ताकि बजट भुगतान में नहीं हो देरी, इसलिए सीईओ ने निकाली पतली गली

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. जिले में कोरोना गाइडलाइन तथा पंचायत व नगरपालिका चुनाव चलने के कारण मनरेगा सहित ग्रामीण विकास की योजनाओं की सक्षम स्तर से स्वीकृति में बार- बार अड़ंगा लगने पर अब सीईओ ने पतली गली निकाली है। इससे ग्रामीण विकास का पहिया आगे बढऩे की उम्मीद है।

 

By: Purushottam Jha

Updated: 17 Jan 2021, 09:40 AM IST

ताकि बजट भुगतान में नहीं हो देरी, इसलिए सीईओ ने निकाली पतली
-शहरी क्षेत्र में आचार संहिता लगने के कारण अब पंचायत समितियों की साधारण सभा की बैठकें नजदीक के ग्राम पंचायतों में करवाने का निर्णय
-निर्देश मिलने पर कुछ बीडीओ ने पंचायत समितियों की बैठक बुलाने को घोषित की तारीखें

हनुमानगढ़. जिले में कोरोना गाइडलाइन तथा पंचायत व नगरपालिका चुनाव चलने के कारण मनरेगा सहित ग्रामीण विकास की योजनाओं की सक्षम स्तर से स्वीकृति में बार- बार अड़ंगा लगने पर अब सीईओ ने पतली गली निकाली है। इससे ग्रामीण विकास का पहिया आगे बढऩे की उम्मीद है। जानकारी के अनुसार भारत सरकार की ओर से जारी मनरेगा गाइड लाइन तथा ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) की निर्देशिका के अनुसार यह योजनाएं वर्ष के अगस्त माह से ग्राम स्तर पर तैयार करनी होती है। इसके बाद इनका अनुमोदन ग्राम सभा, पंचायत समिति व जिला परिषद की साधारण सभा से हर साल दिसम्बर माह तक करवाना होता है। फिर अगले साल के एक अप्रैल से योजना प्रभावी होती है। मगर इस वर्ष अगस्त से अक्टूबर तक ग्राम पंचायतों तथा पंचायत समितियों के चुनाव होने, नवम्बर, दिसम्बर व जनवरी में नगरीय निकायों के चुनावों के कारण साधारण सभा की बैठकों के आयोजन पर रोक रही है। अब भारत सरकार ने 31 जनवरी तक योजनाओं की वार्षिक कार्ययोजना के अनुमोदन का समय दिया है। इसी दौरान कुछ जिला परिषद सीईओ की ओर से बैठक के संबंध में मार्गदर्शन मांगे जाने पर राज्य निर्वाचन आयोग ने आचार संहिता वाले क्षेत्रों में नगरीय क्षेत्रों में बैठकें नहीं करने के निर्देश दे दिए। जबकि जिला परिषद हनुमानगढ़ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने अब रास्ता निकालते हुए पंचायत समितियों के विकास अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वह अपनी बैठक नगरपालिका क्षेत्र से बाहर किसी ग्राम पंचायत मुख्यालय पर कर बीस जनवरी तक योजना का अनुमोदन करवा लें। यदि समय पर योजना का अनुमोदन नहीं होता है तो भारत सरकार के स्तर से लेबर बजट की स्वीकृति में विलंब हो सकता है। जिला परिषद सीईओ हनुमानगढ़ की ओर से सभी नवनिर्वाचित जिला परिषद सदस्यों से भी आग्रह किया गया है कि वह अपने क्षेत्र के प्रस्ताव सीधे जिला परिषद को दें ताकि ग्राम स्तर पर छूटे हुए प्रस्ताव जिला स्तर से कार्ययोजना में शामिल करवाए जा सकें।

जल्द होगी जिप की बैठक
बीस जनवरी तक पंचायत समितियों की साधारण सभा की बैठक होने के बाद अब ३१ जनवरी से पहले जिला परिषद की बैठक भी बुलाई जाएगी। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। वार्षिक प्लान का अनुमोदन जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक में करना होगा।

साधारण सभा की तारीखें तय
जिला परिषद सीईओ की ओर से निर्देश मिलने पर अब कई पंचायत समितियों में बीडीओ ने साधारण सभा की तारीखें घोषित कर दी है। इसमें नोहर में १८, भादरा में १९, टिब्बी में १९, संगरिया में १८ जनवरी को पंचायत समिति की साधारण सभा बुलाने का निर्णय लिया गया है।

.......वर्जन.....
सभी बीडीओ को निर्देश

ग्रामीण क्षेत्रों में आचार संहिता नहीं है। इसलिए पंचायत समितियों को नगर पालिका क्षेत्र से बाहर नजदीक के ग्राम पंचायतों में बैठकें करने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद जिला परिषद की बैठक भी बुलाएंगे। ताकि मनरेगा सहित अन्य योजनाओं का प्लान समय पर तैयार कर भिजवाया जा सके। इस संबंध में सभी बीडीओ को अवगत करवा दिया गया है।
-रामनिवास जाट, सीईओ, जिला परिषद हनुमानगढ़

Purushottam Jha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned