बारिश में ही मिलती है महाकौशल की ये फेमस चटपटी डिश

फेमस चटपटी डिश

By: deepak deewan

Published: 18 Jul 2018, 04:47 PM IST

जबलपुर. शहर में दो दिनों से हो रही झमाझम ने पूरा माहौल ही बदल दिया है। लोगों को लग रहा है कि अब वाकई बारिश शुरु हो चुकी है। तेज बारिश नहीं हो पाने के कारण गर्मी और उमस से परेशान हो रहे शहरवासी अब बरसात के रंग में रंग गए हैं और बारिश का पूरा आनंद उठाना चाहते हैं। पानी गिर रहा हो और कहीं आ-जा नहीं पा रहे हों तो फिर केवल एक ही ख्याल आता है, कुछ चटपटा खा लिया जाए। बारिश के सीजन में तो चटपटा खाने का मन कुछ ज्यादा ही करता है। गर्म-गर्म डिशेज मुंह में पानी ला देती हैं। खास तौर पर रोड साइड फूड कॉर्नर में मिलने वाले चटपटे व्यंजन इस सीजन में हर इंसान का मन खींच लेते हैं। यही वजह है कि इस सीजन में सबसे ज्यादा फूड कॉर्नर गुलजार हो चुके हैं और वहां फूडीज की पहुंच हो रही है। इस सीजन में सबसे ज्यादा चाय, पकौड़े पसंद किए जाते हैं। इसके साथ ही भेलपुरी, गरम समोसे का स्वाद भी खूब लिया जा रहा है। शहर की तंग गलियों में भी छोटे-छोटे फूड कॉर्नर गुलजार हैं। खासतौर पर शहर के शॉपिंग जोन, गार्डन के बाहर, कॉलेज के बाहर एरिया में फूड लवर्स के लिए खाने की नई वैरायटी मौजूद है।


कॉलेज के बाहर के फूड आइटम्स
कॉलेज के बाहर कई फूड स्टॉल्स गुलजार हो गए हैं, जहां चाट, पानी पुरी, मोमोज समेत अन्य चीजें भी मिलती हैं। ऐसे में स्टूडेंट्स कॉलेज छूटने के बाद यहां पहुंचते हैं और बारिश में चटपटे व्यंजनों का लुत्फ उठा रहे हैं।


चटपटे भुट्टो का स्वाद
कटंगा से लेकर सदर पेट्रोल पंप तक कई तरह की दुकानें लग गई हैं। इनमें सबसे ज्यादा भुट्टों के ठेले लगे हुए हैं, जो आने वाले जाने वाले तमाम लोगों का ध्यान खींच लेते हैं। चटपटे भुट्टे महाकौशल की फेमस डिश बन गए हैं। विशेष बात यह है कि यह चटपटी डिश बारिश में ही मिलती है इसलिए इसका स्वाद लेने के लिए लोग बेकरार रहते हैं। ये चटपटे भुट्टे खाने खाने के लिए लोग इनके अड्डों पर पहुंचते हैं। देसी भुट्टों के साथ-साथ यहां अमेरिकन स्वीट कॉर्न भी दिए जा रहे हैं। केवल सिके भुट्टे ही नहीं, स्वीट कॉर्न चाट भी लोगों के लिए यहां मौजूद है। शाम होते ही भुट्टे खाने वालों की भीड़ लगती है।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned