परीक्षा के डर से भागे 134 मसाब, फिर देंगे परीक्षा

परीक्षा के डर से भागे 134 मसाब, फिर देंगे परीक्षा
134 Teaches runs away from fear of exam, take the exam

Mayank Kumar Sahu | Publish: Jun, 15 2019 12:36:33 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

मिडिल स्कूल भी आए लपेटे में, विभागीय परीक्षा से बना ली थी शिक्षकों ने दूरी, विभाग ने चलाया हंटर, शिक्षकों की दोबारा से ली जाएगी परीक्षा, सर्वाधिक कमजोर शिक्षक कुण्डम विकास खंड के, मिडिल स्कूल के शिक्षकों को परीक्षा में होना था शामिल, दो इंक्रीमेंट पहले ही रोक दिया गया

कहां कितने शिक्षक

कुण्डम - 33

सिहोरा - 27

शहपुरा - 24

पाटन-21

मझौली - 14

शहर ग्रामीण - 13

पनागर - 1

नगर दो - 1

जबलपुर।

स्कूलों की गुणवत्ता सुधार के लिए स्कूल शिक्षा विभाग मसाबों की परीक्षा आयोजित कर रहा है। लेकिन शिक्षक परीक्षा देने से भाग रहे हैं। जब लोक शिक्षण संचालनालय स्तर पर जांच की गई तो बड़ी संख्या में ऐसे शिक्षक सामने आए जो दक्षता परीक्षा में शामिल ही नहीं हुए। ऐसे शिक्षकों को दोबारा परीक्षा देने के लिए बुलाया जा रहा है। वहीं दूसरी और विभाग के अधिकारी यह कहकर खुद को बचाने की कोशिश कर तर्क दे रहे हैं कि असमंजस की स्थिति और सूचना के अभाव में शिक्षक परीक्षा में शामिल नहीं हो सके। जिले के 134 माध्यमिक स्कूलों के शिक्षकों को अब दोबारा से परीक्षा ली जा रही है। परीक्षा लेने से हडक़ंप की स्थिति है।

मिडिल स्कूलों में गिरी गाज

बताया जाता है दसवीं के खराब परीक्षा परिणाम वाले हाईस्कूलों के साथ मिडिल स्कूल भी चपेट में आ गए। इसकी वजह मिडिल स्कूलों में शिक्षकों द्वारा ठीक तरह से पढ़ाया न जाना है जिसके चलते हाईस्कूलों का परफारमेंस कमजोर साबित हुआ है। क्योंकि मिडिल स्कूल से प्रमोट होकर छात्र 9वीं कक्षा में प्रवेश लेता है। मिडिल स्कूलों में शिक्षकों द्वारा पढ़ाई से जी चुराने के चलते इसका असर हाईस्कूल में पड़ा।

60 स्कूल आए निशाने पर

सूत्रों के अनुसार हाईस्कूल के कैचमेंट एरिया से जुड़े 60 मिडिल स्कूलों के शिक्षक निशाने पर आए हैं। जो कि कक्षा 6वीं से 8वीं में अध्यापन कार्य कराते हैं। जिले में सबसे खराब स्थिति कुण्डम विकासखंड की है जहां सर्वाधिक 33 शिक्षक शामिल हैं। इन शिक्षकों को 15 जून को दोबारा परीक्षा में आयोजित होने के सख्त आदेश दिए गए हैं। डीपीआई ने भी इन शिक्षकों की दो वेतनवृद्धि रोकने के लिए आदेश दिए हैं जिससे शिक्षकों में हडक़ंप की स्थिति है।

-खराब परिणाम को लेकर आयोजित विभागीय परीक्षा में कुछ शिक्षक किन्हीं कारणों से शामिल नहीं हो सके थे। ऐसे शिक्षकों को दोबारा परीक्षा में बुलाया गया है।

-सुनील नेमा, जिला शिक्षा अधिकारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned