scriptDigvijay Singh said - preparing to sell land of agricultural college | दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, बिल्डरों के साथ मिलकर कृषि कॉलेज की जमीन को बेच रहे अफसर-नेता | Patrika News

दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, बिल्डरों के साथ मिलकर कृषि कॉलेज की जमीन को बेच रहे अफसर-नेता

राज्यसभा सांसद ने जमीन बिक्री नहीं करने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा।

 

 

इंदौर

Published: August 19, 2022 01:46:56 am

इंदौर. कृषि कॉलेज (Agriculture College) को बचाने की छात्रों की मुहिम में राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) व राष्ट्रीय किसान नेता भी शामिल हो गए हैं। सिंह ने कृषि कॉलेज की जमीन हड़पने को लेकर बन रही योजनाओं पर सवाल उठाए हैं। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान(Shivraj Singh Chouhan) को पत्र लिखकर प्रदेश कृषि कॉलेज की भूमि पर प्रस्तावित सिटी फॉरेस्ट और आक्सीजन जोन के प्रस्ताव को निरस्त करते हुए जमीन यथावत रखने के निर्देश शासन को देने की मांग की है। बता दें कि कॉलेज की जमीन बचाने को लेकर छात्र पिछले एक़ महीने से आंदोलन कर रहे हैं।
दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, बिल्डरों के साथ मिलकर कृषि कॉलेज की जमीन को बेच रहे अफसर-नेता
दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, बिल्डरों के साथ मिलकर कृषि कॉलेज की जमीन को बेच रहे अफसर-नेता
पत्र में आरोप लगाए कि जिला प्रशासन के कुछ अधिकारी, नेताओं और बिल्डरों से मिलकर जमीन बेचने की योजना बना रहे हैं। रेसीडेंसी एरिया व कॉलेज की जमीन में लगे हजारों पेड़ शहर को शुद्ध हवा दे रहे हैं, लेकिन भूमाफियाओं की बेशकीमती जमीन पर नजर है। इस जगह को व्यवसाय और वाणिज्य क्षेत्र के रूप में विकसित करने का प्रयास है।
महात्मा गांधी ने जैविक खाद का सराहा था

प्रदेश के किसान नेता केदार सिरोही (Kedar Sirohi) ने बताया कि महाविद्यालय के अनुसंधान केंद्र की भूमि पर जैविक खेती का कार्य सन 1905 से शुरू हुआ है। 23 अप्रैल 1935 को महात्मा गांधी ने कॉलेज परिसर स्थिति कम्पोस्ट खाद केंद्र पहुंचकर जैविक खाद के कामों की सराहना की थी। यहां शासन कोई भी योजना लाती है तो कृषि अनुसंधान, बीज उत्पादन, कृषि शिक्षा आदि प्रभावित होगें। राष्ट्रीय किसान नेता योगेंद्र यादव ने बताया कि मालवा की खेती पूरी दुनिया में सराही जाती है। कृषि कॉलेज किसानों की आशाओं का केंद्र है। इस धरोहर से किसानों को खेती को लाभ का धंधा बनाने की दिशा में मार्गदर्शन मिलता है।
प्रशासन ने बनाई है योजना
मालूम हो कि इंदौर के कृषि कॉलेज की जमीन को बेचने के लिए जिला प्रशासन ने तैयारी कर ली थी। इसकी जानकारी लगते ही पत्रिका ने इसे मुद्दा बनाकर लगातार खबरें प्रकाशित कीं। इसके बाद कॉलेज के छात्र-छात्राओं समेत शहर के प्रबुद्धजनों ने इसका विरोध किया। लोगों ने इसके खिलाफ सड़क पर उतरकर प्रदर्शन भी किया।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

5G IN INDIA: टेक्नोलॉजी के नए युग का आगाज, PM मोदी ने लॉन्च की 5G सर्विस, अब 10 गुना होगी इंटरनेट स्पीड5G IN INDIA: इन 13 शहरों में सबसे पहले मिलेगी 5G सर्विस, देखिये पूरी लिस्टIAEA में भारत ने चला ऐसा दाव, चीन ने पीछे खींचे अपने कदम, दुनिया कर रही तारीफगुजरात : AC और सिलेंडर ब्लास्ट से 4 लोगों की दर्दनाक मौत, 5 घायलसंयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस के खिलाफ अमरीका लाया प्रस्ताव, भारत सहित 4 देशों ने नहीं किया मतदानमैच के बाद टैनिस कोर्ट में भिड़े खिलाड़ी, जमकर हुई गाली-गलौज, सामने आया मारपीट का VIDEOयूक्रेनी क्षेत्रों को रूस में 'विलय' किए जाने की Speech में Putin ने क्यों लिया भारत और चीन का नाम?LPG cylinder price: कमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमतों में कमी, घरेलू LPG के दाम में राहत नहीं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.