childrens day और girl child education day पर इंदौर में हुए रोमांचक कार्यक्रम

रंगोली, स्कैचिंग और पेंटिंग से दिए सोशल मैसेज ...

childrens day and girl child education day celebration in indore

इंदौर . हमारे समाज में अशिक्षा, बालश्रम, दहेज, महिला शोषण जैसी कुरुतियां आज भी व्याप्त है। इन बुराइयों को खत्म करने के संदेश देने का एक खूबसूरत अंदाज सोमवार को देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ कम्प्यूटर साइंस में गर्ल चाइल्ड एजुकेशन डे और बाल दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम 'सृजनÓ में देखने को मिला।
स्टूडेंट्स ने अपनी अलग-अलग आर्ट के जरिए नो स्मोकिंग, नो ड्रिंकिंग, सेव गर्ल चाइल्ड, स्टॉप डॉवरी जैसे मैसेज दिए। कार्यक्रम में स्कैचिंग, फेस पेंटिंग, रंगोली जैसी अलग-अलग विधाओं के जरिए स्टूडेंटस ने लोगों को जागरूक करने के लिए मैसेज दिए।

स्टूडेंट्स ने अपने आर्ट में समाज में फैली बुराइयों का दर्द उजागर किया। फेस पेंङ्क्षटग के साथ चेहरे पर लिखे सोशल मैसेज कोट्स और बहते हुए आंसुओं से इन बुराइयों की वजह से होने वाली असहनीय पीड़ा दिखाई। इस सांस्कृतिक एवं अकादमिक कार्यक्रम का उद्देश्य बालिका शिक्षा के विषय में जागरूकता फैलाना एवं बाल श्रम को समाप्त करने की दिशा में एक कदम बढ़ाना था। आयोजन विभागाध्यक्ष डॉ. रेखा आचार्य एवं डॉ. आकांक्षा त्रिपाठी के मार्गदर्शन में किया गया।

childrens day and girl child education day celebration in indore

इग्नू शुरू करेगा दो नए कोर्स
इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी में दिसंबर में दो नए कोर्स सोलर जागरूकता व सोलर एप्लिकेशन इन वॉटर पंप कोर्स शुरू होंगे। यह कोर्स हिंदी व इंग्लिश के अलावा फ्रेंच व स्पेनिश भाषा में भी उपलब्ध होंगे। ८ दिसंबर को इन दोनों कोर्सेज की शुरुआत हो जाएगी। योग की शिक्षा देने के लिए यूनिवर्सिटी ने बेंगलूरु के एस.व्यासा विश्वविद्यालय के साथ करार किया है। इस करार के तहत सर्टिफिकेट कोर्स से लेकर पीएचडी तक के योगा कोर्सेज चलेंगे। इन कोर्सेज की शुरुआत जनवरी 2018 से होगी।

फिल्म समारोह में शिरकत करेंगे चतुर्वेदी
देश के सुप्रसिद्ध फिल्म लेखक एवं समीक्षक ब्रजभूषण चतुर्वेदी (बीबीसी) भारत के ४८वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में भाग लेने गोवा जाएंगे। बीबीसी के जीवन का यह ६१वां फिल्म समारोह होगा, जिसमें वे शिरकत करेंगे। वे विगत ६७ वर्षों से पत्रकारिता व फिल्म संसार पर लेखन से जुडे हुए हैं।

childrens day and girl child education day celebration in indore

उन्हें २००७ में दादा साहेब फालके सम्मान एवं हाल ही में बुक ऑफ रिकॉड्र्स का भी सम्मान मिला है। वे देश के एकमात्र एेसे फिल्म समीक्षक हैं, जिन्होंने १९५२ से लेकर २०१७ तक इफी एवं अन्य समारोहों में भाग लिया है। उन्हें कई राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned