एक बार में एक ही वस्तु का उपयोग कर सकते हैं, फिर क्यों उनका ढेर लगाते हैं

एक बार में एक ही वस्तु का उपयोग कर सकते हैं, फिर क्यों उनका ढेर लगाते हैं

Hussain Ali | Publish: Jul, 20 2019 03:51:41 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

रेसकोर्स रोड स्थित मोहता भवन पर उमड़ रहा श्रावकों का सैलाब

इंदौर. पद्मविभूषण आचार्य रत्न सुंदर सूरीश्वर ने शुक्रवार को समाजजन से पूछा उनके पास कितनी गाडिय़ां, कितने मोबाइल, कितनी साडिय़ां, कितने पेन और चश्मे रखे हैं, जबकि एक समय में इनमें से एक ही गाड़ी, मोबाइल, साड़ी, पेन और चश्मे का उपयोग हो सकता है। पता नहीं क्यों आप एक ही तरह की इतनी वस्तुएं घर में लाते रहते हैं। महिलाओं को भी शादी-ब्याह में पहुंचकर अपने गहनों और कपड़ों की तुलना दूसरों से करने में आनंद आता है।

must read : घर के बाहर खेल रही बच्चियों को कुत्तों ने किया लहूलुहान, चीख सुन क्रिकेट खेल रहे बच्चो ने की मदद

रेसकोर्स रोड स्थित मोहता भवन पर चल रहे चातुर्मासिक अनुष्ठान में आचार्यश्री ने यह बात कही। प्रारंभ में गुरुवंदना के बाद पारस बम, प्रकाश बडऩगर, पुखराज बंडी, नरेश भंडारी, महेंद्र बांगानी तथा चातुर्मास आयोजन समिति की ओर से विजय मेहता ने आचार्यश्री एवं साधु-साध्वी भगवंतों की अगवानी की। समिति के कल्पक गांधी एवं यशवंत जैन ने बताया आचार्यश्री के प्रवचन प्रतिदिन सुबह 9 से 10 बजे तक मोहता भवन पर होंगे। प्रवचन स्थल को श्रीभुवन भानुसूरी प्रवचन वाटिका नाम दिया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned