इंदौर के इतिहास में पहली बार इस तीर्थ स्थल पर जा रही स्पेशल ट्रेन, नाम भी रखा गया है रोचक

  • आचार्य विद्यासागर एक्सप्रेस में जाएंगे 1251 लोग
  • पर्यावरण को समर्पित डिस्पोजल मुक्त रहेगी यात्रा

इंदौर. दिगम्बर जैन समाज इंदौर के इतिहास में पहली बार 21 जनवरी को इंदौर से श्री सम्मेद शिखर जी की यात्रा स्पेशल ट्रेन से होगी। गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में होने वाली इस यात्रा में 1251 यात्री यात्रा करेंगे।
यह जानकारी देते हुए दिगम्बर जैन समाज सामाजिक संसद युवा प्रकोष्ठ के मार्गदर्शक नकुल पाटोदी और कोषाध्यक्ष पिंकेश टोंग्या ने बताया की ये यात्रा सामाजिक संसद इंदौर के अध्यक्ष नरेंद्र वेद जी की अध्यक्षता में होगी। इस स्पेशल ट्रेन का नाम समाज द्वारा आचार्य विद्या सागर एक्सप्रेस रखा गया है। इस ट्रेन की रेल विभाग से विधिवत अनुमति मिल गई है।

इंदौर के इतिहास में पहली बार इस तीर्थ स्थल पर जा रही स्पेशल ट्रेन, नाम भी रखा गया है रोचक

ट्रेन में 1 थर्ड ऐसी कोच के साथ 14 स्लीपर कोच 1 पेंट्री कोच और 2 एसएलआर के कोच सहित कुल 18 कोच शामिल किए हैं। 21 जनवरी को शाम साढ़े ७ बजे ये ट्रेन इंदौर से रवाना होगी। सभी यात्री 23 जनवरी को सुबह सम्मेद शिखर जी पहुंच जाएंगे। यात्रा की वापसी 26 जनवरी को शिखर जी से शुरू होगी जो की 27 जनवरी को समाप्त होगी।

इस तरह रहेगा यात्रियों का शेड्यूल

युवा प्रकोष्ठ के महामंत्री सुयश जैन, कार्याध्यक्ष गौरव पाटोदी और संगठन मंत्री राजीव जैन ने बताया कि 23 जनवरी को सम्मेद शिखर जी भगवान आदिनाथ जी का मोक्ष कल्याणक पर्व मनाया जाएगा। इस अवसर पर निर्वाण लाड़ू अर्पित किया जाएगा। इसके साथ ही पर्वत के नीचे स्थित सभी मंदिर के दर्शन किए जाएंगे। 24 जनवरी को पर्वत की वंदना की जाएगी। 25 जनवरी को गुणायतन मंदिर जी में संगीतमय श्रीसम्मेद शिखर जी विधान प्रदेश के ख्यात भजन सम्राट करण पाटोदी और उनकी टीम द्वारा कराया जाएगा। 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी। झंडा वंदन किया जाएगा और देश भक्ति के गीतों का आयोजन होगा।

डिस्पोजल मुक्त रहेगी ये यात्रा

वरिष्ठ उपाध्यक्ष विकास कासलीवाल, महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष अनामिका बाकलीवाल और महामंत्री रुचि गोधा ने बताया कि युवा प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों ने ये फैसला किया कि यह यात्रा पूरी तरह से डिस्पोजल मुक्त रहेगी। ट्रेन में सभी यात्रियों को पत्तल-दोने में भोजन और स्वल्पाहार दिया जाएगा। इसी तरह शिखर जी में भी पीने का पानी ताम्बे के लोठे में देंगे। इसके साथ ही अधिक संख्या में पर्वत पर हरियाली सदा बना रहे इसके लिए वहां जगह-जगह बीज रखे जाएंगे।

आचार्य श्री के सान्निध्य में होगी शुरुआत

आचार्यश्री विद्या सागर महाराज के शिष्य बाल ब्रह्मचारी सुनील भैया जी ने बताया कि जिस दिन 21 जनवरी को रात को ट्रेन इंदौर से रवाना होगी उसी दिन सभी यात्रियों को आचार्यश्री की विशेष पूजा का सौभाग्य मिला है। सभी 1251 यात्रियों को सुबह 8.30 बजे तिलक नगर में जहां आचार्यश्री और पूरा संघ विराजित है, वहां बुलाया गया है। वहीं पर महापूजा के साथ अन्य मांगलिक क्रिया यात्रियों द्वारा की जाएगी। इस अवसर पर मुख्य संघपति और मुख्य संयोजक परिवार द्वारा आचार्यश्री का पाद प्रक्षालन किया जाएगा।

हुसैन अली Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned