ऑक्सीजन रिसाव : चिकित्सकों की सूझबूझ से बची 26 मरीजों की जान

कोविड वार्ड में भर्ती थे 31 संक्रमित, अस्पताल के सतर्क कर्मियों ने तुरंत चिकित्सकों को जानकारी, समय रहते दूसरे अस्तपालों को शिफ्ट किए गए मरी, बड़ा हादसा टला

By: MAGAN DARMOLA

Published: 23 May 2021, 09:53 PM IST

सिरसी-कारवार. अस्पताल के कर्मचारी तथा चिकित्सकों की सूझबूझ के कारण ऑक्सीजन के रिसाव से होने वाले बड़े हादसे से 26 रोगियों की जान बचाई गई। सिरसी स्थित पंडित सार्वजनिक अस्पताल के कोविड वार्ड में ऑक्सीजन पर उपचार चल रहे 26 रोगियों की जान बचाने में प्रशासन सफल हुआ है। अस्पताल के कोविड वार्ड में कुल 31 संक्रमितों को भर्ती किया गया था। उनमें 26 संक्रमितों को ऑक्सीजन बेडों पर चिकित्सा दी जा रही थी। उनमें स्वस्थ हुए रविवार डिस्चार्ज होने वाले 12 जनों में सिद्धापुर को 6 रोगी, मुंडगोड को 5 रोगी तथा यल्लापुर के तालुक अस्पताल को एक रोगी का स्थानांतरित किया गया है। 4 जनों को डिस्चार्ज कर दिया गया है। 10 जनों को ऑक्सीजन के वैकल्पिक लाइन से व्यवस्था कर चिकित्सा दी जा रही है।

अस्पताल में शुक्रवार देर रात्रि को बेडों को आपूर्ति होने वाले ऑक्सीजन आपूर्ति वाले नियंत्रक में रिसाव होते देख अस्पताल के कर्मियों ने तुरंत चिकित्सकों को इसकी जानकारी दी। जानकारी मिलते ही कार्यप्रवृत चिकित्सकों ने परिस्थिति की सूचना जिलाधिकारी को दी। उनके आदेश अनुसार शिपयार्ड के विशेषज्ञों से संपर्क किया है, परंतु शिपयार्ड विशेषज्ञों की ओर से कोई मदद नहीं मिलने पर स्थानीय तकनीकी विशेषज्ञों से संपर्क कर अस्थाई व्यवस्था की गई थी। ऑक्सीजन सिलेंडर से पाइपलाइन को ऑक्सीजन आपूर्ति नियंत्रित करने वाले नियंत्रक में रिसाव होने से समस्या हुई थी। रात से सुबह तक आवश्यकता से 5 ऑक्सीजन सिलेंडरों का अतिरिक्त उपयोग हुआ है।

शनिवार सुबह सिरसी उप विभागीय अधिकारी आकृति बंसाल, डीएचओ शरद नायक, सिरसी तालुक चिकित्सा अधिकारी डॉ. विनायक भट, सिरसी पंडित सार्वजनिक अस्पताल के प्रशासनिक अधिकारी डॉ. गजानन भट, डीवाईएसपी रवि नायक, सिरसी तहसीलदार एम.आर. कुलकर्णी, शिपयार्ड के तकनीकी कर्मचारियों ने मौके पर पहुंच कर समीक्षा की।

MAGAN DARMOLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned