मतदान दल को पिलाई नियमों की घुट्टी

Purushotam Jha | Updated: 13 Sep 2019, 11:07:20 AM (IST) Hanumangarh, Hanumangarh, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. भाखड़ा खंड द्वितीय के अधीन ४१ बीके में जल उपयोक्ता संगम के चुनाव की तैयारी तेज कर दी गई है। पहले चरण का मतदान १५ सितम्बर को करवाने के लिए गुरुवार को जल संसाधन विभाग के सिद्धमुख सभागार में मतदान कार्मिकों को प्रशिक्षण दिया गया। इसमें मतदान कार्मिकों को नियमों की घुट्टी पिलाई गई।

 

मतदान दल को पिलाई नियमों की घुट्टी
-भाखड़ा के ४१ बीके के चुनाव को लेकर पोलिंग बूथ गठित
-पंद्रह को होगा पहले चरण का मतदान, चार चरणों में पूरे होंगे चुनाव
हनुमानगढ़. भाखड़ा खंड द्वितीय के अधीन ४१ बीके में जल उपयोक्ता संगम के चुनाव की तैयारी तेज कर दी गई है। पहले चरण का मतदान १५ सितम्बर को करवाने के लिए गुरुवार को जल संसाधन विभाग के सिद्धमुख सभागार में मतदान कार्मिकों को प्रशिक्षण दिया गया। इसमें मतदान कार्मिकों को नियमों की घुट्टी पिलाई गई। इस मौके पर भाखड़ा खंड द्वितीय के एक्सईएन बीरबल सिंह ने मतदान कार्मिकों को धैर्य पूर्वक मतदान करवाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि इस बार सुरक्षा की दृष्टि से सभी बूथों पर पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। इसे लेकर एसपी को पत्र लिखा गया है। जिसमें हर बूथ पर एक-एक महिला व पुरुष पुलिसकर्मी की तैनाती के लिए लिखा गया है। इसके साथ ही मतदान से पहले मॉक ड्रिल की प्रक्रिया पूर्ण करने की सलाह दी। पीठासीन अधिकारियों को डायरी में सभी तरह की जानकारी अनिवार्य रूप से भरने के लिए पाबंद किया। चुनाव को लेकर कुल ४१ पीठासीन अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। इसके अलावा तीन सहायक निर्वाचन अधिकारी पूरे चुनाव प्रक्रिया की निगरानी रखेंगे। नहरी चुनाव में करीब ७३ हजार किसान अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। प्रशिक्षण के दौरान एक मतदान कार्मिक ने जब यह सवाल उठाया कि यदि किसी अव्यस्क का वोट बन गया हो तो फिर पोलिंग बूथ पर पीठासीन अधिकारी क्या करेगा। इस पर ट्रेनर ने कहा कि पीठासीन अधिकारी के पास अधिकार सुरक्षित होते हैं। वोट पोल करने के दौरान यदि कोई आपत्ति करता है तो पीठासीन अधिकारी संबंधित वोटर का आयु प्रमाण पत्र भी मांग सकता है। एसई छगनलाल छाबड़ा, सहायक अभियंता निरंजन कटारिया, खंडीय लेखाधिकारी कालूराम सुथार, सहायक प्रशासनिक अधिकारी महावीर प्रसाद शर्मा, मोहनलाल बोधिजानी, हरीश शर्मा व मनीराम आदि मौजूद रहे। जल उपयोक्ता संगम अध्यक्षों के चुनाव होने के बाद नहरों के संचालन की जिम्मेदारी नहर अध्यक्षों को सौंप दी जाएगी। वर्तमान में विभागीय अधिकारी इन नहरों का संचालन कर रहे हैं। नहर निर्माण व संचालन में किसानों की सहभागिता बढ़ाने के मकसद से नहरी चुनाव करवाए जा रहे हैं। अध्यक्षों के निर्वाचन के बाद इनका कार्यकाल पांच वर्ष तक रखा जाएगा। भाखड़ा खंड द्वितीय कार्यालय में चुनाव प्रकोष्ठ प्रभारी मनीराम ने बताया कि जल उपयोक्ता संगम अध्यक्षों के नामांकन के लिए पांच सौ रुपए नामांकन शुल्क निर्धारित किया गया है। इस बार के चुनाव में खातेदारी पुरुष किसान के नाम होने पर उसकी पत्नी का नाम भी वोटर लिस्ट में जोड़ा गया है। इससे इस चुनाव में महिलाओं की सहभागिता भी काफी बढऩे की संभावना है।

चार चरणों में चुनाव
पहले चरण में १५ सितम्बर को सादुलब्रांच, सूरतगढ़ वितरिका, खुंजा माइनर, हनुमानगढ़ वितरिका, किशनुपरा वितरिका के चुनाव होंगे। इसी तरह दूसरे चरण में १८ को सिलवाला वितरिका, साबुआना, नगराना, खारा सब ब्रांच, तीसरे चरण में २१ को सूरतगढ़ वितरिका, चंदूरवाली वितरिका, चौथे चरण में २३ को सूरतगढ़ वितरिका, पीलीबंगा वितरिका, संघर माइनर, सरदारगढ़ माइनर के चुनाव प्रस्तावित किए गए हैं। राजस्थान सिंचाई प्रबंधन में कृषकों की सहभागिता अधिनियम २००० के तहत चुनाव करवाने जरूरी हैं।

पहली बार होगा मतदान
भाखड़ा खंड द्वितीय कार्यालय के अधीन नहरों को पक्का करने का काम काफी समय पहले पूरा हो चुका है। इसके तहत ३० बीके में चुनाव पहले करवाए जा चुके हैं। जबकि ४१ बीके मेें अभी तक चुनाव ही नहीं करवाए गए हैं। उक्त ४१ बीके में पहली बार चुनाव करवाने को लेकर विभाग स्तर पर तैयारी अब अंतिम चरण में है। इसके तहत पहले चरण में १५ सितम्बर को सादुलब्रांच, सूरतगढ़ वितरिका, खुंजा माइनर, हनुमानगढ़ वितरिका, किशनुपरा वितरिका के चुनाव होंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned