‘मोदी के गले की हड्डी बन चुकी है सांसद प्रज्ञा ठाकुर, कैलाश को भी अब दर्द उठ रहा है...’

  • सांसद प्रज्ञा ठाकुर को मिले कथित जहरीले पत्र को लेकर मंत्री सज्जनसिंह वर्मा मुखर
  • बाबा रामदेव पर भी बरसे

By: हुसैन अली

Updated: 15 Jan 2020, 01:17 PM IST

इंदौर. सांसद प्रज्ञा ठाकुर को मिले कथित जहरीले पत्र को लेकर मंत्री सज्जनसिंह वर्मा मुखर हो गए हैं। उन्होंने सांसद प्रज्ञा को जहां मीडिया के बगैर नहीं रहने वाला बताया है, वहीं उन्होंने इंदौर आए बाबा रामदेव पर भी तंज कसा है।

‘मोदी के गले की हड्डी बन चुकी है सांसद प्रज्ञा ठाकुर, कैलाश को भी अब दर्द उठ रहा है...’

ऑपरेशन के बाद आराम कर रहे मंत्री वर्मा ने भोपाल सांसद को लेकर कहा है कि सांसद प्रज्ञा ठाकुर बगैर मीडिया के रह ही नहीं सकती हैं। कभी हवाई जहाज में करतब दिखाती हैं, कभी रास्ते पर पैर फैलाकर बैठ जाती हैं। कभी हेमंत करकरे जैसे शहीदों पर आरोप लगाती हैं। उन्हें हर 15 दिन में मीडिया में फोटो चाहिए। वो अब नरेंद्र मोदी के गले की हड्डी बन गई हैं। वहीं बाबा रामदेव को लेकर उन्होने कहा कि वे इंदौर आए थे, बोल रहे थे सीएए निर्णय अच्छा है, जीएसटी का निर्णय अच्छा है। नरेंद्र मोदी ने कुछ खास ‘समर्थक’ छोड़ रखे हैं जो उनकी गलतियों को सही बताने में जुटे रहते हैं।

कैलाश को उठ रहा है दर्द

‘मोदी के गले की हड्डी बन चुकी है सांसद प्रज्ञा ठाकुर, कैलाश को भी अब दर्द उठ रहा है...’

भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय द्वारा लगातार सरकार की मुहिम को लेकर दिए जा रहे बयान पर मंत्री वर्मा ने कहा कि, कैलाश को दर्द उठ रहा है कि जिन माफिया को 15 साल तक पाल पोसकर बड़ा किया वो जेल की सलाखों के पीछे जा रहे हैं। इसलिए कमलनाथ सरकार को झूठे प्रोपेगेंडा के जरिए बदनाम करने का काम कर रहे हैं।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को मिला है धमकीभरा पत्र

पिछले दिनों भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को एक धमकी भरा खत मिला है। यह पत्र उर्दू में लिखा हुआ था। इसे ट्रांसलेट करने के बाद चौंकाने वाली बातें सामने आई है। धमकी भरे खत में पाकिस्तानी आतंकी संगठन अनसारुल मुजाहिदीन का जिक्र है, जो प्रज्ञा ठाकुर को जहन्नुम पहुंचाने की बात कर रहा है। अनसारुल आतंकी संगठन ने लिखा है कि कहां से हैं, क्या करते हैं, ये सब नहीं सोचना। कुछ भी हमारे बारे में पता नहीं चलेगा। हम लोग हमेशा जान हथेली पर लेकर चलते हैं, तूने इंसानियत के खिलाफ बहुत जुल्म किए है। मालेगांव में मुसलानों की जान लेकर और सैकड़ों को जख्मी कर भी तेरा दिल नहीं भरा।

दस साल जेल में रही लेकिन अकल नहीं आई। जजों के सामने कैंसर की बीमारी बता तूने जमानत ले ली। अब जमानत पर बाहर आकर तुम ऐश कर रही है। लोगों के बीच नफरत पैदा कर रही और खुद को देशभक्त कहती है, असल में तू देशद्रोही है। जहन्नुम में पहुंचाना ही असली जेहाद है। तेरे जैसे लोगों को सबक सिखाने का फैसला किया है। कानून तूझे सजा दे या न दे, मगर अनसारुल मुसलामीन का जहन्नुम पहुंचाना असली काम है। नेक काम से जन्नत मिलेगी।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned