scriptHearing in virtual mode 69 percent during the Corona period | कोरोना काल में 69 फीसदी दिनों तक वर्चुअल मोड में सुनवाई | Patrika News

कोरोना काल में 69 फीसदी दिनों तक वर्चुअल मोड में सुनवाई

जबलपुर हाईकोर्ट : महज 31 प्रतिशत ही हुई भौतिक सुनवाई, 153 दिनों के बाद तीसरी बार फिर बंद

 

 

जबलपुर

Updated: January 21, 2022 08:12:46 pm

जबलपुर। कोरोना के चलते मप्र हाईकोर्ट जबलपुर की कार्रवाई पर खासा असर पड़ा है। तीसरी लहर की वजह से एक बार फिर 10 जनवरी से हाईकोर्ट में भौतिक सुनवाई बंद हो गई और कोर्ट वर्चुअल मोड पर आ गई। बीते दो सालों में यह तीसरा मौका है, जब भौतिक सुनवाई बंद की गई और कोर्ट का पूरा कामकाज वर्चुअल हो रहा है। इस दौरान हाईकोर्ट ने 69 फीसदी कार्य दिवस वर्चुअली काम किया, जबकि महज 31 फीसदी दिन ही भौतिक सुनवाई हो सकी। इस वजह से बड़ी संख्या में लम्बित व अहम मामलों की सुनवाई प्रभावित हुई।
17 मार्च 2020 को पहली बार बंद हुई थी
जबलपुर में कोविड लॉकडाउन शुरू होने के साथ ही 17 मार्च, 2020 से हाईकोर्ट व जिला अदालतों में भौतिक सुनवाई बंद कर दी गई थी। इसके स्थान पर वीडियो कॉन्फे्रंसिंग के जरिये महत्वपूर्ण प्रकृति के सीमित सुनवाई की व्यवस्था दी गई थी। कोविड का प्रकोप कम होने पर हाईकोर्ट में सीमित भौतिक सुनवाई का प्रयोग भी किया गया। हाईकोर्ट में भौतिक के साथ-साथ ऑनलाइन फाइलिंग की व्यवस्था रखी गई थी। हाईकोर्ट की मुख्यपीठ जबलपुर एवं इंदौर व ग्वालियर खंडपीठों में पूरे 335 दिनों बाद 15 फरवरी 2021 से भौतिक सुनवाई आरम्भ की गई थी। 11 माह बन्द रहने के बाद मप्र हाइकोर्ट में बमुश्किल भौतिक सुनवाई आरम्भ हुई, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के चलते महज 52 दिनों बाद ही 7 अप्रेल को फिर बन्द करनी पड़ गई।
120 दिन बाद फिर लौटी रौनक
पूरे 120 दिन बाद 9 अगस्त 2021 को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के परिसर में पुरानी रौनक लौट आयी। हाइकोर्ट की तीनों बेंचों में भौतिक सुनवाई शुरू हो गई। इस दौरान केवल उन्ही वकीलों को कोर्ट रूम के अंदर प्रवेश दिया गया, जिनके मामलों में सुनवाई होनी थी। हाईकोर्ट की मुख्यपीठ जबलपुर के गेट नम्बर तीन को वकीलों के प्रवेश के लिए खोल दिया गया। अगस्त से कोर्ट लगातार भौतिक सुनवाई करती रही। लेकिन नए साल में कोरोना संक्रमण की रफ्तार फिर तेज होते ही कोर्ट में कर्मियों, अधिकारियों का संक्रमित होना शुरू हो गया। इसे देखते हुए 153 दिनों बाद फिर एक बार भौतिक सुनवाई बंद कर कोर्ट वर्चुअल मोड में आ गई।
ज्यादा अंतर नहीं
वर्चुअल सुनवाई की व्यवस्था के तहत सुने जा रहे मामलों की संख्या में भौतिक सुनवाई की तुलना में अधिक फर्क नही नजर आ रहा है। मुख्यपीठ जबलपुर में प्रतिदिन लगभग 800-1000 मामलों की ऑनलाइन सुनवाई की जा रही है। यह आंकड़ा हाइकोर्ट में प्रतिदिन औसतन सुने जाने वाले मामलों की संख्या के लगभग बराबर है।

High court
High court

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Constable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाब30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नियुक्त किया नया पीएमSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोल'हिन्दी' बॉक्स ऑफिस पर 'बादशाहत': दक्षिण की फिल्मों का धमाल बॉलीवुड के लिए कड़ी चुनौतीHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हलHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.