केंद्र की उम्मीदों पर खरे नहीं उतर रहे हरियाणा के आईएएस अफसर,जानिए क्या है मामला!

पीएमओ द्वारा केंद्र के पैनल के लिए आईएएस अधिकारियों का नाम तय करने से पहले उनके बारे में फीडबैक जुटाया जाता है...

By: Prateek

Published: 22 Jul 2018, 02:46 PM IST

(चंडीगढ़): केंद्र सरकार द्वारा हर साल तैयार की जाने वाली प्रतिनियुक्ति सूची में हरियाणा का कोई भी आईएएस शामिल नहीं हो सका है। अधिकारियों को लेकर लिए जाने वाले 360 डिग्री फीडबैक में हरियाणा के 1990 बैच के सभी छह आईएएस खरे नहीं उतर पाए। इससे पहले 1987 बैच के अधिकारियों को भी केंद्र के पैनल में जगह नहीं मिली थी।


पीएमओ द्वारा केंद्र के पैनल के लिए आईएएस अधिकारियों का नाम तय करने से पहले उनके बारे में फीडबैक जुटाया जाता है। 360 डिग्री फीडबैक का मतलब संबंधित बैच के अधिकारियों के बारे में उनके जूनियर और सीनियर अधिकारियों के साथ-साथ बाहर के लोगों से भी जानकारी जुटाई जाती है। हरियाणा से केंद्र में जाने वाले अधिकारियों के बारे में यही फीडबैक जुटाया गया था। जिसमें उनके बारे में उम्मीदों के अनुकूल रिपोर्ट नहीं आ सकी है।


जानकारी के अनुसार केंद्र द्वारा बनाए गए पैनल में अतिरिक्त सचिव पद के लिए देशभर के कुल 40 आईएएस अफसरों का चयन हुआ है। यह सभी 1990 बैच के अधिकारी हैं। लेकिन हरियाणा में इस बैच के छह अधिकारियों-सुधीर राजपाल, सुमिता मिश्रा, अंकुर गुप्ता, अनुराग रस्तोगी, आनंद मोहन शरण और राजा शेखर वुंडरू में से किसी का भी नंबर नहीं लगा। इसके बाद केंद्र ने 1987 बैच के दो अधिकारियों का रिव्यू किया तो उनमें अतिरिक्त सचिव पद के लिए उद्योग तथा नागरिक उड्यन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह व उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा विभाग की
अतिरिक्त मुख्य सचिव ज्योति अरोड़ा का नाम शामिल है।


केंद्र के पैनल में शामिल होने के बाद अगर संबंधित अधिकारी चाहें तो केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर जा सकते हैं। इसके लिए उन्हें मुख्य सचिव के माध्यम से केंद्र को आवेदन करना होगा। 1989 बैच के आईएएस अधिकारी तरूण बजाज, आरके खुल्लर, टीवीएसएन प्रसाद का पहले से ही केंद्र के पैनल में नाम है। बजाज पीएमओ में अतिरिक्त सचिव हैं और खुल्लर वर्तमान में सीएम के प्रधान सचिव पद पर कार्यरत हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned