ऑर्डनेंस फैक्ट्री के फिलिंग सेक्शन में विस्फोट, भड़की भीषण आग

मैग्नीशियम पावडर में लगी आग को देर रात काबू करने में जुटी थी फायर ब्रिगेड, फैक्ट्री में मची अफरा-तफरी

By: shivmangal singh

Published: 19 Mar 2020, 01:22 AM IST

जबलपुर. ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया (ओएफके) के फिलिंग सेक्शन 2 की बिल्डिंग में बुधवार रात में लगभग 8:15 बजे जोरदार विस्फोट हुआ और आग लग गई। विस्फोट मैग्नीशियम पावडर में आग लगने से हुआ। इस हादसे में एक बिल्डिग पूरी तरह खाक हो गई। आग इतनी भीषण थी कि रात लगभग 12 बजे तक फायर ब्रिगेड उस पर काबू पा सकी थी। फैक्ट्री के महाप्रबंधक रविकांत माहेश्वरी और सुरक्षा अधिकारी मौके पर मौजूद थे। घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं।
फिलिंग सेक्शन दो की बिल्डिंग नम्बर 147 में एस-243 और बीटी-4 कंपोजीशन बनाया जाता है। इसमें मैग्नीशियम पावडर का इस्तेमाल होता है। यहां पर दिन की पाली में काम हुआ था लेकिन रात की पाली में काम बंद था। रात में लगभग 7:30 बजे पहले विस्फोट हुआ। इसकी आवाज सुनते फायर ब्रिगेड का अमला पहुुंचा और सर्चिंग की। करीब 45 मिनट बाद फिलिंग सेक्शन की बिल्डिंग में दूसरा जोरदार धमाका हुआ और आग की लपटे निकलने लगीं। बिल्डिंग में बड़ी मात्रा में रखे मैग्नीशियम पावडर में आग लग चुकी थी। बिल्डिंग पूरी तरह से नष्ट हो गई। फायरकर्मियों की सक्रियता से आग दूसरी बिल्डिंगों में नहीं फैल सकी। अमले ने तुरंत 802 बिल्डिंग सहित आसपास की दूसरी बिल्डिंगों को खाली कराया। सूचना मिलने पर रांझी एसडीएम मनीषा बास्कले भी मौके पर पहुंचीं। सांसद राकेश सिंह ने दिल्ली से ही इस मामले में कलेक्टर से भरत यादव से चर्चा की।

क्षमता से अधिक पावडर
मैग्नीशियम पावडर का इस्तेमाल बमों की बारूद में किया जाता है। सूत्रों का कहना था कि यहां पर क्षमता से अधिक पावडर रखा था। इसी के चलते ये हादसा हुआ। ऐसी जानकारी है कि एचएटी और एपीआईटी सेल का पूरा पावडर खाक हो गया। चूंकि मार्च में लक्ष्य पूरा करने का दबाव होता है, ऐसे में संरक्षा नियमों की अनदेखी की आशंका रहती है। बताया जा रहा है कुछ दिन पहले एक टीम ने अतिरिक्त स्टॉक को लेकर हिदायत दी थी।

टीईसी पावडर का नहीं हो सका छिड़काव
बारूद में लगी आग की लपटें इतनी तेज थी कि फायरकर्मियों का वहां पहुंचना कठिन रहा। जानकारों ने बताया कि इस प्रकार बारूद या बमों में आग को बुझाने के लिए एक बेहद संवेदनशील टर्नरी यूटेक्टिक क्लोराइड (टीईसी) बेस पावडर की आवश्यकता होती है। यह पावडर तो फैक्ट्री में था लेकिन उतनी मात्रा में नहीं था। इसके छिड़काव के लिए जगह के साथ-साथ उपकरण की कमी दिखी। इससे फायरकर्मी चाहकर भी कुछ नहीं कर सके।

वर्जन.....

फिलिंग सेक्शन-2 की बिल्डिंग नम्बर 147 में आग लगी। यहां रखा मैग्नीशियम पावडर नष्ट हुआ है। इसी प्रकार बिल्डिंग को क्षति पहुंची है। आग पर काबू करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। घटना के कारणों की जांच कराई जाएगी।

अमित सिंह, जनसंपर्क अधिकारी ओएफके

shivmangal singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned