कांग्रेस के प्रत्याशियों ने झुंझुनू में डाला डेरा तो भाजपा ने जिले में तलाशा गुप्त स्थान

कांग्रेस के प्रत्याशियों ने झुंझुनू में डाला डेरा तो भाजपा ने जिले में तलाशा गुप्त स्थान
- कांग्रेस के प्रत्याशियों ने जाने से किया इंकार।
- 19 को मतगणना के पश्चात जिले से बाहर करेंगे बाड़ाबंदी

कांग्रेस के प्रत्याशियों ने झुंझुनू में डाला डेरा तो भाजपा ने जिले में तलाशा गुप्त स्थान
- कांग्रेस के प्रत्याशियों ने जाने से किया इंकार।
- 19 को मतगणना के पश्चात जिले से बाहर करेंगे बाड़ाबंदी

हनुमानगढ़. भाजपा व कांग्रेस में सभापति के लिए दौड़ शुरू हो चुकी है। दोनों दलों ने अपने पार्टी का सभापति बनाने के लिए जोड़-तोड़ की राजनीति भी शुरू कर दी है। सूत्रों की माने तो भाजपा शनिवार को ही अपने प्रत्याशियों की बाड़ाबंदी कर चुका है। इन प्रत्याशियों को जिले में ही किसी गुप्त स्थान पर ठहराया गया है। इधर, रविवार को दोपहर ढाई बजे विधायक विनोद कुमार चौधरी के निवास से कांग्रेस के अधिकांश प्रत्याशियों को रवाना किया गया। इनमें से कई प्रत्याशियों ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए जाने से इंकार कर दिया। सूत्रों की माने तो कांग्रेस अपने प्रत्याशियों को झुंझुनू लेकर गई है और 19 को सुबह मतगणना के चलते बाड़ाबंदी में हनुमानगढ़ पहुंचेंगे। हारने वाले उम्मीदवारों को घर भेज दिया जाएगा और जीतने वाले प्रत्याशियों को छह दिन के लिए अन्य राज्य में बाड़ाबंदी कर रख जाएगा।
जानकारी के अनुसार कांग्रेस ने कई प्रत्याशियों को शनिवार को जंक्शन के एक होटल में ठहराया था। इन प्रत्याशियों को लेजाने के लिए दो बसों का प्रबंध किया गया था। सूत्रों के अनुसार रविवार दोपहर साढ़े बारह बजे विधायक विनोद कुमार चौधरी के घर से इन दोनों बसों को झुंझुनू के लिए रवाना किया जाना था। लेकिन प्रत्याशियों की ओर से देरी होने पर दोपहर ढाई बजे पहले बस रवाना की गई। दूसरी बस रवाना करने से पहले कई प्रत्याशियों ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए जाने से इंकार कर दिया। अंत में कांग्रेस के कई पदाधिकारी व प्रत्याशी अपने-अपने व्हीकल से रवाना हुए।

कांग्रेस में यह सबसे आगे
माना जा रहा है कि गणेश बंसल के नेतृत्व में ही कांग्रेस प्रत्याशियों को एक साथ भेजा गया है। हालांकि कांग्रेस में कई अन्य प्रत्याशी भी खुद को सभापति के रेस में मान रहे हैं। लेकिन अभी मतगणना से पहले प्रत्याशी सामने नहीं आना चाहते, माना यह भी जा रहे है कि इसकी वजह से ही अन्य प्रत्याशियों ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए जाने से इंकार कर दिया। बस को रवाना करने के दौरान पंचायत समिति प्रधान जयदेव भीड़ासरा, पीसीसी भूपेंद्र चौधरी, एडवोकेट मोहम्मद मुस्ताक जोईया, ब्लॉक अध्यक्ष इशाक खान, रेणु चौधरी आदि मौजूद रहे।


टिकट दिलाने वाले आए प्रत्याशियों को सौंपने
विधायक विनोद कुमार के निवास पर सुबह से ही कांग्रेस नेता प्रत्याशियों को छोडऩे के लिए पहुंच रहे थे। खास बात यह थी इन प्रत्याशियों को लेकर वही नेता आ रहे थे, जिन्होंने टिकट दिलाने में अहम योगदान निभाया था। इसके अलावा कई प्रत्याशी अपने साथ सैंकड़ों समर्थक लेकर भी आए थे।

शनिवार रात को भी हुए रवाना
सूत्रों के अनुसार भाजपा प्रत्याशियों की बैठक पूर्व मंत्री डॉ. रामप्रताप के फार्म हाउस पर हुई थी। बैठक में इन प्रत्याशियों को कपड़ों का बैग भी लाने के लिए बोला गया था। रात नौ बजे इन प्रत्याशियों को जिले में किसी होटल के लिए रवाना किया गया। इधर, कांग्रेस का एक प्रत्याशी अन्य तीन प्रत्याशी को साथ लेकर शनिवार रात को ही गुप्त स्थान के लिए रवाना हो गया था।


निर्दलीयों ने जाने से किया इंकार
भाजपा व कांग्रेस के नेता कई जिताऊ निर्दलीय उम्मीदवारों से भी लगातार संपर्क में हैं। इन उम्मीदवारों को भी साथ लेजाने के लिए प्रयास किए गए। सूत्रों के अनुसार इनमें से अधिकांश निर्दलीय उम्मीदवारों ने मतगणना से पहले जाने से इंकार कर दिया तो कईयों ने आश्वासन देकर एक बार टाल दिया। लेकिन अभी भी इन उम्मीदवारों पर नजर रखने के लिए भाजपा व कांग्रेस ने अपने विश्वसनीय कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई है।

भाजपा व कांग्रेस को बहुमत का दावा
भाजपा व कांग्रेस ने अपने-अपने स्तर पर गुप्त सर्वे
भी कराया है। इसके चलते दोनों दल बहुमत आने का दावा भी कर रहे हैं।

Anurag thareja
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned