एक माह में फाइनल होनी थी डिजायन, लगे छह महीने, इसलिए लेट हो गए ये जरूरी काम

टंकियों के निर्माण लिए ड्रॉइंग डिजायन योजना की निगरानी कर रही एजिस इंडिया कंपनी को एक माह में फाइनल करनी थी, लेकिन कंपनी ने इसमें पांच से छह महीने लगा दिए

By: Rahul rai

Updated: 03 Mar 2019, 07:25 PM IST

ग्वालियर। शहर के लोगों को प्रेशर से पानी मिल सके, इसके लिए कई जगह अमृत योजना के तहत टंकियों का निर्माण किया जा रहा है, लेकिन इसमें लेटलतीफी हो रही है। इसकी वजह यह है कि टंकियों के निर्माण लिए ड्रॉइंग डिजायन योजना की निगरानी कर रही एजिस इंडिया कंपनी को एक माह में फाइनल करनी थी, लेकिन कंपनी ने इसमें पांच से छह महीने लगा दिए। इस वजह से शहर के हजारों लोगों को पानी की सुविधा मिलने में देरी हो रही है।

 

शहर में पानी की टंकियों के निर्माण के लिए ड्रॉइंग डिजायन संबंधित ठेकेदार ने बनवाकर अमृत योजना की निगरानी कर रही एजिस इंडिया कंपनी को भेज दी थी। कंपनी को यह डिजायन 30 में अध्ययन कर फाइनल कर देनी थी, लेकिन उसने इसे लटकाए रखा। इसके पीछे अफसरों में करोड़ों के प्रोजेक्ट के प्रभार को लेकर खींचतान होना भी कारण बताया जा रहा है।

 

केस-1 लक्ष्मी बाई कॉलोनी में टंकी निर्माण
लागत - 1.03 करोड़ रुपए
ड्रॉइंग बनाकर दी -8 मार्च 2018
ड्रॉइंग स्वीकृत हुई -5 सितंबर 2018
इतने दिन हुआ लेट -181 दिन की देरी


केस-2 चना कोठार में टंकी निर्माण
लागत -1.50 करोड़ रुपए
ड्रॉइंग बनाकर दी -28 मार्च 2018
ड्रॉइंग स्वीकृत हुई -5 सितंबर 2018
इतने दिन हुआ लेट -166 दिन की देरी


केस-3 तानसेन नगर टंकी निर्माण
लागत - 1.03 करोड़ रुपए
ड्रॉइंग बनाकर दी -28 मार्च 2018
ड्रॉइंग स्वीकृत हुई -5 सितंबर 2018
इतने दिन हुआ लेट -166 दिन की देरी

 

सांठगांठ का खेल
-पिछले 6 माह में अमृत योजना में बहुत गड़बडिय़ां और घोटाले किए गए हैं। अफसरों ने सीवर में घोटाला किया और पानी के कार्यों में भी विघ्न डाला गया, ताकि विकास कार्य प्रभावित हो सकें, ऐसे लापरवाह अफसरों पर एक्शन होना चाहिए।
कृष्णराव दीक्षित, नेता प्रतिपक्ष नगर निगम।

 

होगी कार्रवाई
-यह बात सही है कि डिजायन एक माह में कंपनी को स्वीकृत करनी थी। आपके द्वारा यह मामला संज्ञान में आया है, हम संबंधित के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
आरएलएस मौर्य, अधीक्षण यंत्री पीएचई नगर निगम।

Rahul rai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned