परिचित महिला ने ही रची साजिश, पहले जानी लोकेशन और फिर दिया लूट को अंजाम

परिचित महिला ने ही रची साजिश, पहले जानी लोकेशन और फिर दिया लूट को अंजाम

jainarayan purohit | Publish: Oct, 13 2018 10:41:49 PM (IST) Sri Ganganagar, Rajasthan, India

- व्यापारी से 35 लाख की लूट मामले का खुलासा
- साढ़े पांच लाख जब्त कर पांच जनों को दबोचा, आठ जने थे वारदात में शामिल

हनुमानगढ़.

पिछले माह अपहरण कर व्यापारी से लूट के मामले का पुलिस ने 22 दिन बाद खुलासा कर दिया। व्यापारी की परिचित महिला ही वारदात की मास्टर माइंड निकली। वह इतनी शातिर है कि अचार व अन्य सामग्री मंगवाने के बहाने व्यापारी की सरदारशहर-हनुमानगढ़ के बीच लोकेशन पता की। फिर अन्य आरोपितों ने उस सूचना के आधार पर लूट की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस की संयुक्त टीम ने मुख्य साजिशकताज़् महिला सहित पांच जनों को बापदाज़् गिरफ्तार किया है।


वारदात में शामिल तीन जनों की अभी पड़ताल की जा रही है। आरोपितों के कब्जे से साढ़े पांच लाख रुपए की नकदी तथा हथियार भी जब्त किए गए हैं। जेल में शिनाख्त परेड के बाद प्रोडक्शन वारंट पर आरोपितों को गिरफ्तार किया जाएगा।

जिला पुलिस अधीक्षक अनिल कयाल ने शनिवार को टाउन थाने में प्रेस वाताज़् में मामले का खुलासा करते हुए बताया कि लूट के आरोप में सविता उफज़् श्वेता उफज़् तन्नू अरोड़ा पत्नी मुकेश अरोड़ा निवासी टिब्बी रोड, सुनील पुत्र लालचंद नायक निवासी जंडावाली, मानसिंह उफज़् डीसी (26) पुत्र लक्ष्मणसिंह ओड, बबलू (32) पुत्र मुंशीराम ओड व कालू उफज़् बलराम पुत्र हरमेल सिंह तीनों निवासी सुरेशिया, हनुमानगढ़ को गिरफ्तार किया गया है।

आरोपिता सविता अरोड़ा की व्यापारी अशोक कुमार पुत्र चिमनलाल अरोड़ा निवासी नई आबादी से जान-पहचान है। उसे पहले से जानकारी थी कि अशोक कुमार ईंट विक्रय की वसूली के लिए सरदारशहर क्षेत्र में जाता है। इसलिए उसने 22 सितम्बर को व्यापारी से कई बार बात की। सरदारशहर का अचार आदि सामग्री बढिय़ा होने की बात कह उसे लाने को कहा। इस बहाने बातचीत कर उसकी लोकेशन पता की।


जब उसे पता लग गया कि व्यापारी ने लाखों रुपए की वसूली कर ली है तथा वापस लौट रहा है तो आरोपित सुनील नायक को इसकी सूचना दी। उसने अन्य आरोपितों को वारदात के लिए तैयार किया। व्यापारी अशोक कुमार का चालक जब गांव नौरंगदेसर रोही के पास लघुशंका के लिए उतरा तो वहां कार में सवार होकर आरोपित आए। व्यापारी को उसकी गाड़ी में ही बिठाकर चक हरिपुरा के पास ले गए। वहां उससे 35 लाख रुपए लूटे तथा कार व व्यापारी को वहीं छोड़कर फरार हो गए।


नकली पिस्तोल का इस्तेमाल
ैलुटेरों ने नकली पिस्तोल तथा देशी कट्टे के बल पर वारदात को अंजाम दिया। पुलिस के अनुसार सभी नौसिखिए थे। देशी कट्टे से हमले के दौरान गोली उसमें फंस गई। करीब तीन माह से व्यापारी की रैकी की जा रही थी। लूट की साजिश अगस्त में भी रची गई थी। मगर व्यापारी की बताई लोकेशन पर सविता के सहयोगी नहीं पहुंच सके। ऐसे में लूट नहीं कर सके।


ब्लैकमेलिंग के मामले
एसपी कयाल ने बताया कि मुख्य साजिशकताज़् सविता पूवज़् में भी कई मुकदमों के संलिप्त रही है। हनुमानगढ़ के अलावा जयपुर में उसके खिलाफ मामले दजज़् हैं। आरोपिता ने भी ब्लैकमेलिंग के कई मामले दजज़् करवा रखे हैं। लूट में शामिल सुनील अफीम बरामदगी के मामले में जेल की हवा खा चुका है।


लूट की रकम से एफडी
पुलिस के अनुसार आरोपित कालू उफज़् बलराम ने लूटी गई राशि में से एक लाख रुपए की एफडी करवा ली। यह उसने लूट की वारदात के कुछ दिन बाद ही किया। आरोपितों की निशानदेही पर लूटी गई रकम में से साढ़े पांच लाख रुपए एवं वारदात में इस्तेमाल इटियोस गाड़ी बरामद कर ली गई है। शेष रकम व हथियारों की बरामदगी के लिए पूछताछ की जा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned