चीन को टक्कर देने के लिए भारतीय रेलवे बनाएगा दुनिया की सबसे ऊंची रेल लाइन

इस रेल लाइन के बनने के बाद दिल्ली से लेह का सफर मात्र 20 घंटे में पूरा कर लिया जाएगा।

By:

Updated: 27 Oct 2018, 12:17 PM IST

नई दिल्ली। हर साल नए-नए कीर्तिमान बनाने वाला भारतीय रेलवे अब एक और वैश्विक कीर्तिमान बनाने जा रहा है। भारतीय रेलवे जल्द ही दुनिया की सबसे ऊंची रेल लाइन बनाने की योजना पर काम कर रहा है। यह रेल लाइन नई दिल्ली और लद्दाख रीजन को जोड़ेगी। इस योजना के तह बिलासपुर-मनाली लेह लाइन बनाई जाएगी और यह भारत-चीन सीमा के पास से होकर गुजरेगी। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस रेल लाइन के पहले चरण के लिए सर्वे पूरा कर लिया गया है। इस रेल लाइन के बनने से चीन सीमा पर होने वाली गतिविधियों से निपटने में सेना को भी मदद मिलेगी। साथ ही पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। खास बात यह है कि इस रेल लाइन पर मौसम का कोई असर नहीं पड़ेगा। आपको बता दें कि लद्दाख क्षेत्र में भारी बर्फबारी होती है। इस कारण सड़क और हवा यातायात भी प्रभावित हो जाती है।

 

सुरंगों से होकर गुजरेगी आधी रेल लाइन

मौसम की मार से बचाने के लिए इस रेल लाइन पर खास इंतजाम किए जाएंगे। इस रेल लाइन का आधे से ज्यादा हिस्सा सुरंगों से होकर गुजरेगा। इस रेल लाइन पर सबसे लंबी सुरंग 27 किलोमीटर की होगी। इस रेल लाइन पर 3000 मीटर की ऊंचाई पर सुरंग के भीतर भी रेलवे स्टेशन बनाया जाएगा। 465 किलोमीटर लंबी रेल लाइन में से करीब 244 किलोमीटर लाइन सुरंगों से होकर गुजरेगी। इस रेल लाइन के बनने के बाद बिलासपुर और लेह के बीच कई महत्वपूर्ण शहर रेल सेवा से जुड़ जाएंग, इनमें सुंदरनगर, मंडी, मनाली, कीलॉन्ग, कोकसार, कारू, डार्चा और उपशी जैसे शहर शामिल हैं। इस रेल लाइन के बनने के बाद दिल्ली से लेह तक का सफर मात्र 20 घंटे में पूरा किया जा सकेगा। दिल्ली से लेह तक जाने में करीब 40 घंटे का समय लगता है।

ये हैं खास बातें

- यह रेल लाइन समुद्र तल से 5360 मीटर ऊंची होगी।

- इस रेल लाइन की लंबाई 465 किलोमीटर होगी।

- इस रेल लाइन को बनाने में करीब 83360 करोड़ रुपए की लागत आएगी।

- 465 किलोमीटर लंबे इस रेल लाइन प्रोजेक्ट में कुल 74 सुरंगें बनाई जाएंगी।

- इस रेल लाइन के लिए 124 बड़े और 396 छोटे पुल बनाए जाएंगे।

- इस रेल लाइन पर कुल 30 रेलवे स्टेशन होंगे।

- इस समय चीन में तिब्बत तक बिछाई गई रेल लाइन सबसे ऊंची लाइन है। यह समुद्र तल से 2000 मीटर ऊंची है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned