प्रयोगशाला भवन बनने के बाद भी नहीं हो रही मिट्टी की जांच, किसान परेशान

प्रयोगशाला भवन बनने के बाद भी नहीं हो रही मिट्टी की जांच, किसान परेशान

pradeep sahu | Publish: Sep, 10 2018 11:57:26 AM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

हरदा मिट्टी प्रयोगशाला में करानी पड़ती है जांच, रिपोर्ट आने में लग जाते हैं ५-६ माह

टिमरनी. स्थानीय कृषि उपज मंडी परिसर में खेतों की मिट्टी की जांच के लिए मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला का भवन तो बनकरतैयार हो गया है। लेकिन यहा अभी तक मिट्टी की जांच होना शुरू नहीं हुई है। विकासखंड से खेतों की मिट्टी की जांच के लिए हर साल हजारों खेतों की मिट्टी के नमूने जांच के लिए हरदा मिट्टी प्रयोगशाला भेजे जाते है। इससे मिट्टी नमूनों की जांच रिपोर्ट मिलने में 5 से 6 महीने लग जाते है। जब तक किसान मजबूरी में खेतों में बोवनी ही कर देता है। इसके बाद जांच रिपोर्ट कार्ड मिलता है। जिसका कोई मतलब नहीं रह जाता है। किसान मिट्टी मके पोषण तत्वों की कमी को पूरा नहीं कर पाता है।

कृषि विभाग के हैंडओवर नहीं किया भवन - जिले में मात्र हरदा में ही मिट्टी की जांच प्रयोगशाला में की जाती है। खिरकिया एवं टिमरनी में प्रयोगशाला बनकर तैयार है लेकिन जांच होना शुरू नहीं हुई है। मंडी बोर्ड द्वारा लाखों रुपए की लागत से मंडी परिसर में मिट्टी प्रयोगशाला भवन बनाया गया है। लेकिन अभी तक बोर्ड द्वारा कृषि विभाग के हैंडओवर नहीं किया गया है। मिट्टी प्रयोगशाला भवन के बनते बनते कई साल बीत चुके है। विभागीय लेटलतीफी के चलते किसानों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। क्षेत्र के किसानों द्वारा प्रयोगशाला शुरू करने की मांग को लेकर अधिकारियों को आवेदन भी दिया जा चुका है। इसके बावजूद भी अभी तक प्रयोगशाला भवन चालू नहीं हो सका है।

इनका कहना है...
&अभी मिट्टी प्रयोगशाला भवन हैंडओवर नहीं किया है। हैंडओवर होने के बाद प्रयोगशाला शुरू हो जाएगी।
देवीसिंह वर्मा, सहायक संचालक, कृषि विभाग, टिमरनी

 

निर्माणाधीन मार्ग पर फंस रहे वाहन

दीपगांव कला. इन दिनों निर्माणीधीन सिराली-चारुवा मार्ग पर वाहन चालकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ठेकेदार द्वारा पुराने मार्ग का उखड़ाने से आए दिन वाहन फंस रहे है। यह समस्या दिनों दिन बड़ती जा रही है। ऐसे में कई यात्री बसों के संचालकों ने इस मार्ग पर बसे चलाना ही बंद कर दिया है। वहीं अन्य वाहन चालक भी इस मार्ग से गुजरने से बचते है। लेकिन ठेकेदार एवं विभागीय अधिकारियों द्वारा वाहन चालकों की इस समस्या का समाधान नहीं किया जा रहा है। विगत दिवस इस मार्ग पर यात्री बस के फंसने पर बड़ी मशक्कत के बाद जेसीबी के माध्यम से निकाली गई।

Ad Block is Banned