स्मृति की चिट्ठी से मचा वबाल, मुश्किल में आए यह बड़े लोग

समाज आया खुलकर सामने, सौंपा ज्ञापन, की कार्रवाई की मांग

बैतूल। स्मृति की एक चिट्ठी ने वबाल मचा दिया। उसे इंसाफ दिलाने के लिए पूरा साहू समाज खुलकर सड़क पर आ गया है। इससे रसूखदारों की मुश्किल बढ़ गई हैं। समाज ने एसपी को ज्ञापन सौंपकर इन बड़े लोगों पर कार्रवाई की मांग की है। जिनकी वजह से स्मृति को अपनी जान गवाना पड़ी। ज्ञात रहे कि पिछले दिनों इंडेक्स मेडिकल कॉलेज से एनेस्थीसिया विषय से पढ़ाई कर रही तृतीय वर्ष की छात्रा स्मृति (29) पिता किशोर कुमार लहरपुरे ने इंजेक्शन की ओवरडोज लेकर आत्महत्या कर ली थी। वह सुसाइड नोट छोड़कर गई है, जिसमें कालेज प्रबंधन को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया गया है। लेकिन अभी तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने पर बुधवार को साहू समाज सड़क पर उतरा और इंसाफ की मांग करते हुए एसपी को ज्ञापन सौंपा।

इसलिए दी थी जान
डॉ स्मृति लहरपुरे ने मरने से पहले पहले एक चिट्ठी अपने घर वालों के नाम लिखी थी, अब वो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। वह चिट्ठी सरकार और उसके सरकारी सिस्टम को आईना दिखाने के लिए काफी है। यह चिट्ठी बताती है कि कैसे मध्यप्रदेश के भीतर निजी मेडिकल कॉलेजों को मनमानी करने की छूट मिली हुई है। आत्महत्या की वजह मेडिकल कॉलेज प्रबंधन द्वारा लगातार फीस के लिए दबाव बनाना सामने आया था। काउंसलिंग के दौरान मुझे जो फीस बताई गई थी उसके अनुसार टयूशन फीस 8 लाख 55 हजार और हॉस्टल फीस 2 लाख थी। इसके बाद जब मैं कॉलेज में ज्वाइन करने आई तो इंडेक्स कॉलेज प्रबंधन ने मुझसे कॉशन मनी और एक्सट्रा करिकुलर एक्टीविटी के नाम पर फिर 2 लाख मांगे। चूंकि मैं मध्यमवर्गीय परिवार से हूं इसलिए अतिरिक्त फीस नहीं चुका सकती थी लेकिन नीट परीक्षा के बाद बामुश्किल मिला पीजी करने का यह अवसर हाथ से न निकल जाए इसलिए मैंने 2 लाख का फिर लोन लिया, इसके बाद जैसे ही मैं ज्वाइन करने पहुंची कॉलेज प्रबंधन ने फिर दो लाख मांग लिए इसके बाद रातभर के प्रयास के बाद मैने अपनी सीट खोने के डर से मैंने यह व्यवस्था भी की लेकिन कॉलेज ने टयूशन फीस 8 लाख 55 हजार से 9 लाख 90 हजार कर दी और सभी छात्रों से यह फीस जमा करने को बोला जाहिर से अचानक एक लाख 35 हजार की फीसवृद्धि सहन करना हर किसी के लिए मुश्किल था इसलिए हम सभी लोग इसके खिलाफ जबलपुर हाईकोर्ट गए।

यह भी लिखा चिट्ठी में
मेरी मौत के लिए सीधे तौर पर इंडेक्स कॉलेज के चैयरमैन सुरेश भदौरिया और उनके कॉलेज का मैनेजमेंट है, इनमें मुख्यरूप से डॉ के के खान हैं क्योंकि इन दोनों के द्वारा मुझे लगातार प्रताडित किया जा रहा था। मैने जून 2017 में नीट परीक्षा के माध्यम से ज्वाइन किया था। मुझे माफ कर देना मम्मी, स्वामी और सूर्या...मैं डॉ स्मृति लहरपुरे पूरे होश हवास में लिख रही हूं न ही कभी मैने कोई नशे या दवाई का सेवन ही किया है। सबसे पहले मै अपनी माँ और भाईयों से माफी चाहती हूं कि मैं ऐसा कदम उठा रही हूं क्योंकि तुम तीनों ने हर विपरीत परिस्थितियों में मेरा साथ दिया, मै इन लोगों ने और नहीं लड़ सकती इसलिए मुझे माफ कर देना।
साहू समाज बोला- मामला दर्ज हो
साहू समाज ने बुधवार को इंडेक्स मेडिकल कॉलेज प्रबंधन पर प्रताडऩा करने का आरोप लगाते हुए एसपी डीआर तेनीवार को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की। उनका आरोप की कॉलेज की प्रताडऩा एवं धमकी से भयभीत होकर स्मृति ने आत्महत्या की थी। इस मामले के 2 सप्ताह बीतने के बावजूद पुलिस ने दोषियों पर कोई कार्रवाई नहीं की है। अब तक एफआईआर तक नहीं लिखी गई।

 

बृजेश चौकसे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned