जेट एयरवेज को फिर से उड़ान भरने में ब्रिटेन के ये दो अरबपति करेंगे मदद, भारत से है गहरा नाता

  • जेट एयरवेज में निवेश करने के लिए हिंदुजा ब्रदर्स ने स्टेकहोल्डर्स से बात की।
  • नरेश गोयल और हिंदुजा ब्रदर्स के बीच दो दशक से भी अधिक समय से दोस्ती।
  • एविएशन सेक्टर में कदम रखने के लिए हिंदुजा ब्रदर्स ने पहले भी दिखाई है रूचि।

नई दिल्ली। वित्तीय रूप से कंगाल होने के बाद अस्थायी तौर पर बंद हो चुकी जेट एयरवेज ( Jet Airways ) को अब भारतीय मूल के ब्रिटिश अरबपति हिंदुजा ब्रदर्स ( Hinduja Brothers ) का साथ मिलने जा रहा है। जेट एयरवेज को बचाने के लिए हिंदुजा ब्रदर्स को मुख्य स्टेकहोल्डर्स ( नरेश गोयल और एतिाहाद एयरवेज समेत) से सहमति मिल चुकी है। इस मामले से जुड़े कुछ लोगों के मुताबिक, हिंदुजा ब्रदर्स ने एसबीआई कैपिटल मार्केट की अगुवाई वाले बैंकर्स से इस बारे में बात कर लिया है और बहुत जल्द ही वो इससे जुड़ी जरूरी प्रक्रिया को शुरू कर देंगे।

यह भी पढ़ें - जेट एयरवेज की 'सीट' हासिल करने की जद्दोजहद, विदेशी फ्लाइट्स के बंटवारे पर एकमत नहीं एविएशन इंडस्ट्री

टाटा ने भी जेट एयरवेज में दिखाई थी रूचि

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, करीब दो दशक से भी अधिक समय से नरेश गोयल ( naresh goyal ) और हिंदुजा ब्रदर्स में बेहतर संबंध रहे हैं। हिंदुजा ब्रदर्स को उम्मीद है कि बैंक एक सीमित दायरे में कटौती करेंगे, जिसमें जेट पर करीब 12,000 करोड़ रुपए का कर्ज भी शामिल है। बता दें कि भारत की कई दिग्गज कंपनियों ने जेट एयरवेज के देनदारों समेत नरेश गोयल के बचाव से मना कर दिया है। शुरुआती दौर में टाटा समूह ने अपनी रूचि दिखाई थी, लेकिन थोड़े समय बाद ही उसने भी अपने हाथ पिछे खींच लिया।

यह भी पढ़ें - AMUL दूध की कीमतों में 2 रुपए प्रति लीटर का इजाफा, यहां जानिए क्या है नई दरें

एविएशन सेक्टर में कदम रखने के लिए हिंदुजा ब्रदर्स कर रहे हैं प्रयास

पहले भी देश के एविएशन सेक्टर ( Aviation Sector ) में हिस्सेदारी को लकेर हिंदुजा ब्रदर्स उत्सुक रहे हैं। कर्ज के बोझ में डूबी सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया ( air india ) की प्राइवेटाइजेशन की बात सामने आने के बाद भी हिंदुजा ब्रदर्स ने अपनी रूचि दिखाई थी। साल 1997 से लेकर 2000 के बीच भारत और शारजहां के बीच लुफ्तांजा एयरकार्गो के साथ भी हिंदुजा ब्रदर्स ने टाइ-अप किया था। हालांकि एविएशन सेक्टर से जुड़े कई जानकारों का मानना है कि जेट एयरवेज को बचाने में अभी भी समय लग सकता है, क्योंकि भावी निवेशकों को कई बातों को ध्यान रखना होगा।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

Show More
Ashutosh Verma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned