जिला स्तरीय अन्न उत्सव- जिन्हें नियमों का पालन कराना था उनके सामने ही मखौल उड़ा, सटकर बैठे रहे नेता और नागरिक

- कृषि मंत्री कमल पटेल की मौजूदगी वाले कार्यक्रम स्थल पर संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ा

By: gurudatt rajvaidya

Published: 17 Sep 2020, 08:02 AM IST

हरदा। जिले में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले रोज बढऩे के बावजूद स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा। जिन्हें नियमों का पालन कराना है उन्हीं की मौजूदगी में अवहेलना हो रही है। जनता का प्रतिनिधित्व करने वाले नेता भी इसे रोकने के बजाए आगे रहकर नियमों को तोड़ रहे हैं। बुधवार को कृषि उपज मंडी में आयोजित जिला स्तरीय अन्न उत्सव में संक्रमण की रोकथाम के लिए बेहद जरूरी बताई जा रही एक मीटर की सामाजिक दूरी के नियम का पालन नहीं हो सका। कृषि मंत्री कमल पटेल की मौजूदगी वाले कार्यक्रम में दो की क्षमता वाले सोफे पर चार लोग बैठे। यही हाल दर्शक दीर्घा में रहे। कुर्सियां सटकर लगाई गई थीं। जिन लोगों को बैठने की जगह नहीं मिली उन्होंने पास-पास खड़े होकर कार्यक्रम देखा। हालांकि मास्क लगभग सभी के पास नजर आए। यह बात अलग रही कि किसी का पूरा फेस कवर था तो कोई इसे केवल औपचारिकता स्वरूप लगाए रहा। इस दौरान स्वास्थ्यकर्मी मास्क बांटने के साथ ही लोगों के हाथ सेनेटाइजर से साफ कराते रहे। कार्यक्रम में कलेक्टर संजय गुप्ता, नगर पालिका अध्यक्ष सुरेन्द्र जैन, भाजपा जिलाध्यक्ष अमर सिंह मीणा, जनपद अध्यक्ष फुंदा बाई, नगर मंडल अध्यक्ष विनोद गुर्जर, जिला पंचायत उपाध्यक्ष मनीष निषोद, एसपी मनीष अग्रवाल, जिला पंचायत सीईओ दिलीप कुमार यादव, अपर कलेक्टर प्रियंका गोयल, अपर कलेक्टर जेपी सैयाम एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
फटी थैलियों में बांटा अनाज
कार्यक्रम स्थल पर हितग्राहियों को प्लास्टिक की थैलियों में अनाज दिया गया। थैलियां फटी होने से इनमें से अनाज गिरता रहा। अनाज भरते समय यह ध्यान नहीं दिया गया।
नाश्ता प्लेट से मक्खी उड़ाते रहे मंडी कर्मचारी
आयोजन स्थल के पीछे मंचासीन नेताओं और अधिकारियों के लिए नाश्ता प्लेट लगाई गई। कार्यक्रम देरतक चलने के कारण इसका उपयोग समय पर नहीं हो सका। इस दौरान कृषि मंडी के कर्मचारी मक्खियां उड़ाते रहे।
गरीब की थाली, नहीं रहेगी खाली : कमल पटेल
उत्सव में मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना के तहत पात्रता पर्ची वितरण किया गया। जिले में 7744 परिवार के 26673 लोगों को इसका लाभ मिलेगा। इस दौरान कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि जैसे ही प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी और उन्हें मंत्री पद मिला उन्होंने तत्काल गरीबों को अनाज दिलाने की पहल की। तत्कालीन खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के साथ इस योजना की रणनीति बना ली गई, जो आज पूरी हो रही है। उन्होंने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है। भाजपा सरकार गांव, गरीब और किसानों की सरकार है। इन वर्गों की समस्याओं को दूर करने के लिए सरकार कोई कमी नहीं छोड़ेगी। मंत्री पटेल ने कहा कि हमारी सरकार का दायित्व है कि गरीब की थाली कभी खाली नहीं रहे और इसके लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे। आज जिन गरीब परिवारों को पात्रता पर्ची दी गई है उन्हें इसके आधार पर प्रति परिवार 5 किलो अनाज एक रुपए किलो के भाव से दिया जाएगा। इस दौरान पटेल ने मातृशक्ति का अभिनंदन और पूजन किया।

gurudatt rajvaidya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned