग और मेडिसिन के मरीजों को भर्ती किया जा रहा है, जिसमें सबसे ज्यादा हड्डी रोग के मरीज इस समय है।
डॉ. डीके शर्मा, सिविल सर्जन

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned