90 साल की उम्र में शुरू किया Startup, देखते ही देखते बन गईं एक बड़ा Brand !

चंडीगढ़ (Chandigarh) की रहने वाली 94 वर्षीय हरभजन कौर (Harbhajan Kaur besan ki barfi online) ने चार साल पहले यानी 90 साल की उम्र में में अपना बेसन की बर्फी का बिजनेस (Business) स्टार्ट किया था, जो आज एक ब्रैंड बन चुका है।

By: Vivhav Shukla

Published: 29 Jul 2020, 04:42 PM IST

नई दिल्ली। अंग्रेजी में एक कहावत है ‘Age is just a number’ यानी कि उम्र सिर्फ एक नंबर है। कहने का मतलब ये है कि यदि आप कुछ दिल से हासिल करना चाहते हैं तो आप उसे किसी भी उम्र में हासिल कर सकते हैं। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है Chandigarh की बर्फी वाली दादी ने। दीदी का असली नाम हरभजन कौर (Harbhajan Kaur) है। चंडीगढ़ की रहने वाली 94 वर्षीय हरभजन कौर (Harbhajan Kaur besan ki barfi online) ने चार साल पहले यानी 90 साल की उम्र में में अपना बेसन की बर्फी का बिजनेस स्टार्ट किया था, जो आज एक ब्रैंड बन चुका है।

harbhajan-kaur-94-year-old-woman-entrepreneur-from-chandigarh--idiva-lead_5e15b32d824f9_6185492-m.jpg

हाथों-हाथ बिक गयी बर्फी

दादी बताती है कि जब पहली बार उन्होंने यह सब तैयार कर बर्फी का स्टॉल चंडीगढ़ (Chandigarh) की आर्गेनिक मंडी में लगाया तो बर्फी हाथों-हाथ बिक गयी। इसके बाद से आज तक वे लोगों को अपने हाथ से बनी बर्फी खिला रही है। हालांकि अब उनके पास कोई दुकान नहीं है, लेकिन हर रोज ऑर्डर के मुताबिक वो बेसन की बर्फी तैयार करती हैं। दादी का कहना है कि उन्होनें बर्फी की खास रेसिपी को उन्होंने पिता स्व. जयराम सिंह चावला से सीखा था। बर्फी बनाने का उनका अपना तरीका सौ साल से भी अधिक पुराना है।

harbhajan_kaur_6185492-m.png

कैसे बनी Entrepreneur ?

दादी के एंटरप्रेन्योर (Entrepreneur) बनने की कहानी भी बेहद दिलचस्प हैं। दादी के मुताबिक जब वो 90 साल की थीं और एक रोज उन्हें महसूस हुआ कि पूरी ज़िंदगी ऐसे ही निकाल दी, इस उम्र तक उन्होनें एक रूपया भी नहीं कमाया। इसके बाद उन्होंने अपनी बेटी से अपने दिल की बात बताई और बेटी ने उन्हें बर्फी बनाने का आइडिया दिया। फिर क्या धीरे-धीरे दादी ने आचार, चटनी बनाना शूरू कर दिया और एक सफल एंटरप्रेन्योर बन गई।

Entrepreneur of the Year

अपनी मां के बारे में बताते हुए रवीना कहती हैं कि हर मां अपने अंदर की इस प्रतिभा को किसी न किसी वजह से अपने घर तक ही सीमित रखती है उन्होंने भी ऐसा किया मगर इस वृद्धावस्था में उन्होंने अपने अंदर के जज़्बे को जागकर अपने सपने को जीना शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि मां ने ये बिजनेस 500 से शुरू किया था और उनकी पहली कमाई पहली कमाई 2000 रुपए की थी जिसे पाकर वो बेहद खुश थीं।

अब मां के हाथ की बर्फी पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर से लेकर आनंद महिंद्रा को भी खूब पसंद आती है। आनंद मंहिद्रा ने भी दादी के लेकर एक ट्वीट भी किया था जिसमें उन्होंने हरभजर कौर को 'एंटरप्रेन्योर ऑफ द ईयर' (Entrepreneur of the Year) बताया था।

 

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned