वोडाफोन के साथ मर्जर से पहले आइडिया जुटाएगी 6,750 करोड़ रुपए

वोडाफोन के साथ मर्जर से पहले देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी आइडिया मार्केट से 6,750 करोड़ रुपए जुटाएगी।

By: आलोक कुमार

Published: 04 Jan 2018, 07:14 PM IST


नई दिल्‍ली. वोडाफोन के साथ मर्जर से पहले देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी आइडिया मार्केट से 6,750 करोड़ रुपए जुटाएगी। कंपनी इसके बारे में गुरुवार को जानकारी दी। फंड जुटाने के प्‍लान के तहत आइिडया अपने प्रमोटर्स को 32.6 करोड़ शेयर जारी करेगी। ये शेयर 99 रुपए 50 पैसे प्रति शेयर के भाव पर जारी किए जाएंगे। इससे कंपनी 3,250 करोड़ रुपए जुटागी। इसके लिए बोर्ड से मंजूरी मिल गई है। इस डील के बाद आदित्‍य बिड़ला ग्रुपी की हिस्‍सेदारी आइडिया में 42.7 फीसदी से बढ़कर 47.2 फीसदी हो जाएगी। इसके अलावा 3500 करोड़ रुपए कंपनी बाजार में शेयर बेचकर, राइट्स इश्‍यू जारी कर और प्रीफेंशियल शेयर के जरिए जुटाएगी। इसके लिए कंपनी के बोर्ड ने डायरेक्टरों की कमिटी का गठन किया है।


तय समय से पहले हो सकता है मर्जर
इंडस्‍ट्री सूत्रों के मुताबिक आइडिया-वोडाफोन के बीच होने वाले मर्जर अब और पहले हो जाएगा। मर्जर के लिए पहले से तय सितंबर 2018 की समय-सीमा घटकर मार्च-अप्रेल 2018 हो सकती है। मैनेजमेंट को उम्मीद है कि मार्च-अप्रैल 2018 तक मर्जर के लिए जरूरी सभी अप्रूवल्स मिल जाएंगे। वोडाफोन इंडिया और आइडिया के विलय के बाद यह देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी हो जाएगी जिसके पास 40 करोड़ कस्टमर होंगे और रेवेन्यू मार्केट शेयर फीसदी होगा।


मार्च 2017 में मर्जर की घोषणा
वोडाफोन और आइडिया ने मार्च 2017 में दोनों कंपनियों के बीच 23 अरब डॉलर के मर्जर की घोषणा की थी। संयुक्त कंपनी में 4.9 फीसदी हिस्सेदारी आइडिया सेल्युलर के प्रमोटर्स को 3,874 करोड़ रुपए के कैश के बदले ट्रांसफर करने के बाद वोडाफोन के पास 45.1 फीसदी हिस्सेदारी होगी। कुमार मंगलम बिड़ला और आइडिया ग्रुप के अन्य प्रमोटर्स के पास 26 फीसदी और बाकी की हिस्सेदारी पब्लिक के पास होगी। इसके बाद ब्रिटेन की वोडाफोन समय के साथ कंपनी में अपनी हिस्सेदारी कम करेगी और इसके साथ ही आइडिया की हिस्सेदारी बढ़ेगी। इससे कंपनी में समान होल्डिंग की जाएगी।

आलोक कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned