scriptDengue cases are continuously increasing, infectious disease out of co | लगातार बढ़ रहे डेंगू के मामले, नियंत्रण से बाहर संक्रामक रोग | Patrika News

लगातार बढ़ रहे डेंगू के मामले, नियंत्रण से बाहर संक्रामक रोग

locationहुबलीPublished: Dec 28, 2023 11:53:24 am

Submitted by:

Zakir Pattankudi

जिले में खांसी, सर्दी, बुखार, डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी संक्रामक बीमारियों के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं।

मौसम की बेरुखी के कारण बच्चे व बुजुर्ग बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। हालांकि जिला स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया पर नियंत्रण के लिए कदम उठाने के बाद भी सामान्य वायरल बुखार अधिक लोगों को प्रभावित कर रहा है।

लगातार बढ़ रहे डेंगू के मामले, नियंत्रण से बाहर संक्रामक रोग
लगातार बढ़ रहे डेंगू के मामले, नियंत्रण से बाहर संक्रामक रोग
मौसम की बेरुखी, बच्चे व बुजुर्ग बीमारी की चपेट में
हुब्बल्ली. जिले में खांसी, सर्दी, बुखार, डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी संक्रामक बीमारियों के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं।

मौसम की बेरुखी के कारण बच्चे व बुजुर्ग बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। हालांकि जिला स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया पर नियंत्रण के लिए कदम उठाने के बाद भी सामान्य वायरल बुखार अधिक लोगों को प्रभावित कर रहा है।
वर्तमान जनवरी से नवंबर के अंत तक 2,120 लोगों में डेंगू के लक्षण दिखे गए हैं और 1,961 डेंगू संदिग्धों का परीक्षण किया गया था। इनमें से 203 पॉजिटिव केस सामने आए हैं।

धारवाड़ शहर समेत तालुक में 127, हुब्बल्ली तालुक में 8, हुब्बल्ली शहर में 35, कलघटगी में 14, कुंदगोल में 11 और नवलगुंद में 8 मामले दर्ज किए गए हैं।
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कोविड के चलते 2020 में डेंगू के केवल 36 मामले दर्ज किए गए थे। पिछले साल 2022 में सबसे ज्यादा मामले देखने को मिले थे। 1,136 डेंगू संदिग्धों का रक्त परीक्षण किया गया था। इनमें से 264 मामलों की पुष्टि हुई है।
इस वर्ष 14 लोगों में मलेरिया पाया गया है। चिकनगुनिया के लक्षण वाले 1,528 लोगों का परीक्षण किया गया है और 30 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। धारवाड़ और हुब्बल्ली में ही डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के मामले अधिक हैं।
डेंगू के लक्षण

जिला मलेरिया रोग नियंत्रण अधिकारी डॉ. मंजुनाथ ने बताया कि बदन दर्द, तेज बुखार और जोड़ों का दर्द, सिरदर्द, आंखों के पीछे दर्द, मतली और उल्टी, त्वचा पर खून के निशान, गंभीर मामलों में मुंह और नाक से खून आना आदि डेंगू के लक्षण हैं।
पानी को क्लोरीन का घोल डालकर करें शुद्ध
उन्होंने बताया कि डेंगू फैलने वाले मच्छर साफ पानी में भी पैदा होते हैं। पानी की टंकी, ड्रम और सिंटेक्स को नियमित रूप से साफ कर मजबूत तौर पर बंद रखना चाहिए।
घर के आसपास पानी जमा होने नहीं देना चाहिए। आसपास के क्षेत्र में साफ-सफाई रखनी चाहिए। यह सुनिश्चित किया जाए कि गंदा पानी जमा न हो और मच्छर न पनपें। कीटाणुनाशक का छिडक़ाव करना चाहिए। पानी को क्लोरीन का घोल डालकर शुद्ध करना चाहिए।
गर्म पानी पीना चाहिए
नगर निगम की ओर से जुड़वां शहरों में फॉगिंग कराया जा रहा है। संक्रामक रोगों के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। लोगों को गर्म पानी पीना चाहिए।

-ईश्वर उल्लागड्डी, आयुक्त, हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर निगम
लोगों को किया जा रहा जागरूक

स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हर शुक्रवार को लोगों के घरों में जाकर लार्वा का सर्वेक्षण कर रहे हैं। लोगों को जागरूक किया जा रहा है।
-शशि पाटिल, जिला स्वास्थ्य अधिकारी, धारवाड़

ट्रेंडिंग वीडियो