तीन साल बाद भी आइआइटी नहीं चुका पाया साढ़े तीन लाख रुपए किराया

Abhishek Verma

Publish: Jun, 14 2018 07:15:25 PM (IST)

Indore, Madhya Pradesh, India
तीन साल बाद भी आइआइटी नहीं चुका पाया साढ़े तीन लाख रुपए किराया

आइइटी को खाली करते समय हुए नुकसान की भरपाई के लिए भी रिमाइंडर भेजेगी यूनिवर्सिटी

 

इंदौर.

देश के प्रमुख इंजीनियरिंग संस्थानों में शुमार आइआइटी (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी) अपना कैंपस पूरी तरह सिमरोल शिफ्ट होने के बावजूद अब तक देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी का कर्जदार बना हुआ है। आइआइटी के यूनिवर्सिटी पर साढ़े तीन लाख रुपए तो किराए के ही बकाया है। इसके अलावा आइइटी कैंपस खाली करते समय भवन को हुए नुकसान को भी जोड़ा जा रहा है। जल्द यूनिवर्सिटी प्रबंधन आइआइटी को बकाया चुकाने के लिए रिमाइंडर जारी करेगा।

आइआइटी इंदौर की पहली बैच २००९ से शुरू हुई थी। कैंपस के लिए सिमरोल में जमीन अलॉट हुई। वहां इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार होने तक यूनिवर्सिटी के आइइटी (इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी) के दो ब्लॉक किराए पर लिए गए। तब माना जा रहा था कि आइआइटी के माहौल का फायदा आइइटी के छात्र भी उठा सकेंगे। मगर, शुरुआत से ही आइआइटी और आइइटी में मतभेद रहे। २०१२ में ही आइआइटी को ये कैंपस खाली करना था। निर्माण में हुई देरी के कारण करार २०१४ तक बढ़ाया गया। इसके बावजूद सितंबर २०१५ तक आइआइटी का प्रशासनिक काम-काज आइइटी से चला। यूनिवर्सिटी प्रबंधन उस समय हैरान रह गया जब आइआइटी ने कैंपस खाली करते समय दीवारों पर लगी बिजली फिटिंग (वायरिंग) के साथ कई जगह पर परमानेंट वायर निकालने के लिए दीवारों को भी खोद दिया।

आइआइटी नहीं चुका पाया किराया

यूनिवर्सिटी के हिसाब से आइआइटी ने करीब साढ़े तीन लाख रुपए किराए के ही नहीं चुकाए है। इसके अलावा बिल्डिंग को हुए नुकसान की भरपाई के लिए भी पूर्व रजिस्ट्रार आरडी मूसलगांवकर ने आकलन कराया था। तब आइआइटी को पैसे जमा कराने के लिए रिमाइंडर देने का निर्णय भी हुआ। लेकिन, मूसलगांवकर के रिटायरमेंट के बाद जिम्मेदार हिसाब करना ही भूल गए। अब कुलपति प्रो.नरेंद्र धाकड़ ने आइइटी से हिसाब-किताब तलब किया है। कुलपति का कहना है कि आइआइटी को बकाया राशि जमा कराने के लिए पत्र भिजवाया जाएगा।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned