शादी के दो दिन पूर्व हार्डवेयर व्यापारी ने शिप्रा नदी में कूदकर की खुदकुशी

शादी के दो दिन पूर्व हार्डवेयर व्यापारी ने शिप्रा नदी में कूदकर की खुदकुशी
suicide

Krishnapal Singh Chauhan | Publish: Feb, 20 2019 06:02:04 AM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

शिप्रा थाना क्षेत्र का मामला, छह वर्ष पूर्व हुए छात्रवृत्ति घोटाले में मुख्य फरियादी है मृतक, रात को सूचना मिलते ही परिजन नदी किनारे पहुंचे, डेढ़ किलोमीटर दूर मिला शव

 

शादी के दो दिन पूर्व हार्डवेयर व्यापारी ने शिप्रा नदी में कूदकर खुदकुशी कर ली। घटना के कुछ घंटे पूर्व मृतक बाजार में खरीदारी करने के लिए निकले। रात में शिप्रा पुलिस ने परिजन को फोन पर मृतक के नदी में कूदने की सूचना दी। रात भर परिजन नदी में व्यापारी को तलाशते रहे। सुबह जब खोताखोर को शव मिला तो परिजन उसे देख बदहवास हो गए। मृतक के बारे में साथियों का कहना है की वे छह वर्ष पूर्व हुए छात्रवृत्ति घोटाले में मुख्य शिकायतकर्ता थे। मामले में कोई सुनवाई नहीं होने से वे परेशान चल रहे थे। इस बीच उनके पिता की मौत हो गई। संभवत: दोनों ही वजह से परेशान होकर उन्होंने यह कदम उठाया है।

टीआई मोहन जाट के मुताबिक मोहम्मद इमरान (२८) पिता इरशाद अंसारी निवासी नयापुरा, एमजी रोड ने सोमवार रात शिप्रा नदी में कूदकर आत्महत्या की है। घटना रात आठ बजे की है। थाने पर ब्रिज के समीप पंचर बनाने वाले से सूचना मिली। उन्होंने बताया कि बाइक खड़ी करने के बाद मृतक ने नदी में छलांग लगाई है। देर तक अपने स्तर पर मृतक को नदी में तलाशते रहे। फिर बाइक नंबर के आधार पर टीम ने रात दस बजे नयापुरा में रहने वाले मृतक के परिजन से संपर्क किया। सूचना के बाद परिजन घटनास्थल पर पहुंचे। अंधेरा अधिक होने पर नदी में युवक की सर्चिंग नहीं हो सकी। गमगीन परिजन रातभर नदी में अपने बेटे को तलाशते रहे। सुबह होते ही नदी में युवक की तलाश शुरू की। करीब डेढ़ किलोमीटर दूर शिप्रा स्टाप डेम के पानी में शव मिला। शव बरामद कर पीएम के लिए जिला हॉस्पिटल भेजा। यहां परिजन को पीएम के बाद शव सौंपा गया। मृतक ने जान किन वजहों से दी है इसका पता नहीं चल सका। जल्द इस संबंध मेंं गमगीन परिजन के बयान लिए जाएेंगे।

हल्दी लगने के पूर्व मां को बाजार से जूता खरीदने का कह कर निकला

परिचित व दोस्त करीम अंसारी ने बताया की इमरान की बुधवार को शादी होने वाली थी। सोमवार को पूरा परिवार उसकी शादी की तैयारी में जुटा रहा। शाम करीब ५ बजे उसने मां को बाजार से जूते खरीदकर लाने की बात कही। फिर वह अपनी बाइक से घर से निकल गया। मंगलवार को उसे हल्दी लगने वाली थी। कई घंटे तक वह घर नहीं पहुंचा। रात में पुलिस की सूचना से खुशियों का माहौल पलभर में मातम में बदल गया। सभी उसे तलाशने घर से निकले। एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद से ही मृतक अपने भाई इमरान के साथ रानीपुरा स्थित हार्डवेयर शॉप पर बैठने लगा। उनके परिवार में पिता की डेढ़ वर्ष पूर्व हार्ट अटैक से जान चली गई। मृतक अपने पिता को बहुत चाहते थे। उनके चले जाने के बाद से ही वह तनाव में रहने लगा। उनका बड़ा भाई आरीफ लिफ्ट लगाने का काम करते है।

मृतक ने किया था छात्रवृत्ति घोटाले का खुलासा

करीम अंसारी ने बताया की वे मृतक के खास दोस्त है। दोनों ने खंडवा रोड स्थित अरिहंत कॉलेज में एडमिशन लिया था। इसके लिए उन्होंने वहां अपने मृल दस्तावेज व मार्कशीट भी जमा करवाई। बाद में उन्हें पता चला की मृतक व उनका कॉलेज से रहस्यमय ढंग से रिकार्ड लेकर किसी ने छात्रवृत्ति पाने के लिए गलत इस्तेमाल किया है। आरोप है मृतक के दस्तावेज का किसी ने दुरूउपयोग कर बीएम इंजीनियरिंग कॉलेज व अन्य साथियों का प्रीतम इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन हो गया। बाद में उन्हें पता चला कि वहां उनकी २५ प्रतिशत अटैंडेंस भी दर्ज है। जबकि वे आज तक उन कॉलेज में गए तक नहीं। आरोप है तब भंवरकुआ पुलिस में शिकायत की। वहां से मामले में शिकायती आवेदन लेकर लौटा दिया गया। छात्रवृत्ति घोटाले में अनेक छात्रों के शिकार होने पर उन्होंने कोर्ट की शरण ली। अंसारी का कहना है की बाद में कोर्ट से मामले में केस दर्ज के आदेश हुए। आरोप है छह वर्ष होने आए लेकिन अब तक पुलिस ने मामले में कोई जांच की और न कोर्ट में चालान पेश किया। इस वजह से भी उनके साथी मो इमरान परेशान थे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned