30 फिट के रावण और 20-20 फिट के कुभकरण और मेघनाद के पुतले का होगा दहन

ईदगाह निवासी मुस्लिम परिवार द्वारा 26 साल से तैयार किए जाते है पुतले

By: rajendra parihar

Published: 13 Oct 2021, 11:51 AM IST

राजेन्द्र परिहार, होशंगाबाद- बुराई पर अच्छाई की जीत के त्यौहार दशहरा पर्व के लिए शहर में पिछले 26 साल से तैयार होने वाले रावण, मेघनाथ व कुंभकरण के पुतले मुस्लिम परिवार द्वारा बनाए जा रहे हैं। यह आपसी सौहाद्र्र का ही परिचायक है कि ईदगाह निवासी मोहम्मद शागिर का परिवार इतने सालों से इस काम को कर रहा है। हर साल इस त्यौहार में यह परिवार एक माह तक अपने परिवार सहित इस काम को पूरा करता हैं हालांकि इस बार 20 दिन में ही पुतले तैयार किए गए हैं। मोहम्मद शागिर का इस बात का हमेशा ख्याल रखते हैं कि शहरवासियों सहित हिंदू भाईयों को क्या नया दे सकें। इसके लिए ही पूरा परिवार विशेष कार्य योजना तैयार करता है।
रावण से 10 फिट कम होंगे दो अन्य पुतले
रावण का पुतला 30 फिट का है जबकि कुंभकरण और मेघनाद के पुतले 20-20 फिट के हैं। अभी पुतलों का आधार तैयार किया गया है। इन पुतलों पर कपड़े लगाए जा रहे हैं। कपड़ा लगनेे से तीनों पुतले अलग-अलग दिखाई देने लगेंगे। रावण के पुतले पर काला कपड़ा व कुंभकरण और मेघनाद के पुतलों पर नीले और लाल रंग का कपड़ा चढ़ाया जाएगा। पुतलों की ऊंचाई अधिक होने की वजह से पूरा काम लिटाकर ही होता है।
ये लगा रहे हैं सामग्री
रावण के पुतले तैयार कर रहे शागिर ने बताया कि तीनों पुतले तैयार करने में 20 दिन का समय लगा है। इसमें तीन दर्जन से ज्यादा बड़े बांस, अखबार की रद्दी व दूसरे पेपर, डेढ़ सौ किलो मिट्टी सहित धागा, कपड़ा व कांच सहित रंग बिरंगी डोरी लगाई जा रही है। पुतले को मजबूती प्रदान करने के लिए बांस लगाए हैं। इसके साथ ही बांस के बीच में सुतली को बांधे रखने के लिए मिट्टी का उपयोग किया जा रहा है। मिट्टी की वजह से सुतली आग में कुछ देर तक जलती नहीं हैं और पुतला स्थिर खड़ा रहता है।

rajendra parihar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned