Lok adalt: जरा सी कोशिश ने उजडऩे से बचाए कई परिवार

Lok adalt: जरा सी कोशिश ने उजडऩे से बचाए कई परिवार

poonam soni | Publish: Jul, 14 2019 12:02:10 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

किसी के शक ने तो किसी का शराब ने तोड़ दिया घर, समझाइश के बाद फिर साथ रहने हुए राजी

होशंगाबाद. घर की छोटी-छोटी बातों पर पति-पत्नी के बीच अनबन और झगड़े हुए, तो पत्नी मायके चली गई। किसी को पति के शराब पीकर मारपीट करने तो किसी को सास-ससुर के रूखे व्यवहार तो किसी को अच्छे से नहीं रखने, जरूरतों को पूरा नहीं करने से दिक्कतें थी। आज जब लोक अदालत में कुटुंब न्यायालय एवं परिवार परामर्श केंद्र में इनके मामले आए तो न्यायाधीशों और अधिवक्ताओं ने परिजनों के बीच समझाइश देकर और सुलह कराई। करीब एक दर्जन जोड़ फिर से साथ रहने और अपने बच्चों की अच्छे से देखभाल करने को राजी हो गए। इन्हें फलदार पौधे देकर खुशी-खुशी उनके घरों को रवाना किया गया।

 

लोक अदालत में सुलझे 1337 मामले :

जिला कोर्ट में शनिवार को लगी नेशनल लोक अदालत में 1337 मामले का निराकरण हुआ। 33 खंडपीठों ने कुल 4 करोड़ 9 लाख 82 हजार 240 रुपए के अवॉर्ड पारित किए तथा करीब 70 लाख 7 हजार 50 रुपए की विभागीय वसूली की गई। इससे करीब 1803 लोग लाभांवित हुए। लोक अदालत का शुभारंभ जिला सत्र न्यायाधीश चंद्रेश कुमार खरे ने किया।

 

परिवार परामर्श केंद्र में छह में से तीन समझौते
लोक अदालत में परिवार परामर्श केंद्र के माध्यम से छह प्रकरण रखे गए। इनमें से तीन में समझौता हुआ और तीन को कोर्ट जाने की सलाह दी गई। सुलह के बाद तीनों जोड़ों ने एक-दूसरे को माला पहनाई और भेंट में मिले पौधे लेकर घर पहुंचे। पति-पत्नी के बीच काउंसलर सिंधू दुबे, अनिता जाट, भावना विष्ट, आरक्षक लक्ष्मी राजपूत, सैनिक सरोज ने सुलह कराई।

 

यह रहे मामले
मामला एक
पति बोला अब नहीं करूंगा झगड़ा
होशंगाबाद के रसूलिया निवासी सीमा और रमेश (परिवर्तित नाम) के मामले में पति पत्नी और दोनों नि:शक्त बच्चों का अच्छे से देखभाल नहीं करता था। खर्चा नहीं उठाता था। इस वजह से दोनों के बीच झगड़ा होता था। काउंसलरों ने दोनों को समझाइश दी तो वह सुलह को राजी हो गए।

 

मामला दो
पति ने कहा- नहीं करूंगा शक
बीटीआई निवासी रमाबाई और हीरालाल (परिवर्तित नाम) के मामले में पति पत्नी पर शक करता था। बच्चों की भी अच्छे से देखभाल नहीं करता था। इस वजह से दोनों के बीच अनबन हो गई। दोनों को समझाइश देकर सुलह कराई गई तो दोनों ने अच्छे रहने व बच्चों का अच्छे से पालन-पोषण करने का कोर्ट को वचन दिया।

 

मामला तीन
पति बोला नहीं
पीऊंगा शराब
खोजनपुर निवासी रमा और सुरेश (परिवर्तित नाम) के मामले में पति शराब पीकर मारपीट-झगड़ा करता था। इससे दोनों के बीच बोलचाल भी बंद हो गई थी। काउंसलरों ने जब समझाइश दी तो पति ने कहा अब शराब नहीं पीऊंगा और झगड़ा नहीं करूंगा। पत्नी को अच्छे से रखूंगा। इस बात पर पत्नी भी राजी हो गई।

 

मामला चार
पत्नी ने मायके जाने की जिद छोड़ी
बागरातवा बाबई के राजू और चंपा के बीच झगड़ा यह था कि पत्नी बार-बार मायके चली जाती थी। इससे दोनों के बीच झगड़े होते थे। तलाक तक की नौबत आ गई थी। दोनों की शादी 2014 में हुई थी। न्यायाधीश व अधिवक्ताओं की समझाइश पर दोनों ने गिले-शिकवे भुलाकर आगे की जीवन साथ निभाने का वादा किया। मामला छह: छोटी-छोटी बातों पर झगड़ते थे।
हनुमान नगर रसूलिया के दीपेंद्र और दीपा (परिवर्तित नाम) घर की छोटी-छोटी बातों पर झगड़ते थे। दोनों का विवाह 2013 में हुआ था। एक पुत्र भी है। पत्नी पति और सास-सुसर को जेल पहुंचाने की धमकी देती थी। जब न्यायाधीश ने काउंसिलिंग कर समझाइश दी तो दोनों ने पुरानी गलतियों को न दोहराने और अच्छे से रहने को राजी हो गए।

 

मामला पांच
पत्नी साथ रहने को राजी हुई
मालाखेड़ी निवासी चंदाबाई और सूरज (परिवर्तित नाम) के मामले में पति शराब पीकर मारपीट करता था। इससे दोनों के बीच रिश्तों में कड़वाहट आ गई। कुटुंब न्यायाधीश देवनारायण शुक्ल ने जब दोनों को समझाइश दी तो मान गए। दोनों को पौधे देकर राजी-खुशी घर रवाना किया गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned