Dangers : बारूद के ढेर पर बैठकर बच्चे पहुंच रहे शिक्षा के मंदिर

Dangers : बारूद के ढेर पर बैठकर बच्चे पहुंच रहे शिक्षा के मंदिर
danger, Illegal gas kit, Ignoring traffic rules, Traffic police action, Gas kit van seized

Tarunendra Singh Chauhan | Updated: 10 Jul 2019, 03:32:09 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

पैसे बचाने गैस किट से चला रहे स्कूल वैन

जबलपुर. शहर में वैन संचालकों की मनमानी रुकने का नाम नहीं ले रही। मंगलवार को पेंटीनाका में एक ऐसी वैन को ट्रैफिक पुलिस ने पकड़ा, जिसमें 16 बच्चे बैठे थे। पीछे के पांच बच्चों को गैसकिट के ऊपर लगी सीट पर बिठाया गया था। शहर में 2500 के लगभग वैन स्कूली वाहन के तौर पर अनधिकृत तौर पर संचालित हैं। अधिकतर गैसकिट से संचालित हैं। ज्वलनशील होने के बावजूद इसमें स्कूली बच्चों को बिठाया जा रहा है। ट्रैफिक पुलिस ने बच्चों को घर भिजवाने के बाद वैन को जब्त कर लिया। ट्रैफिक एएसपी अमृत मीणा ने अभिभावकों से अनुरोध किया कि वे अपने मासूमों को इस तरह के वाहनों में न बिठाएं। बुधवार से ट्रैफिक पुलिस वैन के खिलाफ अभियान शुरू करते हुए कार्रवाई करेगी। सुबह सात बजे से अलग-अलग स्कूलों में जाकर औचक चैकिंग होगी। लगातार चेकिंग के बाद भी वैन चालक मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं। वह गैस किट लगी वैन में बच्चों को स्कूल ले जा रहे हैं।

गैस किट लगी वैन में कभी भी बड़ा हादसा होने की आशंका बनी रहती है। इस बात से चालक और बच्चों के अभिभावक दोनों ही अनभिज्ञ बने हुए हैं। इसके कारण बच्चों की जान से खिलवाड़ का सिलसिला रुक नहीं पा रहा है। इस समस्या से निपटने की जिम्मेदारी केवल यातायात पुलिस की नहीं है बल्कि बच्चों के माता-पिता की भी है। वह बच्चों को जिस वाहन में भेज रहे हैं, उसकी स्थिति का जायजा लेना जरूरी होता है। ताकि बच्चे घर से स्कूल और स्कूल से घर तक सुरक्षित सफर कर सकें।

नाबालिग मिले बाइक चलाते
शहर में सडक़ हादसों में कमी लाने के लिए नाबालिग द्वारा वाहन चलाने को लेकर चलाए जा रहे अभियान के अंतर्गत मंगलवार को तीन पत्ती पर 15 नाबालिगों को पकड़ा गया। मौके पर उनके अभिभावकों को बुलाकर चालान बनाया गया। नाबालिगों के साथ उनके अभिभावकों की काउंसलिंग भी की गई। ट्रैफिक पुलिस 16 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों की लर्निंग लाइसेंस बनाने के लिए भी जागरुकता अभियान चला रही है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned