स्कूल की बस में नहीं थे ब्रेक और सवार थे दर्जन बच्चे, हुआ एक्सीडेंट

क्वींस कॉलेज की है बस, 12 साल तक के है बच्चे, स्कोर्पियों से टकराने के बाद रूकी बस

By: amit mandloi

Published: 19 Apr 2018, 04:12 AM IST

इंदौर.
डीपीएस स्कूल बस एक्सीडेंट में कई मासूम की जान चले जाने के बाद भी स्कूल प्रबंधन सीख नहीं ले रहे है। इसका ताजा उदाहरण बुधवार दोपहर करीब १२ बजे भंवरकुआं चौराहे पर देखने को मिला। बगैर ब्रेक के चल रही क्वींस कॉलेज की बच्चों से भरी बस रेड सिगनल में खड़े कई वाहनों से जा टकराई। बस ने सबसे पहले एक्टिवा सवार दो युवकों को टक्कर मारा था। ड्राइवर ने उनकों बचाने के चक्कर में आगे खड़ी स्कोर्पियों कार को पीछे से जमकर टक्कर मार दी। टक्कर इतनी तेज थी की स्कोर्पियों कार घसीटते हुए आगे खड़ी दूसरी कार से जा टकराई। दुर्घटना के बाद लोगों ने ड्राइवर को पकड़ा था। जब उसने जानते हुए भी बगैर ब्रेक की बस से बच्चों को घर छोडऩे की बात कहीं तो लोग आक्रोशित हो गई। एक्सीडेंट के बाद सभी बस में सवार सभी बच्चे रोने लगे। जिनके परिजनों से लोगों ने संपर्क किया। वहीं बस ड्राइवर को लोगों ने पुलिस के हवाले किया।

प्रत्यक्षदर्शी व एडवोकेट सीमा भाटिया ने बताया की वे भंवरकुआं चौराहे पर दोपहर करीब १२.१५ पर रेड सिगनल खुलने का इंतजार कर रही थी। उन्हें चौराहे से नवलखा के लिए टर्न लेना था। तभी उनके पीछे खड़ी शत्रुद्यन शर्मा की स्कोर्पियों कार उनकी कार के पिछले हिस्से से टकरा गई। कार क्षतिग्रस्त होने पर वे कार से उतर कर बाहर आई तो पता चला। स्कोर्पियों को क्वींस कॉलेज की स्कूल बस ने पीछे से टक्कर मारी थी। इस वजह से वह घसीटते हुए उनकी कार से टकराई है। वे वहां तो एक्टिवा सवार दो युवक रोड पर घायल थे। एक युवक बस के नीचे आ गया था। जिसे उन्होंने कई लोगों की मदद से बाहर निकलवाया था। बस में एक दर्जन से ज्यादा करीब १२ वर्ष की उम्र के स्कूली बच्चे बैठे थे। घटना के बाद सभी जोर से रोने लगे। उन्हें देखकर लोगों की भीड़ आक्रोशित हो गई। सभी ने ड्राइवर की कॉलर पकडऱ उसे ड्राइविंग सीट से उतरा। वह घबराकर कहने लगा की मैडम मेरी बस में तो ब्रेक ही नहीं है। मैने स्कूल प्रबंधन को भी इस बारे में सूचित किया था। लेकिन मजबूरन मुझे बच्चों को बगैर ब्रेक की बस से घर छोडने के लिए जाना पड़ा। इस पर लोगों ने उसे पुलिस के हवाले किया।

पुलिस से की सख्त कार्रवाई की मांग

पेशे से एडवोकेट भाटिया ने पुलिस थाने पहुंच टीआई शिवपाल सिंह कुशवाह को स्कूल प्रबंधन व बस ड्राइवर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। उन्होंने बताया की जब वे शिकायत कर रही थी तभी स्कूल प्रबंधन से एक युवक आकर उनसे बहस कर रहा था। वह मामले का सेटलमेंट करने की बात कर रहा था। स्कूल से आए युवक की यह बात सुन वकील ने उसे फटकार भी लगाई।

१ घंटे बच्चे होते रहे परेशान, सूचना मिलने पर घबराए परिजन मिलने पहुंचे
घटना के बाद सभी बच्चों को राहगीरों ने सुरक्षित बस से उतार लिया था। इस दौरान पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी। घायल हरिश के परिजन सूचना के बाद वहां पहुंचे थे। जिन्होंने कई बच्चों को ऑटो की मदद से उनके घर पहुंचाया था। वहीं सूचना के बाद कुछ बच्चों के परिजन घबराकर थाने पहुंचे थे। नाराज परिजन उन्हें अपने साथ ले गए।

पैर में फैक्चर व गंभीर चोट, ऑपरेशन करेंगे डॉक्टर

जीजा हरीश कोठे ने बताया की उनके ***** हरीश (२०) पिता जगदीश पगारे निवासी नर्मदा नगर साथी राहुल (२४) पिता सुरेश के साथ एक्टिवा से नर्मदा नगर स्थित घर से राजवाड़े स्थित जूते-चप्पल की दुकान जा रहे थे। राहुल एक्टिवा चला रहा था। भंवरकुआं पर रेड सिगनल होने पर दोनों वाहनों की कतार के पीछे सिगनल खुलने का इंतजार कर रहे थे। तभी पीछे से आ रही क्वींस कॉलेज की तेज रफ्तार बस उनसे टकरा गई। जिससे हरीश टकराकर रोड पर गिर गया। ड्राइवर ने उसे बचाने के चक्कर में स्टेयरिंग मोड़ दी थी। जिसके बाद बिना ब्रेक की बस आगे खड़ी स्कोर्पियों से टकराकर रूक गई थी। तेज टक्कर से स्कोर्पियों कार आगे खड़ी कार से टकरा गई थी। घटना में राहुल को मामूली चोट पहुंची है। गनीमत रही बस का टायर हरीश पर नहीं चढ़ा। दोनों को प्राथमिक उपचार के लिए निजी हॉस्पिटल ले गए थे। यहां राहुल को डिस्चार्ज किया है। वहीं हरीश के पूरे शरीर में चोट पहुंची है। उसके पैर में फैक्चर हुआ है। वहीं गंभीर चोट होने पर डॉक्टर ने ऑपरेशन की बात कही है।

केस दर्ज
पुलिस ने फरियादी बबलू पिता रामू झरने निवासी नर्मदा नगर की शिकायत पर क्वींस कॉलेज बस ड्राइवर आरोपित मोहन ५३ पिता जसवंत सिह निवासी तेजाजी नगर के खिलाफ केस दर्ज किया है। वहीं बस क्रमांक एमपी ०९ टी ५५०० को जब्त किया है। मामले में दोनों घायल के पुलिस बयान लेने की तैयारी में है।

 

amit mandloi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned