वैज्ञानिकों ने बनाया ऐसा मास्क जो बिल्कुल एन-95 मास्क की तरह काम करता है

अमरीका की मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) ने एक रियूजेबल मास्क (Re-usable)बनाया है जो सिलिकॉन से बना है। इसे बार-बार उपयोग में लिया जा सकता है क्योंकि ऐसा करने में संक्रमण का खतरा नहीं है। वैज्ञानिकों ने इसे आइ-मास्क (iMASC) नाम दिया है।

By: Mohmad Imran

Published: 31 Jul 2020, 03:51 PM IST

कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमितों का इलाज कर रहे फ्रंटलाइन चिकित्साकर्मी, डॉक्टर और नर्स फेस मास्क, ग्लव्ज और पीपीई किट (PPE Kit) की कमी से जूझने के कारण रचनात्मक तरीकों से इन्हें पुन- उपयोग लायक बना रहे हैं। लेकिन कुछ वैज्ञानिकों ने चिकित्सकों की इस परेशानी को समझा और और ऐसे उत्पाद विकसित किए जिन्हें पर्सनल हाइजीन और पीपीई किट के रूप में बार-बार उपयोग किया जा सकता है वो भी बिना किसी संक्रमण के डर के। हाल ही अमरीका की मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ने एक रियूजेबल मास्क बनाया है जो सिलिकॉन से बना है। इसे बार-बार उपयोग में लिया जा सकता है क्योंकि ऐसा करने में संक्रमण का खतरा नहीं है। वैज्ञानिकों ने इसे आइ-मास्क (iMASC) नाम दिया है। इस काम में एमआइटी की मदद ब्रिघम और महिला अस्पतालए बोस्टन के चिकित्सकों ने भी की है। हालांकि शोधकर्ताओं अब भी इस बात की पुष्टि करने का प्रयास कर रहे हैं कि यह मास्क वायरस और अन्य हानिकारक कणों को कितनी प्रभावी रूप से रोक पाता है। लेकिन यह स्वास्थ्य देखभाल में आपूर्ति की कमी को दूर करने की दिशा में एक आशाजनक कदम है।

वैज्ञानिकों ने बनाया ऐसा मास्क जो बिल्कुल एन-95 मास्क की तरह काम करता है

एन-95 मास्क की तरह कारगर
मास्क बनाने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि के रचनाकारों का कहना है कि आइ-मास्क एन-95 श्वासयंत्र मास्क (rESPIRATOR MASK) जितनी ही सुरक्षा प्रदान करता है। यह बारीक हानिकारक कणों को शरीर में प्रवेश करने से रोकने के लिए एन 95 मास्क के फिल्टर का ही उपयोग करता है। आइमास्क एक विशेष सिलिकॉन रबर से बना है जिन्हें प्रत्येक उपयोग के बाद दोबारा उपयोग किया जा सकता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि मुंह को कवर करने वाले डबल फिल्टर को प्रत्येक उपयोग के बाद बदला भी जा सकता है। शोधकर्ताओं ने पीपीई किट और अन्य महत्त्वपूर्एा चिकित्सा उपकरणों की कमी को देखते हुए इस तरह के दोबारा उपयोग लायक मास्क बनाने का सोचा। इसके लिए उन्होंने 3डी (3D Technique)प्रिंटर की मदद से बनाया है और नर्सों और चिकित्सकों के साथ इसकी उपयोगिता को परखा।

वैज्ञानिकों ने बनाया ऐसा मास्क जो बिल्कुल एन-95 मास्क की तरह काम करता है

एन-95 की कमी को किया दूर
पीपीई उपकरणों की कमी ने डॉक्टरों को दूषित चिकित्सा उपकरणों का दोबारा उपयोग करने के लिए मजबूर किया। इसलिए चिकित्सकों ने एन-95 मास्क ही पहनना पसंद किया। लेकिन इसकी सबसे बड़ी कमी सह थी कि एक बार इस्तेमाल के बाद इसे दोबारा उपयोग में नहीं लिया जा सकता था। लेकिन कोरोना संक्रमितों की स्वास्थ्य देखभाल में लगे कर्मचारियों को मास्क और अन्य पीपीई किट की कमी के कारण उपयोग में लिए जा चुके उपकरणों को फिर से उपयोग करना पड़ा। एन-95 मास्क में उपयोग होने वाले फिल्टिरिंग कपड़ा बनाने वाले पीटर त्साई और ड्यूक विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उपयोग कर मार्च में अपने स्वयं के फिल्टर टेक्नीक का तरीका विकसित किया। अब इसी नई फिल्टर तकनीक को आइमास्क में उपयोग किया गया है।

वैज्ञानिकों ने बनाया ऐसा मास्क जो बिल्कुल एन-95 मास्क की तरह काम करता है

कई तरह से स्टरलाइज कर सकते हैं
शोधकर्ताओं ने देखा कि मास्क को स्टरलाइज (Sterlize) कर दोबारा इस्तेमाल करनें के एक या दो ही तरीके हैं। ऐसे में उन्होंने आइमास्क पर हर संभव तरीका अपनाया। उन्होंने ऑटोक्लेव, स्टीम स्टेरलाइजऱ, ओवन में रखना, ब्लीच और आइसोप्रोपिल अल्कोहल में भिगोना जैसे तरीकों को शामिल किया। प्रत्येक परीक्षण के बाद सिलिकॉन सामग्री फिर से इस्तेमाल करने लायक थी और संक्रमण का खतरा भी नहीं था। ड्यूक शोधकर्ताओं की टीम के बायोकेन्टोमीनेशन विधि को पूरा होने में घंटों लगते हैं जबकि इन तरीकों से इन्हें कुछ मिनटोंमें ही दोबारा उपयोग के लिए तैयार किया जा सकता है। इस तरह से आइमास्क को बार-बार स्टरलाइज कर कम से कम 20 बार तक उपयोग किया जा सकता है।

Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned