जानें आर्थराइटिस के निदान के लिए ये खास बातें, करें ये व्यायाम और परहेज

Vikas Gupta

Publish: Oct, 12 2017 03:49:53 (IST)

Health
जानें आर्थराइटिस के निदान के लिए ये खास बातें, करें ये व्यायाम और परहेज

आज विश्व आर्थराइटिस दिवस के मौके पर हम आपको आर्थराइटिस से जुड़ी कुछ अहम जानकारियां दे रहे हैं जो अापके लिए उपयोगी हो सकती हैं।

आर्थराइटिस या गठिया जिसे संधिशोथ भी कहा जाता है एक प्रकार की जोड़ों की सूजन होती है। गठिया के लक्षण आमतौर पर समय के साथ बढ़ते जाते हैं। संधिशोथ यानि गठिया 65 वर्ष से अधिक उम्र वालों में देखा जाता है। लेकिन ये बच्चों, टीनएज और युवाओं में भी हो रहा है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में गठिया अधिक होता है और खासतौर से उनमें जिनका वजन ज्यादा होता है या जिनमें मोटापा होता है। आर्थराइटिस मुख्य तौर पर दो प्रकार के होते है - ऑस्टियो आर्थराइटिस (अस्थिसंधिशोथ) और रूमेटाइड आर्थराइटिस (रुमेटी संधिशोथ)।जोड़ो की हिड्डियों में यूरिक एसिड जमा होने से आर्थराइटिस होता है। आज विश्व आर्थराइटिस दिवस के मौके पर हम आपको आर्थराइटिस से जुड़ी कुछ अहम जानकारियां दे रहे हैं जो अापके लिए उपयोगी हो सकती हैं।

परहेज और आहार

इन आाहरों का करें सेवन
ओमेगा-3 फैटी एसिड्स से भरपूर आहार जैसे- समुद्री मछली, अलसी, अखरोट, समुद्री शैवाल का सेवन करें।भोजन पकाने में वनस्पति तेल या मक्खन के स्थान पर जैतून का तेल प्रयोग करें ये आर्थराइटिस सम्बन्धी सूजन को रोकने में सहायक होता है।विटामिन सी से भरपूर आहार जैसे- अमरुद, शिमला मिर्च, संतरे, अंगूर, स्ट्रॉबेरीज, अन्नानास, पपीता, नीबू, ब्रोकोली, आलू और ब्रसल अंकुरित आहार का सेवन करें। शकरकंद, गाजर, केल, बटरनट स्क्वाश, शलजम का साग, कद्दू, सरसों का साग, खरबूज, लाल मिर्च, खुबानी और पालक भी इसमें फायदेमंद रहता है। ब्लेक्बेरी, करौंदे, ब्लूबेरी, बैंगन, एल्डरबेरी, रसबेरी, चेरी, लाल/काले/जामुनी अंगूर, स्ट्रॉबेरी, आलूबुखारा, क्रेनबेरी, लाल प्याज, और सेव भी खाए। समुद्री मछली, दूध (मलाई निकला) सोयामिल्क, अंडे की जर्दी, मशरूम्स, अदरक और हल्दी जैसे मसालों में सूजन कम करने के गुण माने जाते हैं।इनसे शरीर को विटामिन-डी मिलता है।

इस तरह के भोजन से करे परहेज
पशु उत्पादों से प्राप्त फेट्स जैसे कि गोश्त, त्वचायुक्त चिकन, और फेट युक्त डेरी आहार, पाम आयल और पाम-कर्नेल (केर) का तेल, कूकीस, बार्स, नॉन डेरी क्रीम युक्त पदार्थ, और अन्य बेक की हुए पैक वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए। शक्कर युक्त वस्तुएं, मैदे से चीजें, सफेद चावल और ब्रेड आदि के सेवन से बचना चाहिए।
योग ? और व्यायाम

सप्ताह में कुछ दिन शारीरिक गतिविधि आर्थराइटिस के दर्द और जकड़न को कम करने में सहायक है। धीमी गति से कम जोर डालने वाले कार्य करना आर्थराइटिस वाले रोगियों के लिए फायदेमंद रहते हैं।टहलना, तैरना, और साइकलिंग को भी व्यायाम में शामिल कर सकते हैं। मांसपेशियों को मजबूत करने वाले व्यायाम जैसे- पुश अप, डम्बल्स का उपयोग करके वजन उठाने वाली एक्सरसाइज भी करनी चाहिए।हाथों और पैरों के जोड़ों को मोड़ने और खींचने वाले व्यायाम आर्थराइटिस के दर्द को कम करते हैं।

ये योगासन देगें लाभ
सूर्यनमस्कार
वीरासन
वृक्षासन
सेतुबंध सर्वांगासन
सुखासन
गौ मुद्रा
घरेलू उपाय (उपचार)

शरीर को क्रियाशील रखने के लिए नियमित व्यायाम किया जाना चाहिए।वजन को नियंत्रित रखें। जोड़ों की चोट से बचें।धूम्रपान कनेक्टिव टिशूज पर जोर डालता है, जिससे आर्थराइटिस का दर्द बढ़ता है इस लिए धूम्रपान छोड़ दें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned