Sting Video : जेलरोड बन रहा ‘चोर बाजार’, धड़ल्ले से बिक रहे बिना बिल के मोबाइल

Sting Video : जेलरोड बन रहा ‘चोर बाजार’, धड़ल्ले से बिक रहे बिना बिल के मोबाइल
Sting Video : जेलरोड बन रहा ‘चोर बाजार’, धड़ल्ले से बिक रहे बिना बिल के मोबाइल

Hussain Ali | Updated: 12 Oct 2019, 02:42:28 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

  • खुलासा : मोबाइल बाजार में बिना बिल के व्यापार, चोरी के मोबाइल लेनदेन का अंदेशा
  • बिना नाम की चल रही कई दुकानें

भूपेन्द्र सिंह @ इंदौर. जेलरोड बाजार की असलियत खंगालने के लिए पत्रिका एक्सपोज ने यहां के कुछ दुकानों का स्टिंग किया तो बेखौफ होकर दुकानदार बिना जांचे-परखे कोई भी पुराने मोबाइल खरीदने के लिए तैयार थे। साथ ही बिना मूल बिल के मोबाइल बेच देते हंै। एक्सपोज रिपोर्टर ने जब एक दुकानदार को बिना बिल के अपना मोबाइल बेचने की बात कही तो वो दुकानदार तुरंत मोबाइल खरीदने को तैयार हो गया। इसके अलावा कुछ दुकानों पर पुराना मोबाइल खरीदने रिपोर्टर पहुंचा तो अधिकांश दुकानदारों के पास मोबाइल के मूल बिल ही नहीं थे। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है, यहां पर चोरी के मोबाइलों धंधा तेजी से पनप रहा है। यहां कई दुकानें बिना नाम के ही चल रही हैं।

चोरी के मोबाइल का व्यापार

आए दिन शहर में लोगों के मोबाइल चोरी-लूट होने की घटना सामने आती रहती है। इससे साफ जाहिर है कि एेसे मोबाइल कही न कही बिकते भी होंगे। जेलरोड पर मोबाइल का सबसे बड़ा व्यापार होता है। चोरी-लूट के यहां मोबाइल आसानी से यहां बेचे जा रहे हैं। साथ ही इनकी नए बिल के साथ खरीदी भी हो रही है।

छोटी-छोटी दुकानों का बड़ा खेल

जेल रोड पर कई व्यवसायिक इमारतें है। इमारतों में क्षमता से ज्यादा दुकानें बना ली गई है। बिल्डिंगों में कई पाॢटशन करके छोटी-छोटी दुकानें बनी देखी जा सकती है। तलघर और कई मंजिलों में सैकड़ों दुकानों पर मोबाइल का व्यापार होता है। इन दुकानों का किराया 25 से 50 हजार रुपए तक होता है। साथ ही एसी और मेंटनेंस के 5-10 हजार अलग से। ये दुकानदार इतनी कम जगह में इतना किराया दे पाते होंगे, इसका अंदाजा इनके काले कारनामों से लगाया जा सकता है।

Sting Video : जेलरोड बन रहा ‘चोर बाजार’, धड़ल्ले से बिक रहे बिना बिल के मोबाइल

स्टिंग : 1
रिपोर्टर : भैया ये मोबाइल बेचना है
दुकानदार : कितना पुराना है।
रिपोर्टर : करीब डेढ़ साल पुराना होगा। इसका चार्जर और बॉक्स है लेकिन बिल नहीं है।
दुकानदार : अभी लाए हो चार्जर और बॉक्स।
रिपोर्टर : हां गाड़ी में रखे हैं।
दुकानदार : कितने में देना है
रिपोर्टर : आप बताओं
दुकानदार : 4500 रुपए मिलेंगे।
रिपोर्टर : ज्यादा नहीं मिल सकते है।
दुकानदार : इतने ही मिलेंगे।
रिपोर्टर : लेकिन बिल नहीं है इसका
दुकानदार : कोई दिक्कत नहीं है। चार्जर और बॉक्स तो है न।
रिपोर्टर : हां
दुकानदार : चार्जर और बॉक्स ले आओ और बढ़ा दूंगा पैसे।
नोट : स्टिंग की ऑडियो और वीडियो पत्रिका के पास सुरक्षित है।

Sting Video : जेलरोड बन रहा ‘चोर बाजार’, धड़ल्ले से बिक रहे बिना बिल के मोबाइल

स्टिंग - 2
रिपोर्टर : ये मोबाइल कितने का है।
दुकानदार : 3800 रुपए का पड़ेगा।
रिपोर्टर : बॉडी वगैरह ओरिजनल है और चार्जर
दुकानदार : ओरिजनल है चार्जर भी दे दूंगा।
रिपोर्टर : इसका बिल
दुकानदार : ये बार कोड है, कंपनी में इसको स्कैन करवा लेना हो जाएगा काम।
रिपोर्टर : वो तो ठीक है लेकिन मोबाइल का पुराना (मूल) बिल।
दुकानदार : शॉप का बिल दे दूंगा। जिस कंपनी से इक_े मोबाइल आते हैं, उसका एक बिल है वो दिखा दूंगा।

Sting Video : जेलरोड बन रहा ‘चोर बाजार’, धड़ल्ले से बिक रहे बिना बिल के मोबाइल

स्टिंग - 3
रिपोर्टर : भैया एक छोटा मोबाइल लेना है
दुकानदार : कितने तक का।
(दुकानदार कुछ मोबाइल दिखाएं)
रिपोर्टर : कितने का है ये मोबाइल
दुकानदार : 5500 रुपए का
रिपोर्टर : इसका चार्जर वगैरह
दुकानदार : सब मिलेगा बिल भी देंगे।
रिपोर्टर : इस मोबाइल का पुराना (मूल) बिल चाहिए।
दुकानदार : नहीं वो नहीं शॉप का दूंगा बिल
रिपोर्टर : एेसे कैसे हो सकता है
दुकानदार : आइएमआइ नंबर से चलता है सबकुछ, ये देखो
रिपोर्टर : लेकिन इसका पुराना बिल कहां है।
दुकानदार : पुराना बिल हमारे पास रिकॉर्ड में रहता है। बिल आपको नहीं मिलेगा।
रिपोर्टर : किसी भी मोबाइल का बिल नहीं मिलेगा।
दुकानदार : हां किसी भी मोबाइल का पुराना (मूल) बिल नहीं मिलेगा। वारंटी आइएमआइ नंबर से क्लेम हो जाएगी।
रिपोर्टर : पुराने बिल की फोटो कॉपी दे दो
दुकानदार : नहीं भाई मेरी एक नाम से पांच दुकानें है। इधर-उधर रहते है बिल।

पुलिस की अनदेखी

जेल रोड पर आइएमआइ नंबर बदलने वाले गिरोह का भी खुलासा हो चुका है। इतने बड़े पैमाने पर इस बाजार में मोबाइल का व्यापार होता है, लेकिन पुलिस यहां की कभी निगरानी नहीं रखती है। यह क्षेत्र एमजी रोड थाने के अंतर्गत आता है। कुछ दूरी पर थाना है्र पर कभी पुलिस का अमला यहां दुकानों से बेचे जा रहे मोबाइल की जांच करने नहीं पहुंचता है। पुलिस की उदासीनता के चलते ही नियमों को ताक पर रखकर मोबाइल का व्यापार हो रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned