पहले आवास बनाने पैसे दिए, अब तोडऩे का नोटिस, जानें आखिर क्यों

sandeep nayak

Publish: Mar, 14 2018 10:20:34 PM (IST)

Hoshangabad, Madhya Pradesh, India
पहले आवास बनाने पैसे दिए, अब तोडऩे का नोटिस, जानें आखिर क्यों

- गोंदागांवकला गांव के चार परिवारों को हटाने की तैयारी, आज एसडीएम से लगाएंगे गुहार

टिमरनी. ब्लाक के गांव गोंदागांव कला में सड़क किनारे रहने वाले परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत शासन ने राशि दी थी। जिस पर उन्होंने मकान को आधा बना दिया है। किंतु गत दिवस तहसीलदार ने उनके मकानों को तोडऩे का नोटिस जारी किया। नोटिस मिलने के बाद परिवार के लोग तहसील कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं।गोंदागांव के राजू धुर्वे, नारायण मर्सकोले ने बताया कि उन्हें आवास योजना के तहत ४०-४० हजार रुपए की पहली किश्त दी गई थी। इसके चलते उन्होंने मकान को हाइट तक तैयार कर लिया है। इसके अलावा कैलाश और गोविंद उइके को भी दूसरी किश्त मिल चुकी है। किंतु गत माह 21 फरवरी को नायब तहसीलदार ने आवास से बेदखली का वारंट जारी किया था। वहीं इसके बाद कारण बताओ नोटिस भी दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 35 सालों से सड़क किनारे करीब 10 परिवार रह रहे हैं। दस परिवारों को हटाने की तैयारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि जब उन्हें हटाया जाना था तो योजनातंर्गत मकान बनान के लिए राशि क्यों दी गईं। इस संबंध में जनपद सदस्य निशा दुबे का कहना है कि शासन ने प्रधानमंत्री आवास निर्माण के लिए राशि दी थी। कार्य प्रारंभ के बाद ग्राम पंचायत को कोई आपत्ति नहीं थी। हितग्राहियों ने कहा कि गुरुवार १५ मार्चको वह एसडीएम को आवेदन देकर उनके मकान हटाने के बाद दूसरी जगह देने की मांग करेंगे। यदि सुनवाईनहीं हुईतो वह भूख हड़ताल करेंगे।
इनका कहना है
8 से 10 परिवारों को अतिक्रमण हटाने के संबंध में करीब 1 माह पूर्व नोटिस जारी किए गए हैं। प्रधानमंत्री आवास निर्माणाधीन है तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
प्रेमचंद दीवान, नायब तहसीलदार, टिमरनी

पुराने शासकीय गोहे में कच्चे मकान थे। उनके स्थान पर आवास योजना के तहत पक्के मकान बनाए जा रहे हैं। हितग्राहियों को नोटिस जारी होने संबंधी मुझे कोईजानकारी नहीं है। जनपद पंचायत उनके साथ है। हितग्राहियों से अपील कराईजाएगी।
रंजीतसिंह ताराम, सीईओ जनपद पंचायत टिमरनी

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned