अनिल अंबानी के लिए आैर बढ़ीं मुश्किलें, अब 94 फीसदी कर्मचारियों ने छोड़ा साथ

अनिल अंबानी के लिए आैर बढ़ीं मुश्किलें, अब 94 फीसदी कर्मचारियों ने छोड़ा साथ

Ashutosh Verma | Publish: Jun, 14 2018 02:39:50 PM (IST) इंडस्‍ट्री

अनिल अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशंस में कर्मचारियों की भारी कमी आर्इ है। पहले जहां 52000 कर्मचारी कार्यरत थे वहीं आज केवल 3400 कर्मचारी ही कार्यरत हैं।

नर्इ दिल्ली। कर्ज में डूबी रिलायंस कम्युनिकेशंस(आरकाॅम) की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। आरकाॅम ने बताया है कि उसके कर्मचारियों की संख्या में करीब 94 फीसदी तक की कमी आर्इ है। कंपनी ने बताया कि एक समय में कंपनी में कर्मचारियाें की संख्या 52,000 थी लेकिन अब ये घटकर मात्र 3,400 हो गर्इ है। कंपनी ने कहा कि, "आरकाॅम समूह में कर्मचारियों की कुल संख्या उच्चतम स्तर पर 52,000 से घटकर 3,400 पर आ गर्इ है। " फीसदी में देखें तो इसमें कुल 94 फीसदी कमी आर्इ है।


जनवरी में कंपनी ने बंद किया था मोबाइल सेवा कारोबार

आपको बात दें कि इस साल जनवरी में कंपनी ने अपने मोबाइल सेवा कारोबार को बंद कर दिया था। फिलहाल आरकाॅम 'बी2बी'(बिजनस-टू-बिजनस) स्तर पर दूरसंचार सेवाएं दे रही है। कंपनी ने कहा कि बी2बी इकाई उद्योग में मौजूदा टैरिफ वाॅर से बचा हुआ है। आरकॉम ने यह भी कहा, "एयरटेल, आइडिया, वोडाफोन और हाल में ही लाॅन्च हुए रिलायंस जियो के बीच शुल्क में कटौती की होड़ से वायरलेस क्षेत्र में वित्तीय लेखाजोखा प्रभावित हुआ है। अब जब 18 जनवरी को आरकॉम बी2सी (बिजनस टू कस्टमर) सेवा से बाहर हो गई है, ऐसे में कंपनी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा।"

यह भी पढ़ें - एडवांस टैक्स जमा करने की अंतिम तिथि कल, जानिए इससे जुड़ी खास बातें

कभी 12 करोड़ हुआ करते थे आरकाॅम के ग्राहक

गौरतलब है कि एक समय एेसा भी था जब रिलांयस के 12 करोड़ ग्राहक थे। लेकिन अब आरकॉम के पास दुनियाभर में सिर्फ 35,300 बीटूबी ग्राहक है। इसके अलावा कंपनी के पास सबमरीन केबल कारोबार भी है। इसके पूरे विश्व में 300 ग्राहक हैं। यानी कि आरकॉम के पास अब पूरी दुनिया में केवल 35,600 ग्राहक हैं।


पिछले महीने ही खाली किया था हेडक्वार्टर

अभी पिछले ही महीने वित्तीय संकट से जूझ रही रिलायंस ग्रुप ने अपने बोझ को कम करने के लिए अपना मुंबई स्थित बलार्ड एस्टेट मुख्यालय रिलायंस सेंटर को खाली करा दिया था। जिसके बाद मुंबई मेें स्थित इस मुख्यालय को खाली कराने के बाद इसे औद्योगिक समूह ने सांताक्रूज स्थित दफ्तर से हेडक्वार्टर चलाने का फैसला लिया था।

Ad Block is Banned